Adrak Ki Kheti Kaise Karen

Adrak Ki Kheti Kaise Karen

अदरक भारत में एक महत्वपूर्ण मसाला फसल है अदरक मुख्य रूप से एक उष्णकटिबंधीय फसल है। भारत अदरक उत्पादन में अग्रणी है। यह दक्षिण और पूर्वी एशिया में भारत या चीन में दिखाई दे सकता है। अदरक के प्रमुख उत्पादक राज्य कर्नाटक, उड़ीसा, अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय और गुजरात हैं।

Adrak Ki Kheti Kaise Karen

अदरक का उपयोग प्राचीन काल से मसाले, ताजी सब्जी और औषधि के रूप में किया जाता रहा है। अदरक की खेती भी किसानों के लिए एक आकर्षक अनुबंध है। इसकी खेती में अपार ऊर्जा होती है। अगर आप अधिक लाभदायक खेती करना चाहते हैं तो अदरक की खेती आपके लिए सबसे अच्छा विकल्प है।

अदरक की उन्नत खेती के लिए जलवायु

अदरक की अच्छी पैदावार के लिए मौसम थोड़ा गर्म और सुहावना होना चाहिए। अदरक की खेती करते समय, अदरक के बंडलों को जमीन में जमने के लिए थोड़ी बारिश की जरूरत होती है। अगर जल्दी बारिश हो जाती है, तो यह साल भर फसल के लिए उपयोगी होगी। अदरक की अच्छी पैदावार के लिए 20 से 30 डिग्री तापमान उपयुक्त होता है। इससे अधिक तापमान फसल को नुकसान पहुंचा सकता है।

भूमि को चयन और तैयार करना

आप चाहें तो अदरक की खेती किसी भी प्रकार की भूमि में कर सकते हैं, लेकिन उचित जल निकासी वाली मिट्टी अदरक की खेती के लिए उपयुक्त मानी जाती है। अदरक की खेती के लिए मिट्टी का pH 5.6 से 6.5 होता है जो उपज के लिए अच्छा होता है। हर साल एक ही जमीन पर अदरक न उगाएं। एक ही भूमि पर पुन: फसल लगाने से मृदा जनित रोगों और कीटों का प्रभाव बढ़ गया है।

इसकी खेती के लिए मार्च-अप्रैल के महीनों में खेत को धूप में खुला छोड़ देना चाहिए और मिट्टी लौटाने वाले हल से जुताई करनी चाहिए। इसके बाद मई में रोटावेटर या डिस्क हैरो से जुताई करने पर मिट्टी मुड़ जाएगी। इसके बाद गाय के गोबर की तरह सड़े हुए गोबर को खेत में डाल कर जोताई करके समतल कर दिया जाता है। सिंचाई के लिए खेत को छोटे-छोटे क्यारियों में बाँट देना चाहिए।

अदरक की खेती के लिए बुवाई का समय

अदरक को फरवरी से मई तक बोया जा सकता है, लेकिन मार्च से अप्रैल का समय अच्छी उपज के लिए उपयुक्त होता है। 15 जून के बाद बोए गए कंद सड़ने लगेंगे और अंकुरण से प्रभावित होंगे। मन की मिट्टी में पीएच 6.0 से 7.5 पर अदरक सबसे प्रचुर मात्रा में होता है। अदरक की खेती के लिए उंची भूमि और जल निकासी की उचित व्यवस्था की आवश्यकता होती है।

अदरक की खेती के लिए बीज चयन एवं रोपाई

मध्यम आकार के बीज प्रकंद 20-25 ग्राम वजन और 2-3 आंखों वाले कंदों का चयन करें। बीज प्रकंद स्वस्थ और रोगों और कीटों से मुक्त होना चाहिए।

18-20 क्विंटल प्रति हेक्टेयर कंद की आवश्यकता होती है। 2.5 ग्राम इंडोपिल एम-45 और 1.50 ग्राम वेबस्टीन या रिदम को 2 से 2.5 ग्राम प्रति लीटर पानी की दर से कंदों में मिलाकर 2.5 ग्राम प्रति लीटर पानी का घोल बनाकर आधे घंटे के लिए रख दें। एक पैन में मिट्टी की गहराई, जो जड़ने में बाधा डालती है, 3-4 सेमी है। अदरक को सीधी बुवाई और अंकुर द्वारा बोया जा सकता है।

रोपण के बाद शीशम या अन्य सामग्री की हरी पत्ती को एक मोटी परत बिछाकर ढक देना चाहिए। इससे मिट्टी की नमी बनी रहती है और कंदों का अंकुरण सामान्य रूप से होता है और अंकुरण को मजबूत जोखिम से बचाया जाता है। साथ ही खरपतवार भी कम निकलते हैं और पैदावार अधिक होती है।

अदरक की खेती के लिए सिंचाई

अदरक की खेती में नमी बनाए रखना जरूरी है। नमी बनाए रखने के लिए बुवाई के बाद पहली सिंचाई करनी चाहिए। इसके बाद नमी बनाए रखने के लिए आवश्यकतानुसार पानी दें। सर्वोत्तम परिणामों के लिए ड्रिप सिंचाई या ड्रिप सिंचाई का उपयोग किया जा सकता है। अदरक का व्यापक रूप से शाकनाशी के रूप में उपयोग नहीं किया जाता है क्योंकि यह एक लंबी फसल है और रोपण से पहले या तुरंत बाद छिड़काव करने से अच्छे परिणाम नहीं मिलते हैं।

अदरक में लगने वाले रोग

 प्रकंद का सड़ना – अदरक की खेती में यह सबसे महत्वपूर्ण रोग है, जिसमें अदरक के पत्तों का रंग हल्का बदलने लगता है और पत्तियां पीली पड़ने लगती हैं। इस रोग का मुख्य कारण बीजों का सही ढंग से उत्पादन न कर पाना है। इस रोग में हमें ऊपर से कंद दिखाई देते हैं, लेकिन वे अंदर से पूरी तरह खराब हो जाते हैं। इस रोग से बचने के लिए बीज तैयार करते समय हमने ऊपर बताया कि आधे घंटे के लिए उस घोल में अवश्य डालें।

 पीत रोग – अदरक की खेती में पीलिया फसल को नुकसान पहुंचा सकता है और इस रोग में पत्तियां पीली पड़ने लगती हैं, लेकिन पौधे से पत्तियां नहीं गिरतीं, पौधा धीरे-धीरे मुरझा जाता है और अंततः मुरझा जाता है। यह रोग अक्सर मिट्टी के अंदर उच्च तापमान, उच्च आर्द्रता और उच्च आर्द्रता के कारण होता है।

अदरक की उन्नत किस्में

अदरक की किस्मों को ट्यूमर के रंग और अदरक में फाइबर और पौधों के घटकों की वृद्धि के अनुसार वर्गीकृत किया जाता है। आमतौर पर भारत में केवल स्थानीय किस्मों का ही उत्पादन किया जाता है

  • सुप्रभा :- इस प्रकार के अदरक में दरार पड़ने की संभावना अधिक होती है। इसके प्रकंद लंबे अण्डाकार सुझावों के साथ चमकीले भूरे रंग के होते हैं। इसमें से 1.9 फीसदी तेल, 4.4 फीसदी फाइबर और 8.91 फीसदी अच्छा तेल है।
  • सुरुची :- यह अदरक की अधिक उपज देने वाली किस्म है। इसके प्रकंद हरे-पीले रंग के होते हैं, जिनमें 3.8% फाइबर, 2% तेल और 10% आवश्यक तेल होता है। इसमें बीमारियां कम होती हैं।
  • सुरभी :- यह प्रकार उत्परिवर्तन द्वारा बनाया गया था। यह अधिक उपज देने वाली किस्म है। इसके प्रकंदों में 4% फाइबर और 2.1% तेल पाया जाता है। प्रकंद बड़ी संख्या में बनते हैं, त्वचा का रंग गहरा और चमकदार होता है।

इसे भी पढ़े:

अदरक की खेती के लिए उपज एवं भंडारण

अदरक की फसल आमतौर पर 8-9 महीने में तैयार हो जाती है और जब पौधे की पत्तियाँ पीली पड़ने लगे तो उसे खोदना चाहिए। जिन क्षेत्रों में पाला नहीं पड़ता है, वहां आप कुछ दिनों के बाद भी खुदाई कर सकते हैं। खुदाई के बाद 2-3 दिन छाया में सुखाएं। प्रति हेक्टेयर औसतन 100 से 150 क्विंटल पैदावार होती है। ऐसी स्थिति में तोड़ा हुआ अदरक अधिक समय तक अच्छी स्थिति में नहीं रहेगा।

 यह स्थिति तब होती है जब अदरक कठोर, कम कड़वा और कम रेशेदार होता है, इससे पहले कि इसे ताजा उपज का उत्पादन और भंडारण करने के लिए पकाया जा सके। सूखे मसाले और तेल के लिए अदरक पूरी तरह से पकने के बाद उसमें खोदें।गड्ढों में गड्ढों को रखने के बाद, उन्हें पुआल या लकड़ी के तख्तों से ढक दें और बोर्डों को गाय के गोबर से ढक दें; हवा को बाहर निकालने के लिए एक वेंट पाइप या नाली का भी उपयोग किया जाता है, जिसका मुंह गड्ढों के बाहर होना चाहिए।

Credit: Innovative Farmers

Leave a Comment

Your email address will not be published.