Ajwain Ki Kheti Kaise Karen

Ajwain Ki Kheti Kaise Karen

मसालों के रूप में अजवाइन का इस्तेमाल दुनियाभर में किया जाता है. इसका वानस्पतिक नाम (Botanical name) टेकिस्पर्मम एम्मी है, जो धनिया कुल का पौधा माना जाता है. वहीं अंग्रेजी में अजवाइन को बिशप्स वीड (bishops weed) कहते हैं.

आमतौर भारतीय घरों में अजवाइन का उपयोग कई प्रकार से किया जाता है. इसकी खेती करके किसान अच्छी कमाई कर सकते हैं. इसमें अनगिनत औषधीय गुण होते हैं, तो आइये जानते हैं अजवाइन में पाए जाने वाले प्रमुख औषधीय गुण और इसकी उन्नत खेती की विधि के बारे में. अजवाइन की खेती कैसे करें?

Ajwain Ki Kheti Kaise Karen

अजवायन एक जड़ी-बूटी वाला पौधा है जिसका उपयोग मसाले और औषधि के रूप में किया जाता है। इसकी खेती छोटे पैमाने पर की जाती है। इसे देखते हुए धनिया पूरी प्रजाति का एक पौधा है जिसकी लंबाई एक मीटर तक होती है। अजवाइन के बीज में कई अलग-अलग खनिज घटकों का मिश्रण होता है, जो मानव शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं।

भारतीय व्यंजनों में अजवाइन का इस्तेमाल कई तरह से किया जाता है। अजवाइन खनिजों का एक अच्छा स्रोत है। अजवायन का उपयोग पेट की बीमारियों, दस्त, अपच, हैजा, सर्दी, मिर्गी और सर्दी के लिए किया जाता है, और इसका उपयोग गले में खराश और अस्थमा जैसी बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है।

अजवाईन की खेती के लिए उपयुक्त मिट्टी जलवायु और तापमान क्या है?

इसकी खेती के लिए अच्छी जल निकासी वाली उपजाऊ मिट्टी उपयुक्त मानी जाती है। इसके अलावा यदि आप अधिक उपज प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको रेतीली मिट्टी में खेती करनी होगी। उच्च आर्द्रता और स्थिर पानी वाले क्षेत्रों में इसकी खेती नहीं की जा सकती है। अजवायन की खेती में भूमि का पीएच मान 6.5 से 8 होना चाहिए।

इसके पौधे को उष्णकटिबंधीय जलवायु का पौधा कहा जाता है। इसलिए इसके पौधों को अच्छी तरह विकसित होने के लिए ठंडी जलवायु की आवश्यकता होती है। लेकिन जब फूल के बीज पकते हैं, तो उसे गर्म जलवायु की आवश्यकता होती है, जिसके लिए उसे पूरी तरह से सूर्य के प्रकाश के संपर्क में आना चाहिए। भारत में, अजवाइन की खेती मुख्य रूप से महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल, पंजाब, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश, बिहार, आंध्र प्रदेश और राजस्थान में की जाती है।

20 से 25 डिग्री के तापमान अर्ली एगेव पौधों के लिए आदर्श होते हैं। सर्दियों में ये पौधे कम से कम 10 डिग्री के तापमान पर अच्छे से बढ़ते हैं। पौधों में बीजों को पकने के लिए 30 डिग्री तापमान की आवश्यकता होती है।

अजवाईन की किस्मे (Varieties Of Ajwain)

  • लाभ सलेक्शन 1 किस्म के पौधे:- इस प्रकार की अजवाइन कम समय में उपज देने के लिए तैयार की जाती है। यह किस्म राजस्थान और गुजरात के कुछ हिस्सों में उगाई जाती है। इसमें पौधों के दाने बोने के लगभग 130 से 140 दिनों में पकने के लिए तैयार हो जाते हैं। पौधा एक मीटर ऊंचाई तक बढ़ सकता है। इसका उत्पादन 8 से 9 क्विंटल प्रति हेक्टेयर होता है।
  • लाभ सलेक्शन 2 किस्म के पौधे:- इस प्रकार के पौधे उच्च उत्पादकता देने के लिए सिंचित और सिंचित भूमि में उगाए जाते हैं। इनमें से पौधे लगभग 135 दिनों में फल देने लगेंगे। इसमें से प्रति हेक्टेयर 10 क्विंटल तक उत्पादन होता है।

पौधों के रोग एवं उनकी रोकथाम कैसे करें?

(Plant diseases and their prevention) डाइमिथोएट, मैलाथियान या मोनोक्रोटोफास

  • माहू कीट रोग(Mhow insect disease):- ऐसी बीमारियों का असर सिर्फ जलवायु परिवर्तन के दौरान ही देखने को मिलता है। यह रोग पौधे की पत्तियों और कोमल भागों में जमा होकर उनके रस को अवशोषित करके पौधे की वृद्धि को रोकता है। यदि इस रोग से बहुत अधिक प्रभावित होता है, तो पौधा पूरी तरह नष्ट हो जाएगा। ये कीट लाल, पीले और हरे रंग के होते हैं। रोग से बचाव के लिए डाइमेथोएट, मैलाथियान या मोनोक्रोटोफॉस का उचित छिड़काव करना चाहिए।
  • झुलसा रोग (Scorch Disease):- यह जलती हुई बीमारी कवक द्वारा फैलती है। इस प्रकार का रोग पौधों में लंबे समय तक नमी बनाए रखने के कारण होता है। यह रोग सबसे पहले पत्तियों को प्रभावित करता है, जिससे पत्तियों पर हल्के भूरे रंग के धब्बे दिखाई देने लगते हैं। यदि समय रहते इस पर नियंत्रण नहीं किया गया तो पत्तियाँ सूखकर मर जाएँगी।
  • चूर्णिल आसिता रोग(powdery mildew):- यह रोग पौधों में कवक के रूप में पाया जाता है। ख़स्ता फफूंदी से प्रभावित पौधे की पत्तियाँ सफेद हो जाती हैं। अगर समय रहते इस बीमारी की रोकथाम नहीं की गई तो धब्बों का आकार बढ़ जाएगा और पत्तियों पर सफेद पाउडर लग जाएगा।
  • पौधों की सिंचाई तथा उवर्रक की मात्रा क्या है?(Irrigation and Fertilizers)

दोनों तरीकों से पौधों को नम मिट्टी में लगाया जाता है। इसलिए दोनों विधियों में इसकी पहली सिंचाई रोपण के तुरंत बाद करनी चाहिए। इसके पौधों को ज्यादा पानी की जरूरत नहीं होती है। एक बार जब पौधे अंकुरित होने लगें तो जरूरत पड़ने पर 10 से 15 दिनों के अंतराल पर ही पानी दें।

अजवाइन की फसल को सामान्य उर्वरक की जरूरत होती है। यह राशि कम्पोस्ट खेत तैयार करते समय दी जाती है। इसके लिए पुराने गोबर को 12 से 15 गाडियों में खेत में डालकर मिट्टी में अच्छी तरह मिला कर लगभग 80 किलो एनपीके रासायनिक खाद के रूप में डाला जाता है। आखिरी खेत जोतने पर उस राशि का छिड़काव खेत में करें।

खरपतवार पर रोक कैसे करें ?

अन्य फसलों की तरह अजवाइन के पौधों को भी खरपतवारों से बचाने की जरूरत होती है। लेकिन इसके पौधों में खरपतवार नियंत्रण प्राकृतिक रूप से करना चाहिए। प्राकृतिक रूप से खरपतवारों को नियंत्रित करने के लिए पौधों को पहले 25 से 30 दिनों में निराई-गुड़ाई करनी चाहिए। इसके अलावा समय-समय पर खेत में खरपतवार दिखाई देने पर निराई-गुड़ाई करनी चाहिए।

फसल की कटाई(Harvesting the crop)

अजवाइन के पौधे रोपण के बाद 140 से 160 दिनों में कटाई के लिए तैयार हो जाते हैं। यदि अच्छी तरह से पकने पर गुच्छों का रंग भूरा हो जाता है, तो पौधों को काटा जाना चाहिए, खेत में एकत्र किया जाना चाहिए और सुखाया जाना चाहिए। दानों के अच्छी तरह सूख जाने के बाद, गुच्छों को लकड़ी के डंडे से फेंटें और दानों को अलग कर लें।

पैदावार और लाभ (Yields and Profits)

अजवाइन का उत्पादन औसतन 10 क्विंटल पाया जाता है। जिसका बाजार भाव 12 हजार से 20 हजार रुपये प्रति क्विंटल है। इस हिसाब से कोई भी आसानी से 1.25 लाख रुपये से 2 लाख रुपये प्रति हेक्टेयर कमा सकता है।

फसल की कटाई पैदावार और लाभ (Yield and Profit)

अजवायन की किस्म औसतन 10 क्विंटल प्रति हेक्टेयर उपज देती है। अजवाइन 12,000 रुपये से 20,000 रुपये प्रति क्विंटल के बीच बिकती है। इसके माध्यम से किसान भाई एक हेक्टेयर भूमि पर अजवाइन की खेती कर सकते हैं और ढाई लाख तक कमा सकते हैं।

Credit: खेती बाड़ी एवं तकनीक

निष्कर्ष

अजवाइन एक बहुत ही गुणकारी और राजसी मसाला है। आदिकम गुर्जर से पुरपुर इजाकी खादी सिद्दे दोर पे की सादिया फजल। अजवायन का प्रकंद जिद्दी होता है, जो कि तानिया गुल वंश का पंजा है। अजवायन का उत्पादन औसतन 10 क्विंटल है।जिसका बाजार भाव 12 हजार से लेकर 20 हजार रूपये प्रति क्विंटल तक मिल जाता है। इस हिसाब से एक हेक्टेयर से सवा लाख से दो लाख तक की कमाई आसानी से की जा सकती है।

इसे भी पढ़े:

तो दोस्तों हमने अजवाइन की खेती कैसे करें celery farming की सम्पूर्ण जानकारी आपको इस लेख से देने की कोशिश की है उम्मीद है आपको यह लेख पसंद आया होगा अगर आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगी हो तो प्लीज कमेंट सेक्शन में हमें बताएँ और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें। Thanks for reading

Leave a Comment

Your email address will not be published.