Chandan Ki Kheti Kaise Karen

Chandan Ki Kheti Kaise Karen

Chandan Ki Kheti Kaise Karen: अगर किसान धैर्य से चंदन की खेती (sandalwood farming)करें तो किसान करोड़पति बन सकते हैं, और अगर किसान आज चंदन की लकड़ी लगाते हैं, तो 15 साल बाद किसान अपनी उपज को बाजार में बेचकर करोड़ों रुपये कमा सकते हैं।

Chandan Ki Kheti Kaise Karen

लद्दाख और राजस्थान के जैसलमेर को छोडक़र सभी भू-भाग में चंदन की खेती की जा सकती है। तो आइये जानते हैं चंदन की खेती (sandalwood farming)  में पाए जाने वाले प्रमुख औषधीय गुण और इसकी उन्नत खेती की विधि के बारे में|

मिट्टी (soil)

Sandalwood इसकी खेती सभी प्रकार की मिट्टी में की जा सकती है लेकिन चंदन के लिए रेतीली मिट्टी, चिकनी मिट्टी, लाल मिट्टी, काली दानेदार मिट्टी सबसे उपयुक्त होती है। चंदन की खेती (sandalwood farming) पानी के ठहराव, हिमपात, रेतीली मिट्टी जैसी जगहों पर नहीं की जानी चाहिए और यह भीषण ठंडे चंदन के लिए उपयुक्त नहीं है। इसकी खेती लद्दाख, कश्मीर और जैसलमेर, राजस्थान में नहीं की जा सकती है। चंदन की खेती (sandalwood farming)देश के अन्य भागों में भी की जा सकती है।

जलवायु (Climate)

चंदन की खेती (sandalwood farming) की जलवायु मध्यम वर्षा, प्रचुर धूप और लंबे समय तक शुष्क मौसम वाले क्षेत्रों के लिए अनुकूल मानी जाती है। जलवायु परिवर्तन के कारण निमेर की जलवायु इसकी खेती के लिए अनुकूल है। पौधे की वृद्धि के लिए इष्टतम तापमान 12 °C से 30  °C है। इसकी खेती के लिए 500 से 625 mlm वार्षिक वर्षा तक की आवश्यकता होती है।

खाद एवं उर्वरक (Manure and fertilizer)

शुरुआती मौसम में गड्ढे को भरने के लिए 2-3 टोकरियाँ सड़ी हुई खाद, 2 किलो नीम की खली और 1 किलो सिंगल सुपरफॉस्फेट को अच्छी तरह मिट्टी में मिला देना चाहिए। बरसात के मौसम के अंत में एक ट्रे और आवश्यकतानुसार पानी बना लें।

सिंचाई कैसे करें?( How to irrigate?)

चंदन के पेड़ बरसात के मौसम में तेजी से बढ़ते हैं, लेकिन गर्मियों में अधिक पानी की जरूरत होती है, यह मिट्टी की नमी और मौसम की स्थिति पर निर्भर करता है, शुरुआत में, बारिश के बाद, दिसंबर से मई तक।, रोपण के 6 से 7 सप्ताह बाद तक सिंचाई बंद नहीं करनी चाहिए जब तक कि बीज का अंकुरण शुरू न हो जाए। चंदन की खेती में, अंकुरण के एक दिन को छोड़कर, पौधे की वृद्धि के लिए, मिट्टी हमेशा नम और जलभराव वाली होनी चाहिए।

पौधरोपण(plantation)

चंदन का आधा जीवन अपनी जरूरतों को पूरा करने वाले चंदन का आधा जीवन दूसरे पेड़ की जड़ पर निर्भर करता है अगर अकेले लगाया जाता है, तो चंदन सूख जाएगा। जब भी आप चंदन का पेड़ लगाएं तो उसके साथ दूसरे पेड़ भी लगाएं। कुछ विशेष चंदन के पौधों जैसे नीम, मीठी नीम, सहजन और लाल पोस्ता की खेती पर विशेष ध्यान देना चाहिए।

खेत की तैयारी करते समय गहरी जुताई करके ही खरपतवार प्रबंधन किया जा सकता है। जब पौधे बड़े होते हैं, तो खेत के औजारों से या हाथ से निराई करना सबसे अच्छा होता है। रसायनों के प्रयोग से पौधों की वृद्धि पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।

चन्दन की किस्में (sandalwood varieties)

दुनिया भर में चंदन की केवल 16 प्रजातियां: कृषिविदों scientists के अनुसार, दुनिया में चंदन की 16 प्रजातियां हैं। उनमें से, सेंटम एल्बम प्रजातियां सबसे सुगंधित और औषधीय हैं। इसके अलावा सफेद चंदन, चंदन अभयत, श्रीकंद, मीठे चंदन की किस्में हैं।

रोग व कीट नियंत्रण (Disease and Pest Control)

वुड-बोरर (Wood borer):- यह एक चंदन खाने वाला कीड़ा है जिसे chloropyrifos कहा जाता है, जिसे पौधे को नुकसान पहुंचाने से रोकने के लिए इसे तने और केसर को संक्रमित करने से रोकने के लिए क्लोरपाइरीफोस में भिगोया जाता है। यदि किसी पौधे पर लकड़ी का छेदक पाया जाता है, तो chloropyrifos का injection लगाकर गोद में लगाना चाहिए।

दीमक (Termite):- दीमक जैसे कीट शुरू में जड़ों से ऊपर की ओर बढ़ते हैं और फिर छाल को खाते हैं। इसलिए, यदि मिट्टी में पहले से ही दीमक अधिक है, तो chloropyriphos को photopest के साथ मिलाकर दोबारा लगाएं।

मिलीबग (Mealybug):-मिलिबग रोग भी चंदन के लिए बहुत हानिकारक दिखाया गया है | उसकी रोकथाम के लिए Dentasu medicine का स्प्रे या drenching करते रहना चाहिए फिर stump में नीचे की ओर taping लपेट देना चाहिए।

चंदन कटाई (Sandalwood Harvesting)

चंदन की रसदार लकड़ी (hard wood) और सूखी लकड़ी दोनों की रेटिंग अलग-अलग होती है। चूंकि जड़ें भी सुगंधित होती हैं, इसलिए चंदन को उखाड़ा जाता है न कि काटा जाता है। जब पौधा लगभग 15 साल पुराना हो जाता है तब लकड़ी प्राप्त होती है जड़ से उखाडने के बाद पेड को टुकड़ो में काटा जाता है और डीपो में रसदार लकड़ी जिसे हार्ड वुड (hard wood) कह्ते है और सेफ वुड व बार्क वुड तीनो को अलग अलग किया जाता है |

चंदन की खेती में लागत और लाभ

इसके बढ़ती मांग देश में और विदेशी देशों जैसे China, Indonesia, America आदि में हैं| एक परिपक्व (10-12 साल) चंदन के पेड़ से 12-20 किलो लकड़ी प्राप्त की जा सकती है और एक किलो चंदन की कीमत पांच से 6 हजार तक हो सकती है| इसलिए प्रति एकड़ 300 पेड़ भी लगाए जाएं तो प्रति एकड़ कृषि भूमि की आय लगभग 2.5 करोड़ रुपये होगी। इससे 15-17 वर्षों के भीतर 100 चंदन के पेड़ 1 करोड़ रुपये की आय प्राप्त करेंगे।

Credit: Kisan Farming

निष्कर्ष

चंदन बहुत फायदेमंद होता है। इसका धर्म और चिकित्सा के साथ-साथ आर्थिक महत्व भी है। कई किसानों ने चंदन की खेती करके लाभ कमाया है, और चंदन की खेती के लिए ज्यादा खर्च नहीं करना पड़ता है क्योंकि यह जंगली पौधा होता है जैसे जंगलो में बिना पानी, खाद के वृक्ष जीवित रहते हैं उसी प्रकार चंदन भी बिना खाद दवाई के रह सकता है। वर्तमान काल में चंदन की खेती करकेकिसान भाइयों का दावा है कि इस खेती से किसान भाई लाखों कमा सकते हैं इसकी खेती करने के 15 साल बाद अच्छी incom की उम्मीद रहती हैं।

इसे भी पढ़े:

तो दोस्तों हमने चंदन (sandalwood farming) की खेती कैसे करें (sandalwood farming)  की सम्पूर्ण जानकारी आपको इस लेख से देने की कोशिश की है उम्मीद है आपको यह लेख पसंद आया होगा अगर आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगी हो तो प्लीज कमेंट सेक्शन में हमें बताएँ और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें। Thanks for reading

Leave a Comment

Your email address will not be published.