Chane Ki Kheti Kaise Karte Hain

चने की खेती कैसे करें? – Chane Ki Kheti Kaise Karte Hain

Chane Ki Kheti Kaise Karte Hain: भारत में चना एक फलीदार फसल है। चना हमारे देश में protein  का सबसे बड़ा स्रोत हैं। यही कारण है कि भारत में चना को अधिक महत्व दिया जाता है। यदि आप ज़्यादा profits की खेती करना चाहते हैं, तो चना की खेती (Gram cultivation)आपके लिए बेहतर विकल्प है।

Chane Ki Kheti Kaise Karte Hain

भारत में अन्य चना के साथ-साथ दलहन भी देश की सबसे महत्वपूर्ण फसल है। पोषण की बात करें तो 100 ग्राम अनाज में औसतन 11 g पानी, 21.1 g protein, 4.5 g fat, 61.65 g Carbohydrate और 149 mg  होता है। Calcium, 7.2 mg Iron, 0.14 mg Riboflavin और 2.3 mg । नियासिन पाया जाता है।  

चना एक शुष्क और ठंडी जलवायु वाली फसल है। चूंकि इसकी खेती रबी के मौसम में की जाती है, इसलिए भारत, पाकिस्तान, इथियोपिया, Burma और Turkey  दलहन के प्रमुख उत्पादक हैं। इसका उत्पादन विश्व स्तर पर India  के बाद Pakistan में होता है। Madhya Pradesh, Rajasthan, Uttar Pradesh, Haryana, Maharashtra और punjab भारत के प्रमुख चना उत्पादक राज्य हैं।

भूमि  कैसी होनी चाहिए?

चना की फसल को अच्छी जल निकासी व्यवस्था वाली उपजाऊ मिट्टी की आवश्यकता होती है। यह फसल मध्यम भारी मिट्टी, black cotton soil और clay loam में उगाई जाती है। black soil  ज्वालामुखी और चट्टान के कटाव से बनती है और इसे कपास की मिट्टी के रूप में भी जाना जाता है।

इस प्रकार की मिट्टी में lime, iron, magnesium और potash की अच्छी मात्रा होती है, जो चने की खेती में बहुत उपयोगी तत्व हैं। दूसरी ओर, मिट्टी को तलछटी मिट्टी के रूप में भी जाना जाता है, जिसे नदियों द्वारा ले जाया जाता है, लेकिन इस प्रकार की मिट्टी nitrogen और potash से भरपूर होती है, जबकि Phosphorus की मात्रा अधिक होती है । मिट्टी का ph 6.0 और 7.0 के बीच होना चाहिए। चने की खेती अच्छी जल निकासी वाली मिट्टी को तरजीह देती है। Chane Ki Kheti

सिंचाई कैसे करें ?Chane Ki Kheti Sichaai

चने की खेती आमतौर पर सिंचाई के अभाव में की जाती है। चने की खेती के लिए कम पानी की आवश्यकता होती है। फसल की पानी की उपलब्धता के आधार पर पहली सिंचाई फूल आने से पहले यानि बुवाई के 45 दिन बाद और दूसरी सिंचाई बुवाई के 75 दिन बाद करनी चाहिए जब दाना भर जाए।

जलवायु और तापमान कितना होना चाहिए ?

चना रबी मौसम के दौरान एक महत्वपूर्ण फसल है। किसान इसे नकदी फसल के रूप में पहचानता है। चना 24 °C से 30 °C के इष्टतम तापमान के साथ अच्छी नमी में अच्छी तरह से विकसित होता है। चना की खेती सिंचित और वर्षा सिंचित दोनों क्षेत्रों में की जाती है।

यह फसल मूलत: शीत ऋतु की फसल है। चना एक स्व-परागण वाली फसल है और आमतौर पर वर्षा पर निर्भर सर्दियों या अर्ध-शुष्क जलवायु फसल के रूप में उगाई जाती है। फूल आने के बाद वर्षा फसल के लिए हानिकारक होती है क्योंकि वर्षा के कारण फूलों के परागकण एक दूसरे से चिपक जाते हैं, जो बीज निर्माण को रोकता है, इसलिए फसल के लिए इष्टतम दैनिक तापमान 18 से 29 °C होना चाहिए।

उन्नत किस्मेंChane Ki Kheti ke Unnat Kisme

मेक्सीकन बोल्ड

यह जल्दी पकने वाली किस्म है। इस प्रकार का पौधा बुवाई के 90 से 95 दिन बाद कटाई के लिए तैयार हो जाता है। इस प्रकार के दाने सफेद, चमकदार और आकर्षक होते हैं। जिसका उत्पादन लगभग 25 क्विंटल प्रति हेक्टेयर है।

काबुली चना

चना की खेती ज्यादातर सिंचित क्षेत्रों में की जाती है। इसका उपयोग अक्सर सब्जियां और वाणिज्यिक उत्पाद बनाने के लिए किया जाता है।

श्वेता (White)

इस प्रकार को ICCV-2 के रूप में भी जाना जाता है। इस प्रकार के चना हल्के सफेद और आकर्षक होते हैं। ये पौधे बीज बोने के लगभग 85 दिनों में कटाई के लिए तैयार हो जाते हैं। प्रति हेक्टेयर 20 क्विंटल तक उत्पादन होता है। इस किस्म को सूखे और सिंचित क्षेत्रों में आसानी से उगाया जा सकता है। Chane Ki Kheti

हिम (snow)

इस प्रकार की चने के पौधे थोड़े लम्बे होते हैं। बीज बोने के 140 दिनों के भीतर कटाई के लिए तैयार हो जाते हैं। इस किस्म की प्रति हेक्टेयर उपज लगभग 17 क्विंटल होती है। इसके दानों का रंग हल्का हरा होता है।

वैभव (splendor)

इस प्रकार की चने का पौधा 110 से 115 दिनों में पककर तैयार हो जाता है। जिसका उत्पादन करीब 15 क्विंटल प्रति हेक्टेयर है। इस किस्म का दाना सामान्य से थोड़ा बड़ा और भूरे रंग का होता है। इसका पौधा उच्च तापमान को भी सह सकता है। इस प्रकार से रोग नहीं होता है।

उर्वरक की मात्रा कितनी होनी चाहिए?

चने को ज्यादा रासायनिक उर्वरकों की जरूरत नहीं होती है। क्योंकि ऐंठन की जड़ों में गांठें पाई जाती हैं। यह लगातार मिट्टी को नाइट्रोजन प्रदान करता है। चने की खेती के लिए जैविक खाद बहुत उपयुक्त होती है। इसकी खेती के लिए खेत तैयार करते समय पुराने गोबर को 10 से 15 वाहनों में डालकर मिट्टी में मिला देना चाहिए।

जब खेत को अंत में रासायनिक उर्वरक से जोता जाता है तो डीएपी का एक बंडल लगाया जाता है। मैदान में डालो। इसके अलावा 25 kg gypsum प्रति एकड़ आखिरी जुताई के समय छिड़काव करना चाहिए।

खरपतवार नियंत्रण कैसे करें?

चने की खेती में कई तरह के खरपतवार पैदा होते हैं। इनमें लोबिया घास, गद्दा, प्याज और मेथी जैसे खरपतवार शामिल हैं। यह मिट्टी में पोषक तत्वों को अवशोषित करता है। जिससे पौधों को सही मात्रा में Nutrients नहीं मिल पाते हैं। और उनका विकास रुक जाता है।

इसका असर उपज पर देखने को मिल रहा है। चने की खेती में खरपतवार नियंत्रण रासायनिक और प्राकृतिक तरीकों से किया जाता है। प्राकृतिक खरपतवारों को नियंत्रित करने के लिए दो से तीन फावड़ियों की आवश्यकता होती है। पहली छंटाई अंकुरण के 25 दिन बाद करनी चाहिए। शेष दो फावड़े पहले फावड़े के बाद 20 दिनों के अंतराल पर करना चाहिए।

रासायनिक खरपतवारों को नियंत्रित करने के लिए बीज बोने के तुरंत बाद पेंडीमेथालिन का छिड़काव करें।

इसे भी पढ़े: Nimbu Ki Kheti Kaise Karen

रोग एवं कीट प्रबंधन

फली छेदक (pod borer)

फली छेदक रोग तब होता है जब पौधे पर फलियां बन जाती हैं। फल छेदक फलियों के अंदर जाता है और उनके दानों को खाता है। इसका रंग हल्का हरा होता है। इससे उपज को सबसे ज्यादा नुकसान होता है। रोग से बचाव के लिए spinosat या indoxacorp का पौधों पर दो बार छिड़काव करना चाहिए।

झुलसा रोग (scorch disease)

चने की खेती में फंगस के कारण होने वाला जलन रोग देखा जाता है। रोग लगने पर पौधे की पत्तियाँ सफेद होने लगती हैं। इस प्रकार, पौधे सूर्य के प्रकाश को अवशोषित नहीं कर सकते। धीरे-धीरे पौधे पीले पड़ने लगते हैं। कुछ दिनों बाद पूरा पौधा नष्ट हो जाएगा। रोग को नियंत्रित करने के लिए 10 दिनों के अंतराल पर दिन में दो बार Sulphur या copper oxychloride का उचित प्रयोग करें। Chane Ki Kheti

उखटा रोग (ulcer disease)

यह रोग अक्सर रोपण के बाद पहले महीने में चने पर दिखाई देता है। रोग लगने पर पौधे की पत्तियाँ पीली पड़ने लगती हैं। इस रोग के कारण पत्तियाँ नीचे से ऊपर तक सूखने लगती हैं।  रोग से बचाव के लिए बीज को बोने से पहले Trichoderma, Carbendazim या oregano के फूल से उपचारित करना चाहिए और खेत में उगाना चाहिए। प्रभावित फसलों में रोग होने पर कार्बेन्डाजिम 50 WP को बालू में मिलाकर पौधों पर छिड़काव करना चाहिए।

रस्ट (rust)

रतुआ रोग का प्रभाव फसल पकने पर दिखाई देता है। जब रोग का प्रकोप होता है, तो पौधे की पत्तियों और शाखाओं पर भूरे रंग के काले धब्बे दिखाई देते हैं। रोग से बचाव के लिए पौधों पर Sulphur या copper oxychloride  का 10 दिनों के अंतराल पर दो बार छिड़काव करें।

पैदावार और लाभ

विभिन्न प्रकार की चने के लिए प्रति हेक्टेयर औसत उपज 15 से 20 क्विंटल है। जिसका बाजार भाव 4 से 8 हजार तक पाया जाता है. इस प्रकार किसान भाई एक हेक्टेयर से 60 से 80 हजार आसानी से कमा सकते थे।

इसे भी पढ़े:

निष्कर्ष

भारत में अन्य चने के साथ-साथ दलहन भी देश की सबसे महत्वपूर्ण फसल है। चने एक शुष्क और ठंडी जलवायु वाली फसल है। चूंकि इसकी खेती रबी के मौसम में की जाती है, इसलिए इस फसल की खेती मध्यम भारी मिट्टी, black cotton soil और sandy loam soil में की जाती है।

चने को ज्यादा रासायनिक उर्वरकों की जरूरत नहीं होती है। खरपतवार नियंत्रण chemical और Natural तरीकों से किया जाता है। विभिन्न प्रकार के चने के लिए प्रति हेक्टेयर औसत उपज 15 से 20 क्विंटल है। जिसका बाजार भाव 4 से 8 हजार तक पाया जाता है. इस प्रकार किसान भाई एक हेक्टेयर से 60 से 80 हजार आसानी से कमा सकते थे।

तो दोस्तों हमने चना की खेती कैसे करें (How to Cultivate Gram) की सम्पूर्ण जानकारी आपको इस लेख से देने की कोशिश की है उम्मीद है आपको यह लेख पसंद आया होगा अगर आपको हमारी post अच्छी लगी हो तो प्लीज कमेंट सेक्शन में हमें बताएँ और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें। Thanks for reading

Leave a Comment

Your email address will not be published.