Dragon Fruit Ki Kheti Kaise Kare

Dragon Fruit Ki Kheti Kaise Kare – ड्रैगन फ्रूट की खेती कैसे करें?

Dragon Fruit Ki Kheti Kaise Kare: ड्रैगन फ्रूट आमतौर पर दक्षिण अमेरिका में पाया जाता है। यह एक बेल का फल है, जो कैक्टस परिवार से संबंधित है। इसका तना गूदेदार और मांसल होता है। फल ऊपर से हल्के गुलाबी रंग का होता है और इसमें कांटे होते हैं।

यदि आप ज़्यादा profits की खेती करना चाहते हैं, तो ड्रैगन फ्रूट की खेती (dragon fruit  cultivation)आपके लिए बेहतर विकल्प है।

Dragon Fruit Ki Kheti Kaise Kare

ड्रैगन फ्रूट मध्य अमेरिका का मूल निवासी फल है। लेकिन यह वर्तमान में Thailand, Vietnam, Israel और Sri Lanka में व्यापक रूप से उगाया जाता है। अब भारत में भी इसकी खेती की जाती है। dragon fruit  का इस्तेमाल खाने में किया जाता है। जैम, ice cream, jelly, juice और Wine ड्रैगन फ्रूट  से बनाए जाते हैं। dragon fruit  खाने से diabetes और cholesterol को नियंत्रित किया जा सकता है।

फल में बीज kivi की तरह प्रचुर मात्रा में होते हैं। इसका पौधा नागफनी के समान होता है। लेकिन वे बिना चौड़ाई लिए लंबाई बढ़ा देते हैं।  इसके पौधे को कम पानी की आवश्यकता होती है। इसकी खेती शुष्क जलवायु में की जाती है। इसकी खेती के लिए भूमि का पीएच. मान सामान्य होना चाहिए। इसके पौधे उच्च तापमान पर अच्छी तरह विकसित होते हैं।

भूमि  कैसी होनी चाहिए?

ड्रैगन फ्रूट की खेती के लिए विशेष मिट्टी की आवश्यकता नहीं होती है। उचित जल निकासी और अच्छी उर्वरक क्षमता वाली मिट्टी में उगाया जा सकता है। जलभराव वाली भूमि में इसकी खेती नहीं की जा सकती है। इसकी खेती के लिए भूमि का ph मान लगभग 7 होना चाहिए। भारत में यह Maharashtra, Gujarat, Karnataka और Delhi के आसपास उगाया जाता है।

सिंचाई कैसे करें ?

ड्रैगन फ्रूट के पौधों को अन्य फसलों की तुलना में कम पानी की आवश्यकता होती है। जबकि इसके पौधों को बरसात के मौसम में पानी की जरूरत नहीं होती है। सर्दियों में इसके पौधे को महीने में दो बार पानी देना चाहिए। साथ ही गर्मियों में इसके पौधे को सप्ताह में एक बार पानी देना बेहतर होता है।

जब पौधे के फूलने का समय हो तो पौधे को पानी देना बंद कर दें। लेकिन फूल से फल निकलने के बाद पौधों में उचित नमी बनाए रखें। इससे फल का आकार और रंग बेहतर होगा और उपज भी अधिक होगी। इसकी सिंचाई के लिए drip  प्रणाली का प्रयोग बहुत उपयुक्त होता है।

जलवायु और तापमान कितना होना चाहिए ?

ड्रैगन फ्रूट की खेती के लिए Topical जलवायु आदर्श है। भारत में, यह शुष्क और आर्द्र स्थानों में उगाया जाता है। ड्रैगन फ्रूट के पौधों को बहुत कम वर्षा की आवश्यकता होती है। लेकिन इसके पौधे को ज्यादा गर्म मौसम की जरूरत होती है। और यदि शीतकाल में अधिक समय तक पाला पड़ता है तो पौधे की उपज में हानि होती है।

इसके पौधे को बढ़ने के लिए 25 डिग्री तापमान की जरूरत होती है। जब पौधा फल देता है, तो उसे 30 से 35 डिग्री के तापमान की आवश्यकता होती है। लेकिन इसका पौधा अधिकतम 40 और minimum  7 डिग्री तापमान सहन करता है।

इसे भी पढ़े: Nimbu Ki Kheti Kaise Karen

उन्नत किस्में

भारत में ड्रैगन फ्रूट की तीन उन्नत किस्में हैं। इन किस्मों को फलों के रंग के आधार पर classified किया जाता है।

सफ़ेद ड्रैगन फ्रूट (white dragon fruit)

सफेद ड्रैगन फ्रूट की भारत में व्यापक रूप से खेती की जाती है। क्योंकि इसके पौधे लोगों को आसानी से मिल जाते हैं। लेकिन इसकी बाजार कीमत अन्य किस्मों के मुकाबले कम है। इसमें छोटे काले बीज होते हैं।

लाल गुलाबी (red pink)

लाल-गुलाबी ड्रैगन फ्रूट भारत में बहुत कम पाया जाता है। इसके फल बाहर और अंदर गुलाबी रंग के होते हैं, इसका बाजार का भाव सफेद से अधिक होता है।

पीला (yellow)

पीला ड्रैगन फ्रूट भारत में बहुत कम पाया जाता है। इसका रंग बाहर से पीला और अंदर से सफेद होता है। इसका स्वाद बेहतर होता है और यह बाजार में अधिक महंगा होता है।

इसे भी पढ़े: चने की खेती कैसे करें?

उर्वरक की मात्रा कितनी होनी चाहिए?

ड्रैगन फ्रूट की खेती के लिए 10 से 15 kg गोबर और 50 से 70 g NPK का इस्तेमाल करना चाहिए। तैयार गड्ढों को पानी से भरें और रोपण से पहले पौधों को पानी दें। इससे गड्ढों की ऊंचाई समतल हो जाएगी उसके बाद उर्वरक की यह मात्रा हर साल तीन साल तक पौधों को देनी चाहिए। इसके बाद जैविक खाद की मात्रा बढ़ा दें।

इसके अलावा, NPK पौधे पर फूल आने से लेकर फल लगने तक बढ़ता है। प्रत्येक पौधे के 200 g साल में तीन बार दें। पहली खुराक फूल आने पर दें। जबकि फल पक चुके हैं और फसल के बाद दूसरी और तीसरी खुराक देनी चाहिए। (Dragon Fruit Ki Kheti)

खरपतवार नियंत्रण कैसे करें?

ड्रैगन फ्रूट के पौधे में पौधे रोपने के बाद कुदाल से खरपतवारों को नियंत्रित करें। रोपण के एक महीने बाद पहले खरपतवार को हटा देना चाहिए।

इसके बाद समय-समय पर कुदाल से खरपतवार नियंत्रण करें। इसके खरपतवारों को रासायनिक विधियों से नियंत्रित नहीं करना चाहिए। क्योंकि यह पौधे के लिए हानिकारक होता है।

पैदावार और लाभ

ड्रैगन फ्रूट के पौधे दूसरे वर्ष में उपज देने लगते हैं। दूसरे वर्ष में उपज 400 से 500 kg प्रति हेक्टेयर है। लेकिन चार से पांच के बाद इसकी उपज प्रति हेक्टेयर 10 से 15 टन पाई जाती है। एक फल का वजन 350 g से 800 g तक होता है।

इसका बाजार भाव करीब 150 से 300 Rs प्रति kg है। इससे पांच साल बाद किसान भाई 1 L से 30 L प्रति हेक्टेयर की वार्षिक आय अर्जित कर सकता है।

निष्कर्ष

ड्रैगन फ्रूट आमतौर पर दक्षिण अमेरिका में पाया जाता है। यह एक बेल का फल है, जो कैक्टस परिवार से संबंधित है। इसका तना गूदेदार और मांसल होता है। यह फल ऊपर से हल्का गुलाबी होता है, इसमें कांटे होते हैं और ड्रैगन फ्रूट को उगाने के लिए विशेष मिट्टी की आवश्यकता नहीं होती है।

इसे भी पढ़े:

ड्रैगन फ्रूट की खेती के लिए उष्णकटिबंधीय जलवायु आदर्श है। भारत में इसे शुष्क और आर्द्र स्थानों में उगाया जाता है। ड्रैगन फ्रूट के पौधे में पौधे लगाने के बाद खरपतवारों को उबाला जाता है और एक फल का वजन 350 g से 800 g होता है। इसका बाजार भाव करीब 150 से 300 Rs प्रति kg है। इससे पांच साल बाद किसान भाई 1L से 30 L प्रति हेक्टेयर की वार्षिक आय अर्जित कर सकता है। (Dragon Fruit Ki Kheti)

Credit: Innovative Farmers

तो दोस्तों हमने ड्रैगन फ्रूट की खेती कैसे करें (Dragon Fruit Ki Kheti kaise kare) की सम्पूर्ण जानकारी आपको इस लेख से देने की कोशिश की है उम्मीद है आपको यह लेख पसंद आया होगा अगर आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगी हो तो प्लीज कमेंट सेक्शन में हमें बताएँ और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें। Thanks for reading

Leave a Comment

Your email address will not be published.