Elaichi Ki Kheti Kaise Karen

Elaichi Ki Kheti Kaise Karen

Elaichi Ki Kheti Kaise Karen: इलाइची की खुशबू काफी अच्छी होती है जिसकी वजह से इसे मुख शुद्धि तथा मिठाइयों में भी इस्तेमाल किया जाता है | यदि आप भी इलाइची की खेती से जुड़ी जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो यहाँ पर इलायची की खेती कैसे करें, Cardamom Farming in Hindi, इलायची के फायदे के बारे में बताया गया है| अगर आप इलाइची की खेती करना चाहते है तो यह लेख आपकी बहुत मदद कर सकता है | इस लेख में आपको इलाइची के खेती कैसे करे (cardamom farming) से जुडी पूरी जानकारी देंगे

Elaichi Ki Kheti Kaise Karen

इलायची उत्पादन में भारत दुनिया का नंबर 1 देश कहा जाता है। भारत के केरल, कर्नाटक और तमिलनाडु जैसे राज्यों को इलायची उत्पादन केंद्र के रूप में जाना जाता है। इलायची एक ऐसा पौधा है जिसके पौधे साल भर सदाबहार रहते हैं। इसके पत्ते एक से दो फीट लंबे होते हैं। इलायची का व्यापक रूप से खाद्य मसाले के रूप में उपयोग किया जाता है।

उपयुक्त मिट्टी(suitable soil)

(cardamom farmingइसकी खेती के लिए दोमट मिट्टी की आवश्यकता होती है और यदि इस प्रकार की मिट्टी उपलब्ध न हो तो इसे कई प्रकार की मिट्टी में अच्छी देखभाल के साथ भी उगाया जा सकता है क्योंकि इस मिट्टी को उच्च उपज के लिए चुना गया है। इलायची की खेती के लिए आवश्यक भूमि मान 5 और 7.5 के बीच होना चाहिए।  रोपण के लिए भूमि तैयार करते समय कीचड़ वाले क्षेत्रों में पर्याप्त मिट्टी और जल संरक्षण उपायों की आवश्यकता होती है।

Cardamom Farming के लिए उपुक्त जलवायु व तापमान

इलायची की खेती के लिए उष्णकटिबंधीय जलवायु को आदर्श माना जाता है, लेकिन इसे भारत के कई हिस्सों में उगाया जाता है। इलायची को समुद्र तल से लगभग 600 से 1500 meter की ऊंचाई पर उगाया जा सकता है। इसकी खेती के लिए 1500 mm वर्षा की आवश्यकता होती है, साथ ही छायादार स्थान पर हवा और नमी की उपस्थिति की आवश्यकता होती है। इलायची की खेती में तापमान सामान्य होना चाहिए। पौधे सर्दियों में न्यूनतम तापमान 10 C और गर्मियों में अधिकतम 35 C तापमान पर अच्छी तरह विकसित होते हैं। ये पौधे पानी के दबाव को बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं करते हैं।

इलायची की विकसित किस्मे

इलायची की कई तरह की किस्मे होती है जिनकी पहचान अलग – अलग नामो से की जाती है | मुख्य रूप से इलायची दो प्रकार की होती है | एक छोटी (हरी) इलायची और दूसरी बड़ी (काली) इलायची के नाम से जाना जाता है |

हरी इलायची (Green Cardamom):- यह छोटी इलायची, जिसे हरी इलायची के नाम से भी जाना जाता है, एक बहुत ही सुगंधित इलायची है, इसलिए इसे पूजा में विभिन्न प्रकार के व्यंजनों, माउथवॉश, दवाओं और मिठाइयों में उपयोग किया जाता है। यह पौधा 10 से 12 साल तक उपज देता है।

काली इलायची (Black Cardamom):- बड़ी इलायची को काली इलायची या बड़ी इलायची के रूप में भी जाना जाता है, बड़ी इलायची का उपयोग केवल मसाले के रूप में किया जाता है, जो छोटी इलायची से आकार में बड़ी होती है। इसमें हल्का लाल और काला रंग होता है। इस काली इलायची से कपूर की महक आती है। बड़ी इलायची दो प्रकार की होती है।

सिंचाई का तरीका (irrigation method)

रोपण के तुरंत बाद खेत में पानी देना चाहिए। बरसात का मौसम हो तो उसे पानी की जरूरत नहीं होती, लेकिन गर्मियों में इन पौधों को ज्यादा पानी की जरूरत होती है। इस मौसम में नमी बनाए रखने के लिए पौधों को समय-समय पर पानी देना चाहिए। सर्दियों में 10 से 15 दिनों के अंतराल पर पानी दें।

पौधों को तैयार करने का तरीका

इलायची की खेती में इसके पौधे सबसे पहले नर्सरी में तैयार किए जाते हैं। पौधों के बीजों को नर्सरी में 10 सेमी की गहराई पर बोया जाता है। नर्सरी में बोने से पहले बीजों को ट्राइकोडर्मा की उचित मात्रा से उपचारित करना चाहिए।

बीज बोने से पहले क्यारी तैयार करें और क्यारियों की तैयारी में मिट्टी में 20 से 25 किलो खाद डालकर अच्छी तरह मिला लें। इसके बाद बीजों को क्यारियों में रोपें और फिर उन्हें अच्छी तरह से पानी दें। बीज के अंकुरित होने तक उन्हें पिलाफ या सूखी घास से ढक दें। जब पौधा पूरी तरह से तैयार हो जाए तो इसे खेत में लगाएं।

खरपतवार नियंत्रण (weed control)

इलायची के पौधों में खरपतवार नियंत्रण के लिए निराई-गुड़ाई तकनीक का प्रयोग करना चाहिए। इससे पौधों को मिट्टी से सही मात्रा में पोषक तत्व मिलते हैं और पौधों की वृद्धि अच्छी तरह से होती है। निराई – पौधों की जड़ों को फावड़े से पर्याप्त हवा मिलती है और जड़ों की मिट्टी नरम होने से पौधे अच्छे से विकसित होते हैं।

इलायची की खेती के लिए उन्नत तकनीक के साथ, आपको प्रति इलायची के पौधे में लगभग 10 किलो सड़ी हुई गोबर की खाद देनी होगी। सख्ती से 1 किलो केंचुआ खाद डालना चाहिए और इस खेती में खरपतवारों को सख्ती से देना चाहिए।

इलायची के पौधों में लगने वाले रोग

पौधों में कई तरह के रोग देखने को मिलते है लेकिन इलायची के पौधों में कुछ ही रोग लगते है जिससे इसकी फसल को कम नुकसान होता है | लेकिन इसमें लगने वाले रोग और जिनसे हानि पहुँच सकती है, उनकी जानकारी कुछ इस प्रकार है:-

झुरमुट और फंगल रोग (clumps and fungal diseases):- झुरमुट और फंगल रोग जैसे रोग इलायची के पौधों को अधिक नुकसान पहुंचाते हैं। इस रोग से पौधा पूरी तरह नष्ट हो जाता है। इस रोग में पौधे की पत्तियां सिकुड़ कर मर जाती हैं और इस रोगग्रस्त पौधे के बीजों को ट्राइकोडर्मा से उपचारित करके बचाया जा सकता है। यदि रोग किसी पौधे को संक्रमित करता है, तो उसे उखाड़ कर फेंक देना चाहिए।

सफ़ेद मक्खी रोग (whitefly disease):- जब रोग होता है तो पौधे अपनी वृद्धि खो देता है और रोग पौधे की पत्तियों पर हमला करता है। यह रोग पौधों की पत्तियों के आधार पर सफेद मक्खी के रूप में प्रकट होता है। ये मक्खियाँ रस को सोख लेती हैं और पत्तियों को नष्ट कर देती हैं। Caustic soda और नीम के पानी के mixer  का छिड़काव करके इस बीमारी को रोका जा सकता है।

ब्रिंग लार्वा कीट रोग (Bring Larvae Insect Disease):-ब्रिंग लार्वा ( Bring Larvae) एक कीट जनित रोग है | इस रोग के कीट पौधे के नाजुक भाग पर आक्रमण कर उसे नष्ट कर देते हैं। इस रोग से बचाव के लिए बैसिलस का पौधों पर छिड़काव करना चाहिए।

Credit: Farming Leader

निष्कर्ष

इलायची तीन साल बाद फल देने लगती है। सूखी इलायची की उपज 130 से 150 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर होती है। वहीं, इसका बाजार भाव 2000 रुपये प्रति किलो है। इससे किसान भाई एक बार में आसानी से दो से तीन लाख कमा सकता है। भारत में इलायची की खेती Cardamom Farming और इसके उत्पादन के कारण किसानों के प्रति कृषि की ओर रुझान बढ़ रहा है।

इसे भी पढ़े:

 यह भारत में सबसे महंगा मसाला है और कम उत्पादन बाजार की मांग के कारण किसानों को अच्छी कीमतों पर उपलब्ध है। भारतीय मसाला तकनीकी संस्थान और इन संस्थानों की अनुसंधान गतिविधियों ने इलायची की खेती Cardamom Farming की उत्पादकता को बदल दिया है। तो किसान मित्रों, यह है इलायची की खेती के बारे में पूरी जानकारी। मुझे उम्मीद है कि आपको यह जानकारी पसंद आई होगी। इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें। यदि आपके कोई प्रश्न हैं, तो आप हमें एक टिप्पणी छोड़ सकते हैं। पूरा लेख पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।

Leave a Comment

Your email address will not be published.