Gehu Ki Kheti Kaise Kare

Gehu Ki Kheti Kaise Kare

Gehu Ki Kheti Kaise Kare: हमारा देश गेहूं की खेती और उत्पादन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसके मुख्य उत्पादक राज्य पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश हैं। भारत आज 80 मिलियन टन से अधिक गेहूं का उत्पादन करता है। हालांकि, देश में बढ़ती आबादी को देखते हुए गेहूं के उत्पादन को और बढ़ाने की जरूरत है। यह लेख चर्चा करता है कि गेहूं कैसे करें। गेहूं की खेती कैसे करें?

Gehu Ki Kheti Kaise Kare

रबी की फसलों में गेहूं की फसल सबसे महत्वपूर्ण है। यह दुनिया की आबादी के लिए लगभग 20 प्रतिशत खाद्य कैलोरी प्रदान करता है। खाद्यान्न फसलों में गेहूँ का विशेष स्थान है। Carbohydrate और Protein गेहूं के दो मुख्य घटक हैं। गेहूं में औसतन 14 प्रतिशत Protein और 72 प्रतिशत Carbohydrate होता है।

गेहूं हर चीज के लिए उपयोगी फसल है। गेहूं के दानों का उपयोग Bread, Sandwich, Cookies, Cake, Oatmeal, Pasta, Vermicelli और Noodles बनाने के लिए किया जाता है। शराब और जैव ईंधन बनाने के लिए गेहूं को किण्वित किया जाता है। गेहूं के भूसे का उपयोग पशुओं के चारे के रूप में या घरों के निर्माण सामग्री के रूप में किया जा सकता है।

भारत में गेहूँ बहुतायत में उत्तरप्रदेश, पंजाब, हरियाणा, बिहार सहित मध्यप्रदेश व अन्य राज्यों में उगाया जाता है।

गेहूं की खेती के लिए तापमान और जलवाऊ

गेहूं की खेती के लिए समशीतोष्ण जलवायु की आवश्यकता होती है, बुवाई के समय खेती के लिए इष्टतम तापमान 20-25 °C होता है। जलवायु परिस्थितियों की बात करें तो, हल्की धूप और फसल पकने के साथ हल्की ठंडी जलवायु के लिए वसंत आदर्श है। जो मुख्यतः इस प्रकार की जलवाऊ पूर्वी-उतर-पश्चिमी भारत मे रहती है |

खेत की तैयारी कैसे करें

भारी मिट्टी के खेतों में, गर्मियों में उत्तर से दक्षिण की ओर पहली जुताई मिट्टी पलटने वाले हल से करें और खेत को खाली छोड़ दें। खेत में खरपतवारों से बचाव के लिए बरसात के मौसम में आवश्यकतानुसार दो या तीन बार खेत की जुताई करें। बारिश के बाद एक बार जुताई करें, आइसिंग लगाएं और खेत को बुवाई के लिए तैयार करें। ग्रीष्मकाल में हल्की मिट्टी वाले खेतों में जुताई न करें। बरसात के मौसम में आवश्यकतानुसार तीन बार जुताई करें और आइसिंग से खेत को बुवाई के लिए तैयार करें। सिंचित और सघन खेती वाले क्षेत्रों में उपरोक्त दोनों प्रकार की भूमि को आवश्यकतानुसार जोतना चाहिए।

इसे भी पढ़े: Kaddu Ki Kheti Kaise Karen

बुवाई का समय

गेहूँ रबी की फसल है जो सर्दियों में उगाई जाती है। गेहूं का जीवनकाल भारत के विभिन्न हिस्सों में भिन्न होता है और आमतौर पर अक्टूबर से दिसंबर तक बोया जाता है और फरवरी से मई तक काटा जाता है। नवंबर के पहले पखवाड़े में 135-140 दिनों तक चलने वाली किस्मों की बुवाई करनी चाहिए और 120 दिनों में परिपक्व होने वाली किस्मों को 15-30 नवंबर तक बोना चाहिए। यदि 25 दिसंबर के बाद बोया जाता है, तो उपज लगभग 90 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर प्रति दिन घट जाती है। बीज बोते समय कतार से कतार की दूरी 20 cm करनी चाहिए |

इसे भी पढ़े: Kele Ki Kheti Kaise Kare

बीज की मात्रा

सिंचित क्षेत्रों में समय पर बुवाई के लिए प्रति हेक्टेयर 100 किलोग्राम बीज पर्याप्त होता है। लेकिन यदि सिंचित क्षेत्रों में गेहूं की बुवाई देर से की जाती है, तो इसके लिए 125 किग्रा / हेक्टेयर, साथ ही लवणीय और बाँझ मिट्टी के लिए 120 से 125 किग्रा / हेक्टेयर की आवश्यकता होगी। सामान्य परिस्थितियों में गेहूँ को 3 से 4.5 cm की गहराई पर बोना चाहिए।

खरपतवार नियंत्रण

गेहूं की फसल के साथ, कई खरपतवार जैसे कोयोट, चिली, पाइग्मी, मोरवा, गुल्ली डंडा और जंगली जई उगते हैं और पोषक तत्वों, नमी और स्थान के लिए प्रतिस्पर्धा करते हैं, जिससे फसल उत्पादन में काफी कमी आती है। अधिक उपज प्राप्त करने के लिए खरपतवारों को सही समय पर नियंत्रित करना बहुत आवश्यक है। बुवाई के एक या दो दिन बाद, 500 पानी में 2.50 लीटर pendimethalin शाकनाशी मिलाकर समान रूप से spray करें।

सिंचाई प्रबंधन

अच्छी फसल पाने के लिए समय पर पानी देना बहुत जरूरी है। फसल की सिंचाई करने के दौरान और अनाज में दूध भरते समय करनी चाहिए। यदि सर्दियों में बारिश होती है, तो पानी देना भी कम किया जा सकता है। कृषि वैज्ञानिकों के अनुसार तेज हवा चलने पर सिंचाई कुछ देर के लिए रोक देनी चाहिए। कृषि वैज्ञानिकों का यह भी कहना है कि 12 घंटे से अधिक पानी खेत में जमा नहीं होना चाहिए। गेहूँ की खेती में पहली सिंचाई बुआई के लगभग 25 दिन बाद करनी चाहिए । दूसरी सिंचाई लगभग 60 दिन बाद और तीसरी सिंचाई लगभग 80 दिन बाद करनी चाहिए

इसे भी पढ़े: Peppermint Ki Kheti Kaise Karen

आर्थिक लाभ

गेहूं की फसल की उपज विभिन्न किस्मों के चयन, उर्वरकों और उर्वरकों के उचित उपयोग और फसल के रखरखाव पर निर्भर करती है। लेकिन सामान्य तौर पर खेती की उपरोक्त वैज्ञानिक पद्धति से अनाज की पैदावार 40 से 70 क्विंटल प्रति हेक्टेयर तक हो सकती है।

उन्नत विधियों से खेती करने पर प्रति हेक्टेयर 40 से 45 क्विंटल गेहूँ और 50-55 क्विंटल अनाज मिलता है। एक हेक्टेयर गेहूं की खेती पर करीब 30 हजार रुपए खर्च होते हैं। यदि गेहूँ का भाव 12 रुपये प्रति किलो है। यदि भूसे की कीमत 2 रुपये प्रति किलो है तो शुद्ध लाभ 28 से 30 हजार प्रति हेक्टेयर होगा।

निष्कर्ष

अधिकांश गेहूँ उगाने वाले क्षेत्रों में नाइट्रोजन की कमी पाई जाती है और कुछ क्षेत्रों में फास्फोरस और पोटाश की कमी पाई जाती है। Punjab, Haryana, Madhya Pradesh, Rajasthan और Uttar Pradesh के कुछ हिस्सों में सल्फर की कमी पाई गई है। इसी प्रकार, गेहूं उगाने वाले क्षेत्रों में Zinc, Manganese और Boron जैसे सूक्ष्म पोषक तत्वों की कमी पाई गई। मिट्टी में मृदा परीक्षण के आधार पर विचार करते हुए इन सभी तत्वों का आवश्यकतानुसार प्रयोग करना चाहिए।

इसे भी पढ़े: सेब की खेती कैसे होती है?

गेहूं की फसल की उपज विभिन्न किस्मों के चयन, उर्वरकों और उर्वरकों के उचित उपयोग और फसल के रखरखाव पर निर्भर करती है। लेकिन सामान्य तौर पर खेती की उपरोक्त वैज्ञानिक पद्धति से अनाज की पैदावार 40 से 70 क्विंटल प्रति हेक्टेयर तक हो सकती है।

Credit: The Advance Agriculture

तो दोस्तों हमने गेहूं की खेती कैसे करें (How to Cultivate Wheat) की सम्पूर्ण जानकारी आपको इस लेख से देने की कोशिश की है उम्मीद है आपको यह लेख पसंद आया होगा अगर आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगी हो तो प्लीज कमेंट सेक्शन में हमें बताएँ और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें। Thanks for reading

Leave a Comment

Your email address will not be published.