Jeera Ki Kheti Kaise Karen

Jeera Ki Kheti Kaise Karen

जीरा क्या है?( Cumin Seeds Farming)

Jeera Ki Kheti Kaise Karen: जीरा मसाला फसलों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। जीरे का प्रयोग किसी भी सब्जी उत्पाद में या फिर दाल या किसी अन्य खाने में किया जाता है। पौधा सौंफ जैसा दिखता है। यदि इसकी उन्नत तरीके से खेती की जाए तो इसका बेहतर उत्पादन कर अच्छा मुनाफा कमाया जा सकता है। आइए जानते हैं जीरे की उन्नत खेती का तरीका और इस दौरान ध्यान रखने वाली बातों के बारें में ताकि किसान भाइयों को इसकी खेती से लाभ मिल सके।

Jeera Ki Kheti Kaise Karen

Cumin जीरा कम समय में अधिक उपज देने वाले बीज मसाले की प्रमुख फसल है। जीरे का आकार सौंफ के समान होता है। जीरे का वानस्पतिक नाम “Cuminum Cyminum L है। यह एंबेलिपेरी परिवार से संबंधित है। भारत में जीरे की खेती मुख्य रूप से राजस्थान, गुजरात, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, जम्मू-कश्मीर और उत्तर प्रदेश में की जाती है। जीरे का प्रयोग किसी भी सब्जी उत्पाद में या फिर दाल या किसी अन्य खाने में किया जाता है। इसके बिना सारे मसालों का स्वाद नीरस लगता है. जीरे को तल कर छाछ और दही के साथ खा सकते हैं.

जीरे की खेती के लिए उपयुक्त जलवायु क्या है?

जीरे की खेती (Cumin Seeds Farming ) के लिए शुष्क और समशीतोष्ण जलवायु उपयुक्त पाई गई है। जीरे की अच्छी पैदावार के लिए बीज पकने की अवस्था के दौरान अपेक्षाकृत गर्म और शुष्क मौसम की आवश्यकता होती है। यदि परिवेश का Temperature 30 °C से ऊपर और 10 °C से नीचे है, तो जीरे के अंकुरण पर opposite effect । उच्च आर्द्रता और छाया तथा फसल की झुलसाने वाली बीमारियों के कारण उच्च वायुमंडलीय आर्द्रता वाले क्षेत्र इसकी खेती के लिए उपयुक्त नहीं होते हैं। अधिक Frostbite वाले क्षेत्रों में जीरे की खेती करना उचित नहीं है।

भूमि एवं उसकी तैयारी कैसे करें?

यह कम पकने वाली मसाला फसल है। ऐसा करने से आप अधिक income प्राप्त कर सकते हैं जीरा की फसल अच्छी बलुई दोमट और चिकनी मिट्टी होती है। खेत में जल निकासी की उचित व्यवस्था होनी चाहिए। जीरे की फसल के लिए एक बार मिट्टी की जुताई करके क्रॉस जुताई कर लें। उसके बाद tillage cultivator कृषक द्वारा मिट्टी को अच्छी तरह से ढँक देना चाहिए।

बुवाई का`समय क्या है?

चूंकि जीरा Cumin रबी की फसल है (rabi crops), इसलिए अधिक पैदावार प्राप्त करने के लिए इसे 15 नवंबर से 30 नवंबर तक बोना सबसे अच्छा है क्योंकि जीरा की खेती के लिए यह समय बहुत अनुकूल है।

छिटकवां विधि Cumin agricultural activities Cumin की खेती करने वाले कई किसान स्प्रे विधि से बुवाई कर रहे हैं, लेकिन इसकी बुवाई वैज्ञानिक तरीके से नहीं की जाती है। इस बिजाई विधि में पहले उपयुक्त आकार की क्यारियां तैयार की जाती हैं। उसके बाद, बीजों को समान रूप से फैलाना चाहिए और हल्के से लोहे के दांतों से थपथपाना चाहिए। इस विधि में बुवाई के लिए बीज दर अपेक्षाकृत अधिक होती है और agricultural activities (निराई-निराई) आसानी से और आसानी से नहीं की जाती हैं।

कतार विधि – जीरे Cumin को पंक्तियों में 25 cm की दूरी पर पौधे से पौधे तक 10 cm की दूरी पर बोना चाहिए। उपरोक्त दोनों विधियों में इस बात का ध्यान रखा जाना चाहिए कि मिट्टी बीज से 2.0 सेमी ऊपर न पहुँचे, अन्यथा बीज जमाव प्रभावित होगा।

जीरा की उन्नत किस्में

  • GC 4 : GC -4 गुजरात कृषि विश्वविद्यालय द्वारा विकसित जीरा की उन्नत किस्म है। यह किस्म 110 से 120 दिनों में पक जाती है और प्रति हेक्टेयर 7 से 10 क्विंटल उपज देती है क्योंकि यह एक बौना और झाड़ीदार पौधा है।
  • RZ 19: Rz 19 जीरे की उन्नत किस्म है जो 110 से 120 दिनों में पक जाती है। इस प्रकार के दाने घुमावदार, आकर्षक और गहरे भूरे रंग के होते हैं।
  • RZ 209: RZ 209 यह भी जीरे की एक उन्नत किस्म है जो 120 से 125 दिनों में पक जाती है। इस किस्म के दाने बड़े, महीन और गहरे भूरे रंग के होते हैं।

पौधों को लगने वाला रोग और उसकी रोकथाम

मोयला

यह रोग जीरे के पौधों के कीटों द्वारा फैलता है। फूल आने के दौरान यह रोग पौधों को प्रभावित करता है। एक बार रोग लगने पर पौधा जल्दी मुरझा जाता है और मर जाता है। रोग से बचाव के लिए पौधों पर उचित मात्रा में malathion या dimethoate का छिड़काव करें।

छाछया रोग

जीरे के पौधों में फंगस के कारण छाया रोग पाया जाता है। रोग की शुरुआत में पौधे की पत्तियों पर सफेद पदार्थ दिखाई देने लगता है।जैसे-जैसे रोग बढ़ता है, पूरी पत्ती सफेद दिखाई देती है। इससे पौधे का बढ़ना बंद हो जाता है, प्रकाश संश्लेषण की प्रक्रिया को पूरा करने में असमर्थ हो जाता है। रोग से बचाव के लिए पौधों पर उचित मात्रा में soluble sulfur या caratheon का छिड़काव करें।

झुलसा रोग

इस रोग को तुषार कहते हैं। यह रोग पौधों में वर्षा या बादल छाए रहने के कारण होता है। ऊपरी मुकाबलों में दो कटअवे थे, जो उच्च फ्रेट तक आसान पहुंच के लिए थे। रोगग्रस्त पौधों पर Mancozeb or Diphnokona Zol की उचित मात्रा का छिड़काव करना चाहिए। इसके अलावा बीजों की रोपाई के वक्त उन्हें Mancozeb से उपचारित कर लेना चाहिए।

दीमक का रोग

पौधों पर दीमक के प्रकोप का प्रभाव पौधे की शुरुआत से लेकर कटाई तक किसी भी समय देखा जा सकता है। दीमक पौधे की जड़ों को काटकर पौधों को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचाते हैं। इस प्रकार, संयंत्र जल्द ही विलुप्त हो जाएगा। इस रोग से बचाव के लिए बीज बोने से पहले उचित मात्रा में chloropyrifos or kunalphos से उपचारित करना चाहिए। और खड़ी फसल में रोग दिखाई देने पर पौधों की जड़ों के पास chloropyrifos की उचित मात्रा का छिडकाव करना चाहिए।

खरपतवार नियंत्रण कैसे करें?

जीरे की खेती (Cumin Seeds Farming ) में खरपतवार नियंत्रण chemical और प्राकृतिक तरीकों से किया जा सकता है खरपतवार नियंत्रण के लिए oxadiargyl की उचित मात्रा को पानी में मिलाकर बीज रोपाई के तुरंत बाद छिडक देना चाहिए । वहीं पौधों की निराई करके प्राकृतिक रूप से खरपतवार नियंत्रण किया जाता है।पौधों की पहली निराई बीज बोने के लगभग 20 दिन बाद करनी चाहिए। पहली निराई के बाद बची हुई निराई 15 दिन के अंतराल पर करनी चाहिए। इसके पौधों के लिए दो या तीन फावड़े बनाना बेहतर होता है।

Credit: The Advance Agriculture

निष्कर्ष

दुनिया भर में हमारा देश मसाला उत्पादन और मसाला निर्यात में नंबर वन है। जीरा सबसे महत्वपूर्ण मसालों में से एक है, जिसका उपयोग मसाले के साथ-साथ दवा में भी किया जाता है। जीरा खेती में अत्यधिक लाभदायक हो सकता है उपज की बात करें तो जीरे की औसत उपज 7-8 क्विंटल प्रति हेक्टेयर है। जीरे की खेती में 30 से 35 हजार रुपये प्रति हेक्टेयर का खर्च आता है। जीरे के दाने का 100 रुपए प्रति किलो भाव रहना पर 40 से 45 हजार रुपए प्रति हेक्टयर का शुद्ध लाभ प्राप्त किया जा सकता है।

इसे भी पढ़े:

तो किसान मित्रों, यह है जीरे की खेती के बारे में पूरी जानकारी। मुझे उम्मीद है कि आपको यह जानकारी पसंद आई होगी। इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें। यदि आपके कोई प्रश्न हैं, तो आप हमें एक टिप्पणी छोड़ सकते हैं। पूरा लेख पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।

Leave a Comment

Your email address will not be published.