Jwar Ki Kheti Kaise Kare

ज्वार की खेती  कैसे करें? – Jwar Ki Kheti Kaise Kare

Jwar Ki Kheti Kaise Kare: ज्वार को मोटे अनाज की फसल और चारे के रूप में उगाया जाता है। आंत के सभी भागों का उपयोग पशुओं के चारे के रूप में किया जाता है। इसके अलावा कुछ जगहों पर लोग इसके दानों का इस्तेमाल खाने में भी करते हैं। इसके दानों से खिचड़ी और चपाती बनाई जाती है.

यदि आप ज़्यादा profits की खेती करना चाहते हैं, तो ज्वार की खेती (jowar  cultivation)आपके लिए बेहतर विकल्प है।

Jwar Ki Kheti Kaise Kare

ज्वार भारत में बाजरा के बाद दूसरी सबसे महत्वपूर्ण मोटे अनाज की फसल है। अपने उच्च तापमान और सूखा सहनशीलता के कारण, यह फसल उच्च तापमान और वर्षा आधारित क्षेत्रों में कम उपजाऊ मिट्टी में आसानी से उगाई जाती है। जड़ प्रणाली गहरी होने के कारण गुड़ मिट्टी की निचली परतों से पानी सोख लेता है और इस क्षमता के कारण इसे कम वर्षा वाले क्षेत्रों में आसानी से उगाया जा सकता है। ज्वार मुख्य रूप से Maharashtra, Kar nataka, Madhya Pradesh, Andhra Pradesh, Haryana और Rajasthan में उगाया जाता है।

भूमि  कैसी होनी चाहिए?

ज्वार की खेती देश के विभिन्न हिस्सों में विभिन्न प्रकार की भूमि पर की जाती है, लेकिन 6.0 से 8.5 ph के साथ नरम मिट्टी या अच्छी जल निकासी वाली मिट्टी इसकी खेती के लिए सबसे अच्छी होती है। मध्य भारत में cotton की black मिट्टी ज्वार की खेती के लिए सबसे उपयुक्त मानी जाती है। ज्वार को हल्की saline या alkaline मिट्टी में आसानी से उगाया जा सकता है।

सिंचाई कैसे करें ?

अच्छी उपज के लिए फूल आने के समय और दाना बनने के समय पानी देना चाहिए। सिंचाई कभी-कभी जटिल परिस्थितियाँ पैदा कर देती है। Caribbean मानसून के आधार पर 1 से 3 बार सिंचाई की जा सकती है। गर्मियों के दौरान आवश्यक परिस्थितियों में रोबी को पानी पिलाया जाना चाहिए। यदि पानी की कमी हो तो फूल आने से पहले और दौरान पानी दें।

जलवायु और तापमान कितना होना चाहिए ?

ज्वार एक उष्णकटिबंधीय फसल है जिसकी खेती समुद्र तल से 1500 mtr तक आसानी से की जा सकती है। अंकुरण के लिए न्यूनतम तापमान 9 से 10 °C होता है। पौधों की वृद्धि के लिए इष्टतम औसत तापमान 26 से 30 °C पाया गया है।

मक्का उत्पादन के दौरान 30 °C से अधिक तापमान फसल के लिए हानिकारक हो सकता है। ज्वार को कम वर्षा वाले क्षेत्रों में सफलतापूर्वक उगाया जा सकता है क्योंकि यह अधिक सूखा tolerant है। प्रति वर्ष 600 से 1000 mm वर्षा वाले क्षेत्र ज्वार की खेती के लिए सबसे अनुकूल हैं।

उन्नत किस्में (improved varieties)

पूसा चरी 23(Pusa Chari 23)

इस जीनस के पौधे पतले, लम्बे और कम प्यासे होते हैं। जिसका स्वाद कम हो। इस genus के पौधे कम समय में अपनी उच्च उपज के लिए जाने जाते हैं। इन पौधों से लगभग 600 क्विंटल हरा चारा और 160 से 180 क्विंटल सूखा चारा प्रति हेक्टेयर प्राप्त होता है। इसकी खेती मुख्य रूप से हरे चारे के लिए की जाती है।

सी.एस.बी. 13(C.S.B.13)

इस प्रकार का गुड़ का पौधा लगभग 110 दिनों में पकने के लिए तैयार हो जाता है। पौधे 10 से 15 फीट की ऊंचाई तक बढ़ सकते हैं। इस प्रकार के ज्वार को चारे और अनाज दोनों के लिए उगाया जा सकता है। इसके बीज पहले से लगाए गए दो कलमों के बाद प्राप्त किए जा सकते हैं। इस किस्म के पौधों की दाने के रूप में प्रति हेक्टेयर पैदावार 15 से 20 किवंटल तक पाई जाती है. जबकि सूखे चारे के रूप में इसकी पैदावार 100 किवंटल के आसपास पाई जाती है|

एस.एस.जी. 59-3(S.S.G.59-3)

इस प्रकार का ज्वार चारे के लिए उगाया जाता है। चारे के रूप में इसकी वनस्पति उत्पादन लगभग 600 से 700 क्विंटल प्रति हेक्टेयर है। इसके पौधे लंबे समय तक बार-बार कटाई के लिए तैयार होते हैं। इस प्रकार का पौधा पतला, लंबा और कम रस वाला होता है। इस प्रकार के पौधे से सूखे चारे के रूप में 150 क्विंटल से अधिक भूमि प्राप्त होती है। इस प्रकार के पौधे में कई प्रकार के किट जनित रोग नहीं पाए जाते हैं।

इसे भी पढ़े: ड्रैगन फ्रूट की खेती कैसे करें?

सी.एस.एच 16(C.S.H16)

यह एक संकर किस्म का ज्वार है। बीज बोने के लगभग 110 दिनों में पकने के लिए तैयार हो जाते हैं। इस प्रकार के पौधे का उत्पादन 30 से 40 क्विंटल प्रति हेक्टेयर पाया जाता है। इस प्रकार के पौधे से लगभग 90 क्विंटल भूमि सूखे चारे के रूप में प्राप्त होती है। इस प्रकार का पौधा सामान्य ऊंचाई पर पाया जाता है।

हरा सोना(green gold)

इस प्रकार का ज्वार punjab से सटे राज्यों में व्यापक रूप से उगाया जाता है। हरे चारे के रूप में इस प्रकार की वनस्पति का उत्पादन लगभग 650 क्विंटल प्रति हेक्टेयर पाया जाता है। इस प्रकार का पौधा तीन से चार टुकड़े दे सकता है। एक पौधा 6 से 8 कलियाँ देगा। इस जीनस के पौधे पतले, लम्बे और कम प्यासे होते हैं।

उर्वरक की मात्रा कितनी होनी चाहिए?

खेत की तैयारी करते समय आखिरी जुताई में 100 से 125 क्विंटल गोबर मिला दें। मिट्टी की जांच के आधार पर ही खाद का प्रयोग करना चाहिए। परीक्षण न होने पर संकर प्रजातियों के लिए 80 kg nitrogen, 40 kg phosphorus, 20 kg potash एवं 40 kg nitrogen, 20 kg phosphorus एवं 20 kg potash का प्रयोग करना चाहिए। बुवाई के समय phosphorus और potash से भरपूर nitrogen की आधी मात्रा बीज के नीचे तथा शेष nitrogen को खड़ी फसल में बुवाई के लगभग 30-35 दिन बाद डालना चाहिए।

खरपतवार नियंत्रण कैसे करें?

पानी, पोषक तत्व, स्थान और प्रकाश के लिए खरपतवार फसल के साथ प्रतिस्पर्धा करते हैं। खेत में से खरपतवार हटाने और नमी बचाने के लिए बुवाई के 20 से 25 दिन बाद निराई करें। खरपतवार के कारण मक्का की उपज 30 से 40 प्रतिशत तक कम हो जाती है। कैसी (हैंड हो) का उपयोग खरपतवारों को नियंत्रित करने के लिए किया जाता है। रासायनिक खरपतवारों को नियंत्रित करने के लिए बुवाई के तुरंत बाद एक लीटर सक्रिय तत्व को 800 लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करें, लेकिन ध्यान रहे कि छिड़काव करते समय मिट्टी में उचित नमी हो।

इसे भी पढ़े: तोरई की खेती  कैसे करें?

रोग एवं कीट प्रबंधन (diseases and pests)

रोग प्रबंधन-

दाने का कंड (स्मट)( rash (smut))

यह ज्वार का सबसे हानिकारक कवक रोग है। इसका explosion तब होता है जब मकई पौधों पर दिखाई देता है। यह मुख्य रूप से बीज द्वारा फैलता है। इस कवक के बीजाणु अंकुरण के दौरान जड़ों के माध्यम से पौधे में प्रवेश करते हैं। जब पौधों को मक्का मिलता है तो वे अनाज के बजाय कवक के काले बीजाणुओं से भर जाते हैं। बीजाणु बाहर से कठोर झिल्ली की एक परत से ढके होते हैं, जो फूटने पर बाहर आते हैं और फैल जाते हैं।

रोकथाम(prevention)

इसे रोकने के लिए बीज को 2.5 kg बीज की दर से fungicide जैसे Captain या Vitavex Power से उपचारित करना चाहिए।

अर्गट(ergot)

संकर ज्वार में इस रोग का प्रकोप अधिक होता है। रोग के बीज हवा के माध्यम से फैलते हैं और फसल के फूलने के दौरान रोग प्रभावित होता है। फूल की टहनी पर स्थित spike से पीला गुलाबी गाढ़ा और चिपचिपा शहद जैसा पदार्थ निकलता है, जो मनुष्यों और जानवरों के लिए हानिकारक होता है।

रोकथाम(prevention)

अर्काट रोग से ग्रसित गायों को काटकर जला देना चाहिए। मक्का में दाने बनने की अवस्था के दौरान 2 से 3 बूंदों का 0.2% छिड़काव करके रोग के प्रभाव को बहुत कम किया जा सकता है।

ज्वार का किट्ट(tide kit)

यह भी एक कवक रोग है, जिसका प्रभाव पहले पौधे की निचली पत्तियों पर महसूस होता है और फिर ऊपरी पत्तियों तक फैल जाता है। पत्तियों पर लाल या बैंगनी रंग के धब्बे दिखाई देते हैं और पत्तियाँ समय से पहले ही सूख जाती हैं।

रोकथाम(prevention)

कृमि संक्रमण को रोकने के लिए प्रतिरोधी किस्मों की खेती करने के बाद यदि पौधों में रोग के लक्षण दिखाई देते हैं, तो Dithane M-45 (6.2%) का 10 दिनों के अंतराल पर दो बार छिड़काव करना चाहिए।

कीट रोकथाम-

तना छेदक(stem borer)

इसके girders या caterpillar छोटे पौधों के बीफ को काटते हैं, जिससे बीफ सूख जाता है। इसका असर बुवाई के 15 दिन बाद से लेकर मक्के के फसल में आने तक रहता है। जैसे-जैसे पौधा बढ़ता है, यह तने में सुरंग बनाता है और तने के नरम हिस्सों को खा जाता है, जिसके परिणामस्वरूप पौधे की वृद्धि मर जाती है, जिसे ‘Dead-Hearts’ कहा जाता है।

रोकथा(prevention)

इससे बचाव के लिए बुवाई के 25 दिन बाद Carbofuran (3%) Granular Insecticide 7.5kg /हेक्टेयर की दर से डालें और उतनी ही मात्रा 10 दिन बाद पौधों की घास पर छिड़कें।

पर्ण फुदका (पाइरिला)( Foliage Spud (Pyrilla))

इस कीट का हमला अपरिपक्व और चूरा में आम है। जैसे ही यह कीट पौधे के रस को सोख लेता है और पत्तियों को नुकसान पहुंचाता है, पौधे का हरापन कम हो जाता है और पौधा सूख जाता है।

रोकथाम(prevention)

इस कीट का नियंत्रण सामान्यतया स्वयं ही हो जाता है| अधिक आक्रमण होने पर Monocrotophos 36 WSC Insecticide की 1 liters दवा का 600 से 700 liters पानी में घोल बनाकर खड़ी फसल में छिड़काव करना चाहिए|

इसे भी पढ़े: चने की खेती कैसे करें?

तना मक्खी(stem fly)

यह ज्वार का प्रमुख कीट है। इसका फटना रोपण के 7 से 30 दिन बाद होता है। कीट caterpillar बढ़ते पौधों के beef को काटते हैं और पौधे प्रारंभिक अवस्था में सूख जाते हैं। कुछ पौधों की कलियाँ सूखने के बाद भी दिखाई देती हैं, लेकिन उनमें मकई देर से आती है और उनका आकार छोटा होता है।

रोकथाम(prevention)

इसकी रोकथाम के लिए Carbofuran 3Gया foret 10gको बुवाई के समय 20 kg/हेक्टेयर की दर से डालना चाहिए। यह कीटनाशक पौधों की जड़ों द्वारा अवशोषित होकर पौधों तक पहुंच जाता है और ऐसे पौधों को खाने के बाद gutter मर जाते हैं।

पैदावार और लाभ( yield and profit)

गुड़ की विभिन्न किस्मों की पैदावार औसतन 25 क्विंटल प्रति हेक्टेयर तक होती है। जबकि इसके पौधों से 100 से 150 क्विंटल सूखा चारा प्राप्त होता है। इसके अनाज का बाजार भाव करीब ढाई हजार Rs प्रति क्विंटल है। इसके अनुसार किसान भाई एक बार में लगभग 60 हजार प्रति हेक्टेयर कमा लेता है।

इसे भी पढ़े:

निष्कर्ष

ज्वार को मोटे अनाज की फसल और चारे के रूप में उगाया जाता है। ज्वार मुख्य रूप से Maharashtra, Karnataka, Madhya Pradesh, Andhra Pradesh, Haryana और Rajasthan में उगाया जाता है। ज्वार की खेती देश के विभिन्न हिस्सों में विभिन्न प्रकार की भूमि पर की जाती है, लेकिन 6.0 से 8.5 ph के साथ नरम मिट्टी या अच्छी जल निकासी वाली मिट्टी इसकी खेती के लिए सबसे अच्छी होती है। ज्वार एक tropical फसल है जिसकी खेती समुद्र तल से 1500 mtr तक आसानी से की जा सकती है। पानी, पोषक तत्व, स्थान और प्रकाश के लिए खरपतवार फसल के साथ प्रतिस्पर्धा करते हैं। ज्वार की विभिन्न किस्मों की पैदावार औसतन 25 क्विंटल प्रति हेक्टेयर तक होती है। इसके अनाज का बाजार भाव करीब ढाई हजार Rs प्रति क्विंटल है। इसके अनुसार किसान भाई एक बार में लगभग 60 हजार प्रति हेक्टेयर कमा लेता है।

Source: SKN Agro News

तो दोस्तों हमने ज्वार की खेती कैसे करें (jwar ki kheti kaise hoti hai ) की सम्पूर्ण जानकारी आपको इस लेख से देने की कोशिश की है उम्मीद है आपको यह लेख पसंद आया होगा अगर आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगी हो तो प्लीज कमेंट सेक्शन में हमें बताएँ और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें। Thanks for reading

Leave a Comment

Your email address will not be published.