Kaddu Ki Kheti Kaise Karen

कद्दू की खेती कैसे करें? – Kaddu Ki Kheti Kaise Karen

Kaddu Ki Kheti Kaise Karen: कद्दू, सीतापाल, कुमता, काशीपाल, मीठा कद्दू, छप्पन कद्दू के नाम से भी जाना जाता है। ऐसी फसल पोषक तत्वों से भरपूर होती है जिसे बिना कोल्ड स्टोरेज के लंबे समय तक स्टोर किया जा सकता है। इसी को ध्यान में रखते हुए हम आपको कद्दू की खेती के बारे में बताने जा रहे हैं।

Kaddu Ki Kheti Kaise Karen

कद्दू (pumpkin) को अंगूर की सब्जी की तरह ही नकदी फसल के रूप में उगाया जाता है। पौधे में पीले फूल होते हैं। पत्तियों का आकार बहुत बड़ा होता है। कद्दू, मटर जैसे द्विबीजपत्री पौधों की श्रेणी में रखा गया है। कद्दू मुख्य रूप से सब्जी के लिए ही उगाया जाता है। इसका फल वजन में भारी होता है और कमजोर हरे तने से जुड़ा होता है। कद्दू का इस्तेमाल सब्जियों के अलावा कई तरह से किया जाता है।

इसकी उत्पादकता और पोषण मूल्य उच्च हैं। इसके फलों से सब्जियां और कुछ मिठाइयां बनाई जाती हैं। पका हुआ कद्दू पीले रंग का होता है और इसमें Carotene होता है। लोग इसके फूलों को पकाने के बाद खाते हैं। यह मुख्य रूप से Assam, West Bengal, Tamil Nadu, Karnataka, Madhya Pradesh, Bihar, Orissa and Uttar Pradesh में उत्पादित होता है।

कद्दू की खेती के लिए उपयुक्त मिट्टी कोनसी है?

कद्दू उगाने के लिए, आपको उचित जल निकासी वाली उपजाऊ मिट्टी की आवश्यकता होती है। कद्दू की फसल की अच्छी वृद्धि के लिए गर्म और आर्द्र जलवायु आदर्श मानी जाती है। इसकी फसल को अधिक पानी की आवश्यकता होती है, लेकिन उच्च पानी वाली स्थिर भूमि इसकी खेती के लिए उपयुक्त नहीं मानी जाती है। कद्दू की अच्छी फसल के लिए जमीन का P.H. मान 5 से 7 के मध्य होना चाहिए |

इसे भी पढ़े: सेब की खेती कैसे होती है?

मिट्टी और रेत के साथ मिश्रित मिट्टी कद्दू की खेती के लिए आदर्श है। कद्दू की अच्छी उपज के लिए मिट्टी/मिट्टी का P.H 5.5 से 6.8 होना चाहिए। हालांकि, कद्दू को मध्यम अम्लता वाले क्षेत्रों में भी उगाया जा सकता है। उथली जड़ वाली फसल होने के कारण कद्दू को बोने के लिए अधिक जुताई की आवश्यकता नहीं होती है।

कद्दू की खेती के लिए उपयुक्त जलवायु और तापमान

कद्दू की खेती के लिए गर्म जलवायु की आवश्यकता होती है। कद्दू की खेती के लिए समशीतोष्ण और समशीतोष्ण जलवायु दोनों में उपयुक्त है। कद्दू के लिए 18 से 30 degree centigrade का तापमान उपयुक्त होता है। इसे गर्म और आर्द्र जलवायु में उगाया जा सकता है।

यानी कद्दू की अच्छी फसल के लिए 4 महीने का पाला मुक्त मौसम जरूरी है। बीज के अंकुरण के समय कद्दू की खेती के लिए 20 डिग्री तापमान आदर्श होता है। जबकि पौधे की वृद्धि और फल विकास के दौरान तापमान 25 से 30 डिग्री के बीच होना चाहिए।

कद्दू की फसल की उन्नत किस्मे

भारत में पैटीपान , बतर न्ट, ग्रीन हब्बर्ड , गोल्डन हब्बर्ड , गोल्डन कस्टर्ड, और यलो स्टेट नेक नामक किस्मे छोटे स्तर पर उगाई जाती है |

कद्दू की पूसा विश्वास उन्नत किस्म

इस प्रकार का कद्दू उत्तर भारत के अधिकांश राज्यों में उगाया जाता है। एक फल का वजन लगभग 5 किलो होता है। इसका कुल उत्पादन लगभग 400 क्विंटल प्रति हेक्टेयर है। इसके फल का रंग हरा दिखाई देता है। जिसमें सफेद बिंदु बनते हैं। इस प्रकार के पौधे में फल बुवाई के 120 दिन बाद पकते हैं।

इसे भी पढ़े: Peppermint Ki Kheti Kaise Karen

कद्दू की काशी उज्जवल किस्म

इस प्रकार का कद्दू उत्तर भारत और दक्षिण भारत में उगाया जाता है। एक पौधा चार से पांच फल देता है। एक फल का वजन 10 से 15 किलो होता है। साथ ही यह किस्म प्रति हेक्टेयर लगभग 550 क्विंटल उत्पादन करती है। इसके फलों को सामान्य temperature पर छायादार स्थान पर 6 माह तक भंडारित किया जा सकता है।

डी.ए.जी.एच. 16 किस्म के पौधे

इन पौधों को परिपक्व होने में 110 दिन लगते हैं। इस किस्म के फल हरे और सफेद रंग के होते हैं। फल लगभग 12 किलो का होता है, प्रति पौधा 4 से 5 फल तैयार होंगे। इस प्रकार के कद्दू की पैदावार 450 से 500 क्विंटल प्रति हेक्टेयर होती है। Kaddu Ki Kheti

काशी धवन किस्म के पौधे

इन पौधों को परिपक्व होने में 110 दिन लगते हैं। इस किस्म के फल हरे और सफेद रंग के होते हैं। फल लगभग 12 किलो का होता है, प्रति पौधा 4 से 5 फल तैयार होंगे। इस प्रकार के कद्दू की पैदावार 450 से 500 क्विंटल प्रति हेक्टेयर होती है।

इसमे बहुत सी प्रजातियाँ पाई जाती है जैसे की

  • पूसा विशवास,
  • पूसा विकास,
  • कल्यानपुर पम्पकिन-1,
  • नरेन्द्र अमृत,
  • अर्का सुर्यामुखी,
  • अर्का चन्दन,
  • अम्बली,
  • सी एस 14,
  • सी ओ1 एवम 2,

इसे भी पढ़े: Sweet Corn Ki Kheti Kaise Karen

खेत की तैयरी

कद्दू की खेती के लिए, मिट्टी को सूखा और अच्छी तरह हवादार होना चाहिए। इसके लिए खेत की शुरुआत में ही फेरने वाले हल से गहरी जुताई कर देनी चाहिए। उसके बाद तेज धूप पाने के लिए कुछ दिनों के लिए मिट्टी को खुला छोड़ दें।

खेत के खुल जाने पर पुरानी गाय के गोबर को खेत में डाल कर मिट्टी में मिला दें। खाद को मिट्टी में मिलाने के बाद खेत को गीली घास से समतल कर दें। कद्दू को समतल जमीन पर उगाया जाता है। इस कारण खेत को समतल करने के बाद उससे उचित दूरी पर कंधे जैसी क्यारियों को तैयार कर लें।

खरपतवार नियंत्रण

कद्दू की फसल में 100 किलो Nitrogen (220 किलो यूरिया), 60 किलो Phosphorous (350 किलो एसएसपी) और 60 किलो Potash (100 किलो म्यूरेट ऑफ Potash) प्रति हेक्टेयर देना चाहिए। नत्रजन की आधी मात्रा Chemical उर्वरकों में तथा फास्फोरस तथा पोटाश की पूरी मात्रा को खेत में नाली या ट्रे में डाल दें।

नत्रजन की बची हुई मात्रा को दो बराबर भागों में बाँटकर खड़ी फसल की जड़ों के पास बुवाई के 20 और 40 दिन बाद दें। खेत की तैयारी करते समय 25 से 30 टन सड़ा हुआ गोबर या खाद प्रति हेक्टेयर मिट्टी में मिला दें। Kaddu Ki Kheti

पैदावार और लाभ

कद्दू की फसल बहुत जल्दी तैयार हो जाती है। और इसकी बुवाई में ज्यादा खर्च नहीं आता है। एक एकड़ जमीन पर कद्दू की खेती करने में महज 3,000 रुपये का खर्च आता है। मान लीजिए एक कद्दू 60 क्विंटल प्रति एकड़ पैदा करता है।

एक क्विंटल कद्दू की कीमत कम से कम पांच हजार रुपए मानकर 20 से 30 हजार का मुनाफा आसानी से किया जा सकता है। बाजार में कद्दू के बीज 3,000 रुपये किलो मिल रहे हैं, बीज महंगे हैं लेकिन छोटे किसान मिल कर एक किलो बीज खरीद लेते हैं | कद्दू को एक एकड़ में बोने के लिए 250 ग्राम बीज की आवश्यकता होती है।

इसे भी पढ़े: Kele Ki Kheti Kaise Kare

निष्कर्ष

कद्दू का उपयोग हरे फलों से लेकर पके फलों के बीज तक कई तरह के खाद्य पदार्थों में किया जाता है। कद्दू का इस्तेमाल खाने के अलावा मिठाइयों में भी किया जाता है। यह हमारे immune system को बेहतर बनाता है जिससे खांसी, जुकाम और वायरस जैसे संक्रमण हमें बार-बार प्रभावित नहीं करते हैं।

कद्दू की खेती एक अच्छी लाभदायक कृषि के रूप में जानी जाती है। कद्दू सब्जियों की खेती में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसकी उत्पादकता और पोषण मूल्य अधिक है। सब्जियां और कुछ मिठाइयाँ इसके कच्चे फलों और सब्जियों से बनाई जाती हैं, और कुछ मिठाइयाँ पके फलों से बनाई जाती हैं। Kaddu Ki Kheti

पके कद्दू में carotene की मात्रा अधिक होती है। इसका अधिक उत्पादन Assam, West Bengal, Tamil Nadu, Karnataka, Madhya Pradesh, Bihar, Orissa and Uttar Pradesh आदि राज्यों में में मुख्य रूप से किया जाता है|

Kaddu Ki Kheti Video

Credit: Innovative Farmers

तो दोस्तों हमने कद्दू की खेती कैसे करें (Kaddu Ki Kheti Kaise Karen) की सम्पूर्ण जानकारी आपको इस लेख से देने की कोशिश की है उम्मीद है आपको यह लेख पसंद आया होगा अगर आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगी हो तो प्लीज कमेंट सेक्शन में हमें बताएँ और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें।

Leave a Comment

Your email address will not be published.