Kakdi Ki Kheti Kaise Karen

ककड़ी की खेती कैसे करें? – Kakdi Ki Kheti Kaise Karen

Kakdi Ki Kheti Kaise Karen: ककड़ी एक बहुत ही पौष्टिक भोजन है, इसमें कई गुण हैं, यह आहार में उपयोग के लिए विशेष रूप से स्वस्थ सामग्री है, और ककड़ी protein और fiber का एक उत्कृष्ट स्रोत है।

यदि आप ज़्यादा profits की खेती करना चाहते हैं, तो ककड़ी की खेती (cucumber cultivation)आपके लिए बेहतर विकल्प है।

Kakdi Ki Kheti Kaise Karen

ककड़ी एक नकदी फसल है जो कद्दू के बीजों पर उगाई जाती है। यह पौधा भारत में सबसे पहले उगता है और बेल के रूप में फैलता है। ककड़ी की खेती पूरे भारत में अलग-अलग मौसम में की जाती है। बलुई दोमट मिट्टी इसकी खेती के लिए बहुत उपयुक्त होती है। इसके पौधों को अधिक शुष्क मौसम कीआवश्यकता होती है। सदियों से खेती नहीं की जा सकती। आज किसान भाई ककड़ी की खेती से अच्छी कमाई करते हैं।

भूमि कैसी होनी चाहिए?

ककड़ी की फसल के प्रचुर उत्पादन के लिए अच्छी जल निकासी व्यवस्था वाली बलुई दोमट या चिकनी मिट्टी उपयुक्त मानी जाती है। इसकी खेती नदी की मिट्टी में भी की जाती है। मिट्टी का Ph 6 से 7 होना बेहतर है।

सिंचाई कैसे करें ?

ककड़ी की फसल को गर्मी के दिनों में नियमित रूप से पांच से सात दिनों के अंतराल पर पानी देना चाहिए। यह याद रखना चाहिए कि कटाई से दो दिन पहले फलों को पानी देना चाहिए। इससे फल चमकदार, कुरकुरे और आकर्षक होंगे।

जलवायु और तापमान कितना होना चाहिए?

ककड़ी की खेती के लिए समशीतोष्ण जलवायु बहुत उपयुक्त होती है। इसके पौधों को बढ़ने के लिए सामान्य वर्षा की आवश्यकता होती है। इसकी खेती के लिए ग्रीष्म ऋतु सबसे अच्छा समय है। तापमान अधिक होने के कारण ककड़ी की गुणवत्ता बढ़ रही है। इसके पौधे सर्दी बर्दाश्त नहीं कर सकते। ककड़ी के बीजों को जल्दी अंकुरण के लिए लगभग 20 डिग्री तापमान की आवश्यकता होती है।

अंकुरण के बाद इसके पौधों को बढ़ने के लिए 25 से 30 डिग्री तापमान की आवश्यकता होती है। इसके पौधेअधिकतम 35 डिग्री तापमान सहन कर सकते हैं। इससे अधिक तापमान होने पर फूल आने से पहले पौधों पर गिरेंगे।

उन्नत किस्में (improved varieties)

जैनपुरी ककड़ी(Jainpuri Cucumber)

इस प्रकार का ककड़ी वैज्ञानिकों द्वारा उच्च उत्पादकता प्राप्त करने के लिए विकसित किया गया था। इस किस्म के फल सामान्य लंबाई के होते हैं। 150 से 180 क्विंटल प्रति हेक्टेयर की दर से उत्पादन होता है। फल का मांस नरम और हल्का हरा होता है।

अर्का शीतल(Arka Sheetal)

इस प्रकार के ककड़ी के फल का रंग हल्का हरा-पीला दिखाई देता है। इसके फल बहुत ही नाजुक होते हैं।फल का कड़वापन बहुत कम होता है। प्रति हेक्टेयर 200 क्विंटल तक उत्पादन करता है। और इसके फल की लंबाई एक फिट पाई जाती है।

पंजाब स्पेशल(Punjab Special)

इस प्रकार के ककड़ी के पौधे का उत्पादन 200 क्विंटल प्रति हेक्टेयर से अधिक होता है। यह जल्दी पकने वाली ककड़ी की किस्म है। इस किस्म के फलों की लंबाई अधिक होती है। और इनका रंग हल्का पीला होता है। भारत में यह किस्म उत्तर भारत के कुछ राज्यों में उगाई जाती है।

दुर्गापुरी ककड़ी(Durgapuri Cucumber)

दुर्गापुरी ककड़ी राजस्थान के आसपास के राज्यों में व्यापक रूप से उगाया जाता है। इस किस्म के फल जल्दी पक जाते हैं। अच्छी तरह से खेती करने पर प्रति हेक्टेयर 200 क्विंटल तक उत्पादन हो सकता है। इस किस्म के फल हल्के पीले रंग के होते हैं। जिसमें खांचे जैसी रेखाएं दिखाई दे रही हैं।

उर्वरक की मात्रा कितनी होनी चाहिए?

ककड़ी की खेती से सर्वोत्तम उपज प्राप्त करने के लिए बीज बोने से 3 से 4 सप्ताह पहले प्रति हेक्टेयर 20 से 25 टन खाद डालें और मिट्टी तैयार करते समय मिट्टी में अच्छी तरह मिलाएँ। इसके अलावा 80 किलो N  60 किलो पी और 60 किलो पी प्रति हेक्टेयर की आवश्यकता होती है। बुवाई क्षेत्र में Phosphorus और potash की पूरी मात्रा और nitrogen की एक तिहाई मात्रा को मिलाकर मिट्टी में मिलाकर ट्रे बना लें।

बुवाई के 25 से 30 दिनों के बाद, शेष nitrogen को दो समान भागों में वितरित करें, नालियों में खाद डालें, गीली घास के साथ कवर करें और पौधे की वृद्धि के दौरान दूसरी खुराक डालें (शीर्ष dressing के 40 से 50 दिन बाद)। ) फूल आने से पहले। पत्तियों पर यूरिया (5 ग्राम यूरिया प्रति लीटर पानी) का छिड़काव करने से लाभ होता है।

खरपतवार नियंत्रण कैसे करें?

ककड़ी की खेती में खरपतवार नियंत्रण उतना ही महत्वपूर्ण है जितना कि अन्य बेल की फसलों के लिए। क्योंकि इसका झंडा जमीन की सतह पर फैलता है और अपने आप उगता है। इसके कारण खेत में उगने वाले खरपतवारों के कारण पौधों में कई रोग पाए जाते हैं। जिसकी रोकथाम के लिए खरपतवार नियंत्रण आवश्यक है।

ककड़ी की खेती में खरपतवार नियंत्रण के लिए हल्के नीले रंग के गुच्छों को रोपण के लगभग 20 से 25 दिन बाद लेना चाहिए। खीरे के उत्पादन के लिए दो या तीन फावड़े पर्याप्त होते हैं। इसके पौधों की पहली निराई-गुड़ाई करने के बाद बची हुई गोडाई 20 दिनों के अंतराल पर करनी चाहिए। Kakdi Ki Kheti Kaise Karen

रोग एवं कीट प्रबंधन (diseases and pests)

रोग एवं नियंत्रण

डाउनी मिल्ड्यू (तुलासिता)( Downy Mildew (Tulasita)-) इस रोग में पत्तियों की ऊपरी सतह पर पीले धब्बे तथा निचली सतह पर फफूंद की वृद्धि दिखाई देती है। रोग की तीव्र अवस्था में पत्तियाँ झड़ जाती हैं और फलियाँ ठीक से नहीं बनती हैं।

नियंत्रण(control)- रोकथाम हेतु मैन्कोजेब दो ग्राम प्रति लीटर पानी के घोल का छिड़काव करें|

श्यामवर्ण(black color)-

इस रोग में फलों पर पहले हल्के धब्बे दिखाई देते हैं और फिर काले पड़ जाते हैं। ये बिंदु कुछ धँसा या टूटा हुआ हो गया है। ये धब्बे आपस में मिल जाते हैं और पूरे फल में फैल जाते हैं। पत्ती की सतह पर अण्डाकार या अनियमित धब्बे दिखाई देते हैं, नई पत्तियाँ अधिक संवेदनशील होती हैं।

नियंत्रण(control)- रोकथाम के लिए 0.25 प्रतिशत कवकनाशी घोल में Dithane M-45 या plydox  या phytolon या बोर्डो मिश्रण तैयार करें और स्प्रे करें।

कीट एवं नियंत्रण

लाल भृंग(red beetle)- यह कीट लाल रंग का होता है और Sprouts और नई पत्तियों को खाकर उन्हें छान लेता है। कई मामलों में इसके फटने से खीरे की पूरी फसल नष्ट हो जाती है।

नियंत्रण(control)- रोकथाम के लिए 5% carborundum powder को 20 किग्रा/हेक्टेयर की दर से या 50% घुलनशील पाउडर को 2 किग्रा/हेक्टेयर की दर से स्प्रे करें और 15 दिनों के अंतराल पर दोहराएं।

बरूथी(Baruthi)- ये कीट पत्तियों की निचली सतह पर रहते हैं और पत्तियों के कोमल तनों और रस को सोख लेते हैं। शुरुआत में पत्तियों पर सफेद धब्बे बनते हैं और फिर भूरे रंग के हो जाते हैं। नतीजतन, पौधों में प्रकाश संश्लेषण की प्रक्रिया बुरी तरह प्रभावित होती है।

नियंत्रण(control)- रोकथाम हेतु ethion 50 ई सी 0.6 MM  प्रति लीटर पानी में घोल बनाकर छिडकाव करें|

पैदावार और लाभ( yield and profit)

ककड़ी की विभिन्न किस्मों का उत्पादन लगभग 200 क्विंटल प्रति हेक्टेयर होता है। वहीं खीरे का बाजार भाव भी मांग के हिसाब से बदलता रहता है। इसकी कीमत 1 रुपये से 30 रुपये प्रति किलो तक होती है, जिससे एक किसान भाई के लिए एक बार में औसतन एक से दो लाख की कमाई करना आसान हो जाता है।

निष्कर्ष

ककड़ी एक बहुत ही पौष्टिक भोजन है जिसमें कई गुण पाए जाते हैं।खीरे की फसल के उपजाऊ उत्पादन के लिए अच्छी जल निकासी व्यवस्था वाली बलुई दोमट या चिकनी मिट्टी उपयुक्त मानी जाती है। ककड़ी की खेती के लिए समशीतोष्ण जलवायु बहुत उपयुक्त होती है।

इसके पौधों को बढ़ने के लिए सामान्य वर्षा की आवश्यकता होती है। इसकी खेती के लिए ग्रीष्म ऋतु सबसे अच्छा समय है। ककड़ी की खेती में, अन्य बेल फसलों की तरह, खरपतवार नियंत्रण बहुत महत्वपूर्ण है और खीरे की विभिन्न किस्मों का उत्पादन लगभग 200 क्विंटल प्रति हेक्टेयर पाया जाता है।

वहीं ककड़ी का बाजार भाव भी मांग के हिसाब से बदलता रहता है। इसकी कीमत 1 रुपये से 30 रुपये प्रति किलो तक होती है, जिससे एक किसान भाई के लिए एक बार में औसतन एक से दो लाख की कमाई करना आसान हो जाता है।

यह भी पढ़े:

Source: Village Kisan

तो दोस्तों हमने ककड़ी की खेती कैसे करें (Kakdi Ki Kheti Kaise Karen) की सम्पूर्ण जानकारी आपको इस लेख से देने की कोशिश की है उम्मीद है आपको यह लेख पसंद आया होगा अगर आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगी हो तो प्लीज कमेंट सेक्शन में हमें बताएँ और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें।

Thanks for reading

Leave a Comment

Your email address will not be published.