Karela Ki Kheti Kaise Kare

करेले की खेती कैसे करे? – Karela Ki Kheti Kaise Kare

Karela Ki Kheti Kaise Kare: भारत के लगभग सभी राज्यों में करेले bitter gourd की खेती की जाती है। करेले bitter gourd में विभिन्न औषधीय गुण होते हैं और बाजारों में इसकी अत्यधिक मांग है। सबसे खास बात यह है कि करेले की खेती में लागत से ज्यादा आमदनी होती है।

Karela Ki Kheti Kaise Kare

सब्जी होने के साथ-साथ लोग इसका अचार भी बहुत पसंद करते हैं और इसके साथ इसका जूस भी बनाते हैं| करेले के बीज से कई तरह की बीमारियों की दवाएं भी बनाई जाती हैं।

दरअसल करेले की ऐसी फसल बोने के करीब 75 से 85 दिन बाद किसानों को उत्पादन मिलना शुरू हो जाता है और यह उत्पादन करीब 3 से 4 महीने तक चलता है|  कुल मिलाकर करेले की खेती किसानों के लिए काफी फायदेमंद है।

जलवायु और मिट्टी(climate and soil)

कड़वाहट पैदा करने के लिए गर्म और आर्द्र जलवायु सबसे उपयुक्त मानी जाती है। यदि तापमान की बात करें तो फसल की अच्छी वृद्धि के लिए minimum temperature 20 °C और maximum temperature 35 से 40 °C होना चाहिए।

करेले की बुवाई के लिए बलुई दोमट मिट्टी उपयुक्त मानी जाती है। चूंकि करेले की फसल को मध्यम तापमान की आवश्यकता होती है, इसलिए खेत में जल निकासी की उचित व्यवस्था होनी चाहिए, अर्थात आवश्यकतानुसार पानी को खेत से हटाया जा सकता है। हालाँकि, नदी के किनारे की तलछटी मिट्टी को भी कैक्टस की बुवाई के लिए उपयुक्त माना जाता है।

बुवाई  का समय क्या है? (What is the sowing time?)

भारत में किसानों के लिए किसी भी तरह की फसल पैदा करने की सबसे बड़ी समस्या पर्यावरण और पानी की है। करेले की फसल में पानी की आवश्यकता अधिक होने के कारण इस बात का अत्यधिक भय रहता है कि यदि फसल को पानी देने में जरा सी भी चूक हुई तो फसल सूख जाएगी। गर्मियों की फसल january से march तक बोई जाती है। मैदानी इलाकों में जून से जुलाई तक और पहाड़ी इलाकों में मार्च से जून तक बारानी फसल बोई जाती है। Karela Ki Kheti Kaise Kare

करेले  कैसे लगाएं? (How to plant bitter gourd in Hindi?)

हमारे देश में किसान अपनी सुविधा के लिए फसलों का उत्पादन करते हैं। भारत में कई किसान सीधे खेत में करेले के बीज बोते हैं, और कुछ किसान nursery से पौधे लाते हैं और लगाते हैं। हालांकि, पौधशाला प्रणाली को पौधों के लिए अत्यधिक लाभकारी और रोगमुक्त माना जाता है। यदि आप अच्छे आकार के करेले उगाना चाहते हैं, तो आपको nursery पद्धति का पालन करना होगा। Karela Ki Kheti Kaise Kare

अगर आप बीज को सीधे खेत में बोना चाहते हैं तो सबसे पहले बीजों को करीब 10 से 12 घंटे के लिए भिगो दें। इसके बाद बीज बोने से करीब 1 घंटे पहले Mancozeb को मिलाकर बोना चाहिए। बीज बोते समय इस बात का ध्यान रखें कि बीज मिट्टी में 2 से 2.5 सेमी गहरा हो।

उर्वरक (Fertilizers)

किसी भी खेत में खाद का प्रयोग उस खेत की मिट्टी की उर्वरता पर निर्भर करता है। हालांकि, पौध बोने या रोपने से पहले, खाद या खाद डालना आवश्यक है।  जैसे ही कड़वी फसल बहुत जल्दी बीमार हो जाती है, कीट इसकी जड़ों से दूसरे क्षेत्रों में चले जाते हैं और पौधे को नष्ट कर देते हैं। गाजर, लाल खसखस ​​और महोगनी इस फसल को प्रभावित करने वाले प्रमुख रोग हैं। इसलिए समय-समय पर कीटनाशक या रासायनिक खाद का प्रयोग किसी कृषि विज्ञानी की सलाह से ही करना चाहिए।

फलों की तुड़ाई (fruit picking)

मुख्य रूप से करेले की फसल बुवाई के 2 महीने या 60 से 75 दिनों में तैयार हो जाती है। कटाई के बाद फलों को रंग और आकार के अनुसार काटा जाता है। वैसे फलों की तुड़ाई नरम और छोटी स्थितियों में ही करनी चाहिए। फल चुनते समय इस बात का ध्यान रखें कि फल के साथ तने की लंबाई 2 सेमी से कम न हो। इससे फल अधिक समय तक टिका रहता है। सुबह फसल काट लें और कटाई के बाद फलों को छाया में रख दें।

उन्नत किस्में(improved varieties)

अगर हम करेले की किस्मों की बात करें तो कई उन्नत और संकर किस्में हैं। किसानों को अपने क्षेत्र में प्रचलित किस्म का चयन करना होता है और उच्चतम उपज देता है ताकि उसे बाजार की मांग के अनुसार अधिकतम उपज मिल सके। करेले की कुछ लोकप्रिय उन्नत और संकर किस्में निम्नलिखित हैं:

पूसा शंकर-1, Pusa Hybrid -2, Pusa Aushati, Pusa Do Seasonal, Hisar Selection, Pusa Special, Arka Harith, Priya Co-1, SDU-1, Coimbatore Long, कल्याणपुर सोना, बारहमासी लौकी, पंजाब लौकी-1, पंजाब – 14, solan हरा और solan सफेद महत्वपूर्ण हैं।

रोग नियंत्रण(disease Control)

पाऊडरी मिल्ड्यू(powdery mildew) कवक पत्तियों, तनों और अन्य रसीले भागों पर सफेद आटे जैसे धब्बे का कारण बनता है। फलों को 10 दिनों के अंतराल पर 2 बार 3 बार प्रति 10 लीटर पानी में या hexaconazole 5EC 0.05% या dipaconazole 0.04% 15 दिनों के अंतराल पर छिड़काव करना चाहिए।

डाऊनी मिल्ड्यू(Downy Mildew)– फल हल्के पीले-भूरे रंग के धब्बे बन जाते हैं और फिर काले हो जाते हैं। पौधा मुरझा जाता है। 15 दिनों में एक बार dithane m -45, 0.25 प्रतिशत, Ridomil MZ 0.25 प्रतिशत का छिड़काव करें और 15 दिनों के बाद दो बार spray करें। dithane m -45 के अंतराल पर।

एन्थेकनोज(Antheknoz) पत्तियाँ और फल धब्बे बन जाते हैं। mancozeb या dithene m -45 या hexacope 25 ग्राम को हर 15 दिन में 10 लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करें।

बीज उत्पादन(seed production)

रोइंग तीन बार करनी चाहिए, पहली पौधे की वृद्धि के दौरान, दूसरी फूल के दौरान और तीसरी फल बनने के दौरान। अन्य प्रकार के अंगूरों से 1000 मीटर की दूरी पर रहें। रोगग्रस्त पौधों को खेत से हटा दें। बीज उत्पादन के लिए इसकी कटाई तब की जाती है जब यह पूरी तरह से पक जाती है। सही बीज प्राप्त करने के लिए खेत में तीन बार जांच करें। कटाई के बाद, फलों को सुखाएं और फिर बीज हटा दें।

पैदावार औऱ लाभ(yield and profit)

किसी भी प्रकार की कृषि की आय फसल की गुणवत्ता, बाजार, मौसम, सकल उत्पादन और फसल की गुणवत्ता पर निर्भर करती है। करेले को नरम अवस्था में ही चुनना चाहिए, जो बाजार में 1.5 गुना अधिक महंगा हो।

अगर औसत आय की बात करें तो यह 80-100 क्विंटल प्रति एकड़ है.20 रुपये प्रति किलो के बाजार भाव पर नजर डालें तो 8000*20=1,60,000/रुपये. प्रति एकड़ करेले की खेती की लागत की बात करें तो यह 25,000 रुपये से 30,000 रुपये तक आती है।

निष्कर्ष

करेले का नाम सुनते ही मन में कड़वाहट आ जाती है। इस हरी या गहरे हरे रंग की सब्जी का स्वाद भले ही मन को भाता न हो, लेकिन इसमें कई Antioxidants और आवश्यक vitamin होते हैं। करेले का सेवन हम कई रूपों में कर सकते हैं। चाहें तो इसके जूस को पीकर, अचार बनाकर या सब्जी के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं.

करेले का पोषण मूल्य करेले विटामिन ए, बी और सी से भरपूर होता है। इसके अलावा Carotene, Beta Carotene, Lutein, Iron, Zinc, Potassium, Magnesium और manganese जैसे flavonoids भी पाए जाते हैं।

Source: The Advance Agriculture

तो दोस्तों हमने करेले की खेती कैसे करे? – Karela Ki Kheti Kaise Kare कैसे करें की सम्पूर्ण जानकारी आपको इस लेख से देने की कोशिश की है उम्मीद है आपको यह लेख पसंद आया होगा अगर आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगी हो तो प्लीज कमेंट सेक्शन में हमें बताएँ और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें। Thanks for reading    

Leave a Comment

Your email address will not be published.