Kathal Ki Kheti Kaise Karen

कटहल की खेती  कैसे करें? – Kathal Ki Kheti Kaise Karen

Kathal Ki Kheti Kaise Karen: कटहल (Botanical नाम: antares toxicaria) एक शाखित, फूल वाला और बारहमासी पेड़ है। यह South Asia और Southeast Asia का मूल वृक्ष है। इसका फल दुनिया में अपनी तरह का सबसे बड़ा है। कटहल(jackfruit) के हरे और पके दोनों फल उपयोगी होते हैं। सब्जियों में कटहल का बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान है।

यदि आप ज़्यादा profits की खेती करना चाहते हैं, तो कटहल की खेती (jackfruit cultivation)आपके लिए बेहतर विकल्प है।

Kathal Ki Kheti Kaise Karen

कटहल भारत का एक महत्वपूर्ण फल है। इसकी बागवानी बिना विशेष देखभाल के की जा सकती है। असम में इसकी खेती बड़े पैमाने पर की जाती है। इसके अलावा Uttar Pradesh, Bihar, Jharkhand, West Bengal और South India राज्यों में इसकी बागवानी बड़े पैमाने पर की जाती है। इसे Chotanakpur और संताल परगना का मुख्य फल माना जाता है। कटहल का मूल भारत है।

कटहल की ऊपरी परत पर एक छोटा सा दंश लगाया जाता है। कटहल में कई तरह के Nutrients पाए जाते हैं:- Iron, Calcium, Vitamin A, C और potassium बड़ी मात्रा में उपलब्ध होते हैं, जो मानव शरीर के लिए अच्छे होते हैं। कटहल का उपयोग खाने और सब्जियों के अलावा आयुर्वेदिक चिकित्सा में भी किया जाता है।

भूमि  कैसी होनी चाहिए?

कटहल की खेती के लिए गहरी loam और sandy loam मिट्टी आदर्श होती है। इसके अलावा इसे लगभग सभी प्रकार की मिट्टी में आसानी से उगाया जा सकता है। जिस स्थान पर पौधा लगाया जाता है उस स्थान पर जल स्तर बहुत अधिक नहीं होना चाहिए। साथ ही मिट्टी में पानी जमा नहीं होना चाहिए। यदि मिट्टी में जलभराव हो जाता है, तो पौधा एक सप्ताह में मर जाएगा। इसके लिए भूमि का ph मान लगभग 7 होना चाहिए।

सिंचाई कैसे करें ?

कटहल के पौधों को अधिक पानी की आवश्यकता नहीं होती है, लेकिन जैसे ही पौधे खो जाते हैं, उन्हें पहले पानी देना चाहिए। इसके बाद गर्मियों में 15 से 20 दिनों के अंतराल पर 2 से 3 और सिंचाई की आवश्यकता होती है। यदि बरसात का मौसम हो तो जरूरत पड़ने पर इसके पौधों को पानी दें।

जलवायु और तापमान कितना होना चाहिए ?

कटहल tropical जलवायु का फल है जो आसानी से गर्म और आर्द्र जलवायु में बढ़ सकता है। सामान्य से थोड़ी भारी बारिश और गर्मियां इसके लिए आदर्श हैं। जबकि अत्यधिक ठंड और पाला इसे नुकसान पहुंचा सकता है।

इसके पौधे को किसी विशेष तापमान की आवश्यकता नहीं होती है। लेकिन जब सर्दियों में तापमान 10 डिग्री से नीचे चला जाता है, तो इसका पौधा और फल दोनों प्रभावित होते हैं।

उन्नत किस्में (improved varieties)

स्वर्ण मनोहर क़िस्म(golden grace)

इस प्रकार के पौधे की लंबाई बहुत कम होती है। इसका 15 साल पुराना पौधा 5 mtr ऊंचाई तक बढ़ सकता है, लेकिन इसके पौधे आकार में बड़े होते हैं। पूर्ण विकसित पौधों से 20 से 25 दिनों में सब्जियां और फल मिल जाते हैं। अधिक पके फल उपलब्ध होने में 2 महीने तक का समय लग सकता है। पके फलों का वजन लगभग 15 से 20 kg होता है। एक पूर्ण विकसित बलाच पौधे से 300 से 500 kg की उपज प्राप्त की जा सकती है।

सिंगापुरी किस्म(Singaporean variety)

Singapore के पौधे पके कटहल के लिए सबसे उपयुक्त माने जाते हैं। इसके पौधे रोपण के 7 से 10 वर्ष बाद उत्पादन के लिए तैयार हो जाते हैं। कटहल के फल का गूदा पीला और स्वाद में मीठा होता है। इसके फल का वजन 7 से 10 kg होता है। इसके अलावा जैक की कई उन्नत किस्में जैसे:- रुदाक्षी, काजा, स्वर्ण पूर्ति अधिक उपज के लिए उगाई जाती हैं।

रूद्धाक्षी(rudakshi)

इस किस्म के एक कटहल का वजन लगभग 5 kg होता है। छोटा और ऊंचा कट। यह सब्जियों के लिए सबसे उपयुक्त किस्म है। दक्षिण भारत में इसकी व्यापक रूप से खेती की जाती है। इसके पूर्ण विकसित पौधे से 500 kg तक फल प्राप्त किए जा सकते हैं।

खाजा(Khaja)

ये कटहल उच्च पैदावार देने के लिए जाने जाते हैं। एक फल का वजन 25 से 30 kg होता है। इसके फल पकने के बाद सफेद, मुलायम और रसीले हो जाते हैं। कौन सा फल सबसे उपयुक्त है।

उर्वरक की मात्रा कितनी होनी चाहिए?

चूंकि कटहल का पेड़ सालाना फल देता है, इसलिए अच्छी पैदावार के लिए पौधे को पर्याप्त खाद और खाद देनी चाहिए। प्रति पौधा 20-25 kg. गाय के गोबर की खाद, 100 g । urea, 200 g । single superphosphate और 100 g । potash का moratorium हर साल जुलाई में दिया जाना चाहिए।

उसके बाद पौधे के बढ़ने के साथ उर्वरक की मात्रा बढ़ानी चाहिए। जब पौधे 10 वर्ष के हो जाएं तो 80-100 kg खाद, 1 kg । urea, 2 kg single superphosphate और 1 kg । muriate of potash हर साल देना चाहिए। खाद देने के लिए पौधे के आधार पर मुख्य तने से लगभग 1-2 m. एक circle में 25-30 cm की दूरी पर। खाद के मिश्रण को एक गहरी खाई में डालें और मिट्टी से ढक दें।

खरपतवार नियंत्रण कैसे करें?

इसके पौधों को अधिक खरपतवार नियंत्रण की आवश्यकता नहीं होती है। लेकिन समय-समय पर जब खेत में खरपतवार दिखाई दें तो अपने प्राकृतिक तरीके से निराई करें और कटहल से खरपतवारों को नियंत्रित करें।

रोग एवं कीट प्रबंधन (diseases and pests)

फल सड़न रोग(fruit rot disease)

इस प्रकार का रोग पौधों में फल लगने के समय पाया जाता है। इस रोग के कारण फल तने के पास सड़ जाते हैं। इस प्रकार का रोग पौधों में rhizobus ortocarpi के कारण होता है। नीले तांबे के घोल को तैयार कर छिड़काव करने से इस रोग से बचा जा सकता है।

बग रोग(bug disease)

इस प्रकार का रोग प्रायः पौधों की पत्तियों और उनकी नई शाखाओं पर पाया जाता है। रोग लगने पर पौधे की पत्तियाँ पीली पड़ने लगती हैं। इससे पौधा बढ़ने लगता है। 0.5 % malathion का छिड़काव कर पौधों को इस रोग से बचाया जा सकता है। Kathal Ki Kheti Kaise Karen

गुलाबी धब्बा (pink spot)

इस प्रकार का रोग पौधे की पत्तियों की निचली सतह पर पाया जाता है। इससे पौधे का विकास पूरी तरह से रुक जाता है। रोग से बचाव के लिए पत्तेदार पौधों पर copper oxychloride या Blue Copper Oxychloride या blue copper के घोल का उचित छिड़काव करें।

पैदावार और लाभ( yield and profit)

कटहल के पौधे रोपण के तीन से चार साल बाद उत्पादन के लिए तैयार हो जाते हैं। इसके अलावा भी कई किस्में ऐसी होती हैं जिन्हें बनने में अधिक समय लगता है। एक हेक्टेयर भूमि में लगभग 150 पौधे लगाए जा सकते हैं। इससे प्रति पौधा प्रति वर्ष 500 से 1000 kg उपज प्राप्त होती है। इस प्रकार, एक किसान कटहल की उपज से एक वर्ष में लगभग 3 से 4 lakh आसानी से कमा सकता है।

निष्कर्ष

कटहल (Botanical नाम: antares toxicaria) एक शाखित, फूल वाला और बारहमासी पेड़ है। कटहल के हरे और पके दोनों फल उपयोगी होते हैं। सब्जियों में कटहल का बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान है। असम में इसकी खेती बड़े पैमाने पर की जाती है।

इसके अलावा Uttar Pradesh, Bihar, Jharkhand, West Bengal और South India राज्यों में इसकी बागवानी बड़े पैमाने पर की जाती है। शहतूत में कई तरह के पोषक तत्व पाए जाते हैं:- Iron, Calcium, Vitamin A, C और potassium बड़ी मात्रा में उपलब्ध होते हैं, जो मानव शरीर के लिए अच्छे होते हैं। कटहल की खेती के लिए गहरी loam और sandy loam मिट्टी आदर्श होती है।

यह भी पढ़े:

इसके अलावा इसे लगभग सभी प्रकार की मिट्टी में आसानी से उगाया जा सकता है। कटहल tropical climate का फल है जो आसानी से गर्म और humid climate में बढ़ सकता है। इसके पौधों को अधिक खरपतवार नियंत्रण की आवश्यकता नहीं होती है। एक हेक्टेयर भूमि में लगभग 150 पौधे लगाए जा सकते हैं। इससे प्रति पौधा प्रति वर्ष 500 से 1000 kg उपज प्राप्त होती है। इस प्रकार, एक किसान कटहल की उपज से एक वर्ष में लगभग 3 से 4 lakh आसानी से कमा सकता है।

Source: Organic DNews

तो दोस्तों हमने कटहल की खेती कैसे करें (Kathal Ki Kheti Kaise Karen) की सम्पूर्ण जानकारी आपको इस लेख से देने की कोशिश की है उम्मीद है आपको यह लेख पसंद आया होगा अगर आपको हमारी post अच्छी लगी हो तो प्लीज कमेंट सेक्शन में हमें बताएँ और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें। Thanks for reading

Leave a Comment

Your email address will not be published.