Kele Ki Kheti Kaise Kare

Kele Ki Kheti Kaise Kare

Kele Ki Kheti Kaise Kare: केला भारत में आम के बाद दूसरी सबसे महत्वपूर्ण फल फसल है। अपने स्वाद, पोषण और औषधीय गुणों के कारण यह लगभग पूरे साल उपलब्ध रहता है। यह Carbohydrate और Vitamin, विशेष रूप से Vitamin B का एक उच्च स्रोत है। केला Heart रोग के जोखिम को कम करने में मदद करता है। केले से कई तरह के उत्पाद बनाए जाते हैं जैसे चिप्स, केला प्यूरी, जैम, जेली, जूस। केले की खेती कैसे करें?

Kele Ki Kheti Kaise Kare

बैग, बर्तन और वॉल हैंगर जैसी चीजें केले के रेशे से बनाई जाती हैं। भारत में केले का सर्वाधिक उत्पादन महाराष्ट्र राज्य में होता है। अन्य केला उत्पादक राज्य कर्नाटक, गुजरात, आंध्र प्रदेश और असम हैं।

आपको बता दें कि इसकी खेती में भी अपार ऊर्जा होती है। अगर आप अधिक लाभदायक खेती करना चाहते हैं तो केले की खेती (Banana farming) आपके लिए सबसे अच्छा विकल्प है।

उपयुक्त जलवायु

केले के उत्पादन के लिए गर्म और आर्द्र जलवायु उपयुक्त होती है। तापमान 20 से 35 degree centigrade के बीच रहता है। वहां केले की खेती अच्छी तरह से की जा सकती है। वार्षिक वर्षा 150 से 200 cm के बराबर होनी चाहिए। यह ठंडी और शुष्क जलवायु में भी पैदा होता है। लेकिन पाला और गर्म हवा से केले की फसल को काफी नुकसान हुआ है.

उपयुक्त भूमि

केले की खेती के लिए बालू से लेकर चिकनी मिट्टी उपयुक्त होती है। जिसका पीएच 6.5 से 7.5 के बीच हो और उचित जल निकासी आवश्यक हो। केले को उच्च अम्लता और क्षारीयता वाली मिट्टी में नहीं उगाया जा सकता है। भूजल स्तर कम से कम 7 से 8 फीट नीचे होना चाहिए।

खेती की तैयारी कैसे करें?

चार-पांच बार गहरी जुताई करने के बाद समतल खेत पर पैड लगाकर तल लें। ऐसा करने के बाद समतल खेत में पंक्तियों में गड्ढों को तैयार कर रोप दिया जाता है। केले लगाने के लिए खेत तैयार करने के बाद 1.5 मीटर लंबे और 1.5 मीटर चौड़े गड्ढे खोदें और पंक्तियों को गहरा छोड़ दें ताकि सूरज की रोशनी मिल सके।

इसे भी पढ़े: Ananas Ki Kheti Kaise Karen

बीज की मात्रा कितनी होनी चाहिए

यदि फासला  1.8×1.5 मीटर लिया जाये तो प्रति एकड़ में 1452 पौधे लगाएं। यदि फासला 2 मीटर x 2.5 मीटर लिया जाये, तो एक एकड़ में 800 पौधे लगाने की सिफारिश की जाती है।

रोपण के लिए स्वस्थ और असंक्रामक जड़ों या प्रकंदों का प्रयोग करें। रोपण से पहले, जड़ों को धो लें और chlorpyrifos 20 ईसी 2.5 मिली लगाएं। प्रति लीटर पानी। फसल को Rizome मोथ से बचाने के लिए, जड़ों को 3% सीजी (33 ग्राम) carbofurne प्रति जड़ में भिगोएँ और रोपण से पहले 72 घंटे के लिए छाया में सुखाएँ।

सिंचाई(irrigation)

केला एक ऐसी फसल है जिसकी जड़ें ज्यादा गहराई तक नहीं जाती हैं। इसलिए, इसकी उत्पादकता बढ़ाने के लिए बड़ी मात्रा में पानी की आवश्यकता होती है। अच्छी उपज के लिए 70-75 सिंचाई की आवश्यकता होती है। सर्दियों में 7-8 दिनों के अंतराल पर और गर्मियों में 4-5 दिनों के अंतराल पर पानी देना चाहिए। बरसात के मौसम में आवश्यकतानुसार पानी।

खेत से अतिरिक्त पानी हटा दें क्योंकि यह पौधों के आधार और विकास को प्रभावित करेगा। उन्नत सिंचाई तकनीकों जैसे ड्रिप सिंचाई का उपयोग किया जा सकता है। शोध के अनुसार केले की सिंचाई करने से 58 प्रतिशत पानी की बचत होती है और पैदावार में 23-32 प्रतिशत की वृद्धि होती है।

कीट और रोकथाम

राइज़ोम की भुंडी(rhizome stew) इससे बचने के लिए सूखे पत्तों को हटाकर बगीचे को साफ रखें। रोपण से पहले, Rizome  को Methyl oxidameton में  2 मिली / लीटर पानी में भिगोएँ। रोपण से पहले, 250 ग्राम अरंडी की खली या 50 ग्राम carborundum या 10 ग्राम Phorate को गड्ढे में रखें।

केले का चेपा (Why stick): यदि इसका हमला दिखे तो methyl demeton 2 मि.ली या Dimethoate 30 EC 2 ml को प्रति लीटर पानी में मिलाकर स्प्रे करें।

थ्रिप्स (Thrips): इसकी रोकथाम के लिए methyl demeton20 ई सी 2 मि.ली. या Monocrotophos 36 WSC 2 ml.को प्रति लीटर पानी में मिलाकर स्प्रे करें।

निमाटोड(Nematode) : जड़ों को सूत्रकृमि के हमले से बचाने के लिए जड़ों को Carbofurne 3% सीजी ml 50 ग्राम से उपचारित करें। यदि जड़ का उपचार न किया जाए तो रोपाई के एक महीने बाद Carbofurne 40 ग्राम पौधे के चारों ओर लगाएं।

इसे भी पढ़े: सेब की खेती कैसे होती है?

प्रसिद्ध किस्में

Grand Naine: केले की यह किस्म 2008 में जारी की गई थी और एशिया में उगाने के लिए उपयुक्त है। केले की यह किस्म औसतन 25-30 किलोग्राम गुच्छों का उत्पादन करती है। Red Banana,Safed Velachi,Basarai, Rasthali,Dwarf Cavendish,Robusta, Poovan,Nendran,Ardhapuri,Nyali

फसल की कटाई

रोपण के बाद 11-12 महीनों में कटाई के लिए तैयार हो जाएगा। बाजार की आवश्यकता के अनुसार जब केले पूरी तरह से पक जाएं तब उनकी तुड़ाई करें। जब फल स्थानीय बाजार के लिए पक जाएं, तो उन्हें लंबी दूरी पर ले जाएं जहां वे 75-80% पके हों। जबकि निर्यात के लिए एक स्थान से दूसरे स्थान पर लदान के लिए एक दिन पहले या उसी दिन उठाना। गर्मियों में फल की तुड़ाई दिन में करें और सर्दियों में जल्दी सुबह तुड़ाई ना करें।

लागत और कमाई

अगर आपके पास एक एकड़ जमीन है तो आप उस पर केले की खेती करें। यदि एक पेड़ 1.8 से 1.5 मीटर की दूरी पर लगाया जाता है तो कुल 1452 पौधे लगाए जा सकते हैं। अगर एक ग्रैंड जी-9 प्लांट की औसत कीमत 15 रुपये है, तो आप लगभग 50 हजार रुपए में banana farming खेती कर सकते हैं।

इसे भी पढ़े: Peppermint Ki Kheti Kaise Karen

Credit: Kheti Kisan

निष्कर्ष

केले Banana से कई तरह के उत्पाद बनाए जाते हैं जैसे चिप्स, केला प्यूरी, जैम, जेली, जूस। बैग, बर्तन और वॉल हैंगर जैसी चीजें केले के रेशे से बनाई जाती हैं। भारत केले का सबसे बड़ा उत्पादक और फलों का तीसरा सबसे बड़ा उत्पादक है।

भारत में केले का सर्वाधिक उत्पादन महाराष्ट्र राज्य में होता है। अन्य केला उत्पादक राज्य कर्नाटक, गुजरात, आंध्र प्रदेश और असम हैं। केला पोषक तत्वों से भरपूर होता है।

इसे भी पढ़े: Sweet Corn Ki Kheti Kaise Karen

आशा है आपको हमारे द्वारा दी गई BananaCultivation की यह जानकारी पसंद आई होगी। अगर आपको पोस्ट अच्छी लगी होतो प्लीज कमेंट सेक्शन में हमें बताएँ और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें।

Leave a Comment

Your email address will not be published.