Muli Ki Kheti Kaise Karen

मूली की खेती कैसे करें? – Muli Ki Kheti Kaise Karen

Muli Ki Kheti Kaise Karen: मूली का उपयोग अक्सर सलाद और पकी हुई सब्जियों में तीखा स्वाद के साथ किया जाता है। इसके पत्तों से भी सब्जी बनाई जाती है। मूली vitaminC और minerals का अच्छा स्रोत है। जिगर और Jaundice के रोगियों के लिए भी मूली की सिफारिश की जाती है।

मूली की खेती कैसे करें? – Muli Ki Kheti Kaise Karen

किसान भाई सह-फसल प्रणाली में मूली की खेती कर सकते हैं। जिसमें किसान भाई मूली की खेती गेहूं, सरसों, गन्ना, जो और सोआ के साथ कर सकते हैं और अच्छी आय प्राप्त कर सकते हैं। मूली की खेती करने वाले किसान भाई आसानी से मौसम में दो बार मूली पैदा कर सकते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि इसके पौधे बुवाई के दो महीने बाद पकने के लिए तैयार हो जाते हैं।

इसकी खेती के लिए ठंडी और आर्द्र जलवायु बहुत उपयुक्त होती है। मूली के अच्छे उत्पादन के लिए सर्दी बहुत उपयुक्त होती है। इसके पौधे ठंडी जलवायु में अच्छी तरह विकसित होते हैं। इसकी खेती के लिए भूमि का ph. मान सामान्य होना चाहिए। मूली को clay loam soil में उगाना सबसे अच्छा होता है। भारत के पहाड़ी क्षेत्रों को छोड़कर लगभग हर जगह इसकी खेती की जा सकती है।

उपयुक्त मिट्टी(suitable soil)

मूली की खेती के लिए उचित जल निकासी वाली हल्की sandy soil  की आवश्यकता होती है। मूली को stony या सख्त जमीन पर नहीं उगाना चाहिए। इस प्रकार की भूमि में इसके पौधे नहीं उग सकते। इसकी खेती के लिए भूमि का ph. मान 6 और 7 के बीच होना चाहिए।

जलवायु और तापमान(climate and temperature)

मूली की खेती के लिए ठंडी जलवायु बहुत उपयुक्त होती है। भारत में अलग-अलग मौसमों के आधार पर अलग-अलग जगहों पर इसकी खेती की जाती है। इसके पौधे सर्दी के ठंढों को भी सहन करते हैं। गर्मी इसकी खेती के लिए अनुकूल नहीं है।

मूली के बीजों को जल्दी अंकुरण के लिए लगभग 20 डिग्री तापमान की आवश्यकता होती है। पौधों के अंकुरित होने के बाद 10 से 15 डिग्री का तापमान उनके विकास के लिए आदर्श माना जाता है। लेकिन इसके पौधे अधिकतम 25 और न्यूनतम 4 डिग्री पर आसानी से बढ़ सकते हैं। जब अधिकतम तापमान 25 डिग्री से ऊपर चला जाता है तो इसके फलों (कंदों) की गुणवत्ता कम हो जाती है।

मूली के पौधों की सिंचाई (Radish Plant Irrigation)

मूली के बीज नम मिट्टी में लगाए जाते हैं। इसलिए, पौधे को रोपते ही पहली बार पानी दिया जाता है। इसके पौधों को नियमित रूप से पानी देने की आवश्यकता होती है। यदि इसके बीजों को सूखी भूमि में लगाया जाता है, तो उस समय बीज के अंकुरित होने तक हल्की सिंचाई की आवश्यकता होती है। मूली को गर्मी के दिनों में दो से तीन बार और बरसात के मौसम में जरूरत पड़ने पर ही पानी देना चाहिए।

मूली की उन्नत किस्में (Radish Improved Varieties)

मूली की कई देशी और विदेशी उन्नत किस्मे बाज़ार में मौजूद है, जिन्हे कम समय में अधिक पैदावार देने के लिए उगाया जाता है |

जापानी सफ़ेद(japanese white)

इस प्रकार के पौधे को तैयार होने में 50 से 60 दिन लगते हैं। इसके पौधे एक फुट तक ऊंचे हो सकते हैं। यह स्वाद में कम होती है। इस प्रकार का पौधा 250 से 300 क्विंटल प्रति हेक्टेयर उपज देता है।

रेपिड रेड व्हाइट टिप्ड(rapid red white tipped)

इस प्रकार की मूली के पौधे को तैयार होने में 25 से 30 दिन का समय लगता है, जो कि तेजी से बढ़ने वाली किस्म है। फल का रंग सफेद और लाल होता है। त्वरित लाल-सफेद सिरे वाले विभिन्न पौधे एक ही मौसम में कई बार उत्पादन करते हैं।

हिसार . 1(Hisar no. 1)

इस प्रकार की मूली का पौधा भारत के उत्तरी मैदानी राज्यों में उगने के लिए तैयार किया जाता है। परिणामी पौधों की जड़ें सीधी और लंबी होती हैं, और बाहरी त्वचा चिकनी और सफेद होती है। इस प्रकार की मूली का स्वाद मीठा होता है। इसके पौधे रोपण के 50 दिन बाद उत्पादन के लिए तैयार हो जाते हैं और इसका उत्पादन 250 क्विंटल प्रति हेक्टेयर तक होता है।

इसके अलावा, अधिक उपज देने के लिए मूली की कई उन्नत किस्में तैयार की गई हैं- Pusa Himani, Pusa Chetki, Pusa Desi, Pusa Reshmi, Pusa Chetki, Punjab Basant, Punjab early, white icicle, white clove, sakura. Jam, KN-1, Janpuri Radish, French Breakfast और Scarlet Globe.

मूली की फसल में खरपतवार नियंत्रण

मूली के खेत में खरपतवार नियंत्रण के लिए रासायनिक और प्राकृतिक दोनों विधियों का प्रयोग किया जाता है। मूली के पौधों में खरपतवार नियंत्रण के लिए प्राकृतिक रूप से निराई-गुड़ाई की जाती है, जिसके पौधों को केवल दो फावड़े की जरूरत होती है, जिसमें पहली जुताई 20 दिन बाद और दूसरी जुताई 15 दिन बाद की जाती है|

 इसके अलावा यदि खरपतवारों को रासायनिक विधि से नियंत्रित करना है तो बीज को खेत में बोने के बाद उचित मात्रा में pendimethal का छिड़काव करना चाहिए।

पौधों में लगने वाले रोग और उनकी रोकथाम

मूली के पौधों में कई रोग पाए जाते हैं। जिन्हें समय पर रोका नहीं जा सकता है, वे उपज को बहुत नुकसान पहुंचाते हैं।

माहू का रोग(mahu’s disease)

मूली के पौधों में आमतौर पर मानसून के मौसम में महू रोग पाया जाता है। इस रोग के कीट बहुत छोटे होते हैं। जो पौधे की पत्तियों पर गुच्छे बनाते हैं और उसका रस सोख लेते हैं। पत्तियों का रंग पीला दिखाई देगा क्योंकि वे अपना रस सोख लेते हैं। और फल की Quality कम हो जाती है। रोग से बचाव के लिए पौधों पर आवश्यक मात्रा में malathion का छिड़काव करें।

बालदार सुंडी(hairy caterpillar)

मूली पर बालों वाले लार्वा किसी भी हालत में पाए जा सकते हैं। इस रोग के कीट पौधे की पत्तियों को खाकर नष्ट कर देते हैं। जैसे ही आप इन्हें खाते हैं, पौधे की पत्तियां छलनी की तरह दिखने लगती हैं। इस प्रकार, भोजन की कमी के कारण पौधे बढ़ना बंद कर देते हैं। रोग को रोकने के लिए पौधों को gonolphos या surfactant घोल से spray करें।

झुलसा(Scorched)

मूली के पौधों में कटाव जनवरी से मार्च के महीनों में अधिक होता है। रोग के परिणामस्वरूप पौधे की पत्तियों पर काले काले धब्बे बनने लगते हैं। जिसका आकार रोग के बढ़ने के साथ बढ़ता जाता है। रोग से बचाव के लिए पौधों पर उचित मात्रा में mancozeb या कैप्टन का छिड़काव करें।

काली भुंडी का रोग(black worm disease)

मूली का काला earthworm रोग एक संक्रामक रोग है। इस रोग के कीट पौधे की पत्तियों को काट कर खा जाते हैं। इससे पत्तियों में बड़े आकार के छेद दिखने लगते हैं। इस प्रकार पौधों को भोजन नहीं मिलता है। इस प्रकार उनकी वृद्धि रुक ​​जाती है। रोग से बचाव के लिए 10 से 12 दिनों के अंतराल पर दो से तीन बार पौधों पर उचित मात्रा में malathion का छिड़काव करना चाहिए।

पैदावार और लाभ(yield and profit)

मूली की विभिन्न किस्मों की उपज औसतन 250 क्विंटल प्रति हेक्टेयर है। इसे पौधे के उचित रखरखाव से भी बढ़ाया जा सकता है। जिसका बाजार भाव 5 Rs प्रति kg पाया जाता है. और इसके अनुसार किसान भाई एक बार में एक हेक्टेयर से 1.25 L तक आसानी से कमा सकता है।

निष्कर्ष

किसान भाई सह-फसल प्रणाली में मूली की खेती कर सकते हैं। जिसमें किसान भाई मूली की खेती गेहूं, सरसों, गन्ना, जो और सोआ के साथ कर सकते हैं और अच्छी आय प्राप्त कर सकते हैं। इसकी खेती के लिए ठंडी और आर्द्र जलवायु बहुत उपयुक्त होती है।

मूली के अच्छे उत्पादन के लिए सर्दी बहुत उपयुक्त होती है। इसके पौधे ठंडी जलवायु में अच्छी तरह विकसित होते हैं। इसकी खेती के लिए भूमि का पीएच. मान सामान्य होना चाहिए। मूली को clay loam soil  में उगाना सबसे अच्छा होता है। भारत के पहाड़ी क्षेत्रों को छोड़कर लगभग हर जगह इसकी खेती की जा सकती है। जिसका बाजार भाव 5 रुपये प्रति किलो पाया जाता है. और इसके अनुसार किसान भाई एक बार में एक हेक्टेयर से 1.25 लाख तक आसानी से कमा सकता है।

Source: khet kisan

तो दोस्तों हमने मूली की खेती (Muli Ki Kheti Kaise Karen) कैसे करें की सम्पूर्ण जानकारी आपको इस लेख से देने की कोशिश की है उम्मीद है आपको यह लेख पसंद आया होगा अगर आपको हमारी post अच्छी लगी हो तो प्लीज कमेंट सेक्शन में हमें बताएँ और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें।

Thanks for reading     

Leave a Comment

Your email address will not be published.