पान की खेती कैसे करें? – Pan Ki Kheti Kaise Karen

Pan Ki Kheti Kaise Karen: पान betel हमारे देश में पूजा और भोजन के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला बारहमासी झंडा है। चूने के Powder का उपयोग तवे और तवे के साथ भोजन के रूप में किया जाता है। यह एक लोकप्रिय धारणा है कि पान खाने से मुंह साफ रहता है, जबकि पान से निकलने वाली लार पाचन प्रक्रिया को तेज करती है और भोजन को पचाने में आसान बनाती है। वहीं, पान ऊर्जा शरीर पर निर्भर करती है।

यदि आप ज़्यादा profits की खेती करना चाहते हैं, तो पान की खेती (betel cultivation)आपके लिए बेहतर विकल्प है।

Pan Ki Kheti Kaise Karen

पौधे की पत्तियों को खाने से कई बीमारियों से राहत मिलती है। इसे खाने से पाचन शक्ति बढ़ेगी और शरीर स्वस्थ रहेगा। इसके पत्तों को पीसकर घाव या घाव पर लगाने से आराम मिलता है। इसके अलावा इसका व्यावसायिक उपयोग भी किया जाता है। इसके पत्तों से धूम्रपान उत्पाद बनते हैं।

भारत में पान की खेती ज्यादातर पूर्वी और दक्षिण भारत में की जाती है। यहां की जलवायु इसकी खेती के लिए अनुकूल है। इसके पौधे को सामान्य तापमान और छायादार स्थान की आवश्यकता होती है। पान के पौधे को अधिक वर्षा की आवश्यकता होती है। गर्म हवा इसकी उपज को नुकसान पहुंचाती है। गर्म हवा चलने पर इसके पत्ते जलने लगते हैं।

भूमि  कैसी होनी चाहिए?

हमारे देश में पान की बेल सभी प्रकार की मिट्टी में उगती है, लेकिन अच्छी उपज के लिए, उच्च, ढलान वाली, अच्छी जल निकासी वाली रेतीली या दोमट दोमट मिट्टी जो कार्बनिक पदार्थों से भरपूर होती है, जिसका pH 5.6 से 8.2 होता है। पान को खेती के लिए उपयुक्त माना जाता है। पान अक्सर तालाबों या ऊंची जमीन पर उगाया जाता है।

पान की खेती के तहत तालाब की कम से कम 15 सेमी काली मिट्टी (मैनुअल मिट्टी) होनी चाहिए। मुखपत्र को ध्यान में रखते हुए, बाधा क्षेत्र को झुकाना उपयोगी होगा। अग्नाशयशोथ स्थिर या स्थिर पानी के कारण होता है। पान की खेती के लिए वर्ष भर सिंचाई सुनिश्चित करनी चाहिए।

सिंचाई कैसे करें?

पान के पौधों को अधिक पानी की आवश्यकता होती है। इसकी प्रारंभिक सिंचाई रोपण के तुरंत बाद की जाती है। पान के पौधों के लिए गर्मियों में हर दो दिन में और सर्दियों में 15 से 20 दिन में उनके पौधों को पानी दें। इसके अलावा बारिश होने पर पौधों को जरूरत पड़ने पर ही पानी दें।

जलवायु और तापमान कितना होना चाहिए?

पान एक उष्णकटिबंधीय पौधा है और इसके उत्पादन के लिए अनुकूल परिस्थितियाँ आवश्यक हैं। यह नम, ठंडे और छायादार वातावरण में अच्छी तरह से बढ़ता है। इसे खुले मैदान में नहीं उगाया जा सकता जहां की जलवायु उच्च और ठंडी हो, इसलिए इसे कृत्रिम मंडपों के अंदर उगाया जाता है।

इसे बोलचाल की भाषा में परेजा या परेडा कहते हैं। पान की खेती शुष्क उत्तर पश्चिम को छोड़कर पूरे भारत में की जाती है। खेती के लिए इष्टतम तापमान 15 से 40°C, आर्द्रता 40 से 80 प्रतिशत और वर्षा 2250 से 4750 mm प्रति वर्ष है।

उन्नत किस्में (improved varieties)

वर्तमान में, कई उन्नत पान की किस्में उगाई जाती हैं जो विभिन्न प्रकार की पत्तियों के साथ अत्यधिक उत्पादक और विभिन्न जलवायु के अनुकूल होती हैं। इसकी किस्में पान के आकार और स्वाद के अनुसार तैयार की जाती हैं। निम्नलिखित हैं:- बंगला, कलकत्ता, सोफिया, बनारसी, मीता, रामटेक, सांची, देशावरी, कपूर और मगई।

उर्वरक की मात्रा कितनी होनी चाहिए?

पान की लताओं को अच्छे पोषक तत्व मिले यह सुनिश्चित करने के लिए अक्सर पान की खेती में उर्वरकों का उपयोग किया जाता है। पान की खेती में अक्सर जैविक घटकों का उपयोग किया जाता है। उत्तर भारत में सरसों, तिल, नीम या अंडे की खली का प्रयोग किया जाता है, जिसे जुलाई-अक्टूबर के दौरान 15 दिनों के अंतराल पर परोसा जाता है। बरसात के मौसम में केक के साथ थोड़ा सा यूरिया भी इस्तेमाल किया जाता है।

खरपतवार नियंत्रण कैसे करें?

पान के पौधों को अधिक खरपतवार नियंत्रण की आवश्यकता होती है। इसके पौधों पर पत्तियाँ तैयार होने तक हर महीने खरपतवार निकालते रहना चाहिए। पान की फसल में खरपतवारों को नियंत्रित करने के लिए हाथों से खरपतवार निकालना उचित समझा जाता है।

रोग एवं कीट प्रबंधन (diseases and pests)

लीफ स्पॉट या पर्ण चित्ती रोग(leaf spot disease)

पान की लताओं को अच्छे पोषक तत्व मिले यह सुनिश्चित करने के लिए अक्सर पान की खेती में उर्वरकों का उपयोग किया जाता है। पान की खेती में अक्सर Carbonic घटकों का उपयोग किया जाता है। उत्तर भारत में सरसों, तिल, नीम या अंडे की खली का प्रयोग किया जाता है, जिसे जुलाई-अक्टूबर के दौरान 15 दिनों के अंतराल पर परोसा जाता है। बरसात के मौसम में केक के साथ थोड़ा सा यूरिया भी प्रयोग किया जाता है।

इसका मुख्य कारण “pseudomodus bacillus” है। इसके फटने के बाद इसके लक्षण इस प्रकार हैं। इसमें पत्तियों पर भूरे रंग के गोल या कोणीय धब्बे दिखाई देते हैं, जिससे पौधा नष्ट हो जाता है।

पर्णचित्ती/तना श्याम वर्ण रोग

यह एक कवक रोग है, जो मुख्य रूप से “Colostrum Cats” के कारण होता है। इसका संक्रमण तने के किसी भी भाग पर हो सकता है। शुरुआत में यह छोटे काले धब्बों के रूप में दिखाई देता है, जो नमी मिलने के बाद और फैल जाता है। इससे फसलों को काफी नुकसान होता है।

ग्रीवा गलन या गंदली रोग(Cervical effusion)

यह भी एक कवक रोग है, जो मुख्य रूप से “sclerosium selfie” नामक कवक के कारण होता है। इस हमले से बेलों पर गहरे घाव हो जाते हैं, पत्तियाँ पीली होकर फसल को नष्ट कर देती हैं।

तनगलन रोग(asbestos disease)

यह मुख्य रूप से “Phytophthora parasitica” नामक piperine नामक कवक के कारण होने वाला एक कवक रोग भी है। इस प्रकार लताओं का आधार सड़ रहा है। इस हमले से पौधे मुरझा जाते हैं और कुछ ही समय में मर जाते हैं।

पर्ण/गलन रोग(foliar disease)

यह एक कवक रोग है जिसे “Phytophthora parasitica”कहा जाता है। इसके प्रयोग से पत्तियों पर गहरे भूरे रंग के धब्बे बन जाते हैं, जो बरसात के मौसम के बाद भी बने रहते हैं। वे फल को बहुत नुकसान पहुंचाते हैं।

पैदावार और लाभ( yield and profit)

पान के पौधे की उपज प्राप्त करने में काफी मेहनत लगती है, लेकिन एक बार पौधा तैयार हो जाने पर किसानों को अच्छी आमदनी हो सकती है। एक हेक्टेयर भूमि में 60,000 पौधे लगाए जा सकते हैं, जिनमें से प्रत्येक में प्रति वर्ष 50 से 60 पत्ते पैदा होते हैं। इससे एक ही फसल से करीब 30 L पत्ते प्राप्त किए जा सकते हैं। पान की पत्तियों का बाज़ारी भाव एक Rs प्रति पत्ती होता है, जिससे किसान भाई एक हेक्टेयर के खेत में पान की खेती कर अधिक मुनाफा कमा सकते है |

निष्कर्ष

पान हमारे देश में पूजा और भोजन के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला बारहमासी झंडा है। पान की खेती ज्यादातर पूर्वी और दक्षिणी भारत में की जाती है। यहां की जलवायु इसकी खेती के लिए अनुकूल है। इसके पौधे को सामान्य तापमान और छायादार स्थान की आवश्यकता होती है। हमारे देश में पान की बेल सभी प्रकार की मिट्टी में उगती है लेकिन अच्छी उपज के लिए, उच्च, ढलान वाली, अच्छी जल निकासी वाली रेतीली या दोमट मिट्टी जिसमें

organic पदार्थों का पीएच 5.6 से 8.2 तक होता है। पान एक उष्णकटिबंधीय पौधा है और इसके उत्पादन के लिए अनुकूल परिस्थितियाँ आवश्यक हैं।  यह नम, ठंडे और छायादार वातावरण में अच्छी तरह से बढ़ता है। पान के पौधों को अधिक खरपतवार नियंत्रण की आवश्यकता होती है। एक हेक्टेयर भूमि में 60,000 पौधे लगाए जा सकते हैं, जिनमें से प्रत्येक में प्रति वर्ष 50 से 60 पत्ते पैदा होते हैं।  इससे एक ही फसल से करीब 30L पत्ते प्राप्त किए जा सकते हैं। पान की पत्तियों का बाज़ारी भाव एक rupay प्रति पत्ती होता है, जिससे किसान भाई एक हेक्टेयर के खेत में पान की खेती कर अधिक मुनाफा कमा सकते है |

तो दोस्तों हमने पान की खेती कैसे करें (How to Cultivate betel ) की सम्पूर्ण जानकारी आपको इस लेख से देने की कोशिश की है उम्मीद है आपको यह लेख पसंद आया होगा अगर आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगी हो तो प्लीज कमेंट सेक्शन में हमें बताएँ और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें। Thanks for reading

Leave a Comment

Your email address will not be published.