Petha Ki Kheti Kaise Karen

पेठा की खेती कैसे करें? – Petha Ki Kheti Kaise Karen

Petha Ki Kheti Kaise Karen: पेठा की खेती कद्दू की फसल के रूप में की जाती है। इसे Kumra, Kushmanda और kashipal के नाम से भी जाना जाता है। इसके पौधे झंडों के रूप में फैले हुए हैं। इसकी कुछ प्रजातियों में, फल 1 से 2 mtr तक लंबे होते हैं, और फल हल्के सफेद powder coating दिखाई देते हैं। पेठा बनाने के लिए पेठा के जड़ फलों से सब्जियों और पके फलों का उपयोग किया जाता है।

Petha Ki Kheti Kaise Karen

इतना ही नहीं, chyawanprash की मदद से आप अपने मानसिक स्वास्थ्य को बढ़ा सकते हैं और छोटी-मोटी बीमारियों से बचा सकते हैं। बेठा कम लागत में अत्यधिक लाभदायक कृषि है, यही कारण है कि किसान भाई बेथा की खेती को प्राथमिकता देते हैं।  

उपयुक्त मिट्टी, जलवायु और तापमान

पेठा को किसी भी उपजाऊ मिट्टी में उगाया जा सकता है। मिट्टी की मिट्टी इसकी अच्छी उपज के लिए उपयुक्त मानी जाती है। उचित जल निकासी सुविधा वाली भूमि में आसानी से खेती की जा सकती है। इसकी खेती में भूमि का Ph. value 6से 8 होना चाहिए।

पेठा की खेती के लिए tropical climate की आवश्यकता होती है। इसकी खेती के लिए गर्मी और बरसात के मौसम उपयुक्त होते हैं, लेकिन अधिक ठंडी जलवायु इसकी खेती के लिए उपयुक्त नहीं होती है। क्योंकि ठंड के मौसम में इसके पौधे ठीक से नहीं उग पाते हैं।

पेठा के पौधे शुरू में सामान्य तापमान पर अच्छी तरह विकसित होते हैं, और बीज 15 डिग्री पर ठीक से अंकुरित होते हैं। बीज के अंकुरण के बाद, पौधे की वृद्धि के लिए 30 से 40 डिग्री के तापमान की आवश्यकता होती है। बीटा प्लांट उच्च तापमान पर ठीक से विकसित नहीं हो पाता है।

खाद एवं उर्वरक

पेठा कद्दू की फसल में 100 kg nitrogen (220 kg urea), 60 kg phosphorus (350 kg ssp)और 60 kg potash (100 kg muriate potash) per hectare देना चाहिए। नत्रजन की आधी मात्रा रासायनिक उर्वरकों में तथा Phosphorus तथा potash की पूरी मात्रा नाली या ट्रे में खेत में डालने पर दिया जाता है।  बची हुई नत्रजन को दो बराबर भागों में बाँटकर बुवाई के 20 और 40 दिन बाद जड़ों के पास खड़ी फसल को दिया जाता है। खेत की तैयारी करते समय 25 से 30 टन सड़ा हुआ गोबर या खाद प्रति हेक्टेयर मिट्टी में मिला दें।

रोपाई का सही समय और तरीका क्या है?

पेठा के बीजों को बीज के रूप में लगाया जाता है। बीज बोने से पहले, उन्हें सही मात्रा में तरल या Carbon dioxide से उपचारित करना चाहिए। प्रति हेक्टेयर 6 से 8 kl बीज की आवश्यकता होती है। बीजों को खेत में तैयार क्यारियों में रोपना चाहिए और बीजों को डेढ़ फुट की दूरी पर 2 से 3 सेमी की गहराई पर लगाना चाहिए।

पेठा के बीज बोने के लिए गर्मी और बरसात का मौसम आदर्श माना जाता है। इसके अलावा फरवरी से मध्य मार्च तक बीज बोए जा सकते हैं। पहाड़ी क्षेत्रों में मार्च के बाद बीज बोए जा सकते हैं। 

पेठा की प्रजातियां (Petha Species)

कोयम्बटूर(coimbatore) इस प्रकार के पौधे देर से फसल के लिए उगाए जाते हैं। इसके फलों से सब्जियां और मिठाई दोनों बनाई जाती हैं। इसके पौधों पर पैदा होने वाले फलों का औसत वजन लगभग 7 से 8 klg होता है और यह किस्म प्रति हेक्टेयर 300 क्विंटल उत्पादन करती है।

पूसा विश्वास(pusa vishwas)यह पेठा एक लंबा पौधा है। इसे तैयार होने में 120 दिन लगते हैं। एक फल का वजन लगभग 5 किलो होता है। यह किस्म 250 से 300 क्विंटल प्रति हेक्टेयर उपज देती है।

काशी उज्ज्वल(Kashi Ujjwal)इस किस्म के उत्पादन में 110 से 120 दिन लगते हैं। फल गोल आकार के होते हैं और उनका वजन लगभग 12KG होता है। यह किस्म 550 से 600 क्विंटल प्रति हेक्टेयर उपज देती है।

अर्को चन्दन(Another sandalwood)आर्को चंदन के उत्पादन में 130 दिन लगते हैं। इसके कच्चे फलों का उपयोग सब्जी बनाने में किया जाता है। यह किस्म 350 क्विंटल प्रति हेक्टेयर उपज देने के लिए जानी जाती है।

इसके अलावा, विभिन्न जलवायु और विभिन्न स्थानों में अधिक उपज देने के लिए कई उन्नत बीटा किस्मों का विकास किया गया है, जो निम्नानुसार हैं।

कीट (insect)

कददू का लाल कीट (red pumpkin bitill)- इस कीट के लार्वा जमीन में पाए जाते हैं। इसके लार्वा और परिपक्व दोनों नुकसान पहुंचाते हैं। वयस्क पौधों की युवा पत्तियों को अत्यधिक नुकसान पहुंचाता है। केकड़ा (worm)जमीन में रहता है, पौधों की जड़ों पर हमला करता है और उन्हें नुकसान पहुंचाता है। ये कीट जनवरी से March के महीनों के दौरान सबसे अधिक सक्रिय होते हैं। , BSS-988, Kalyanpur Kaddu-1 आदि।

फल मक्खी(fruit fly) इस कीट के लार्वा हानिकारक होते हैं। वयस्क मादा अपने अंडे छोटे, नाजुक फलों की त्वचा के अंदर देती है, और अंडे से चूजे निकलते हैं, फल के अंदर खाकर उन्हें नष्ट कर देते हैं। फल का वह भाग जहाँ कीट अपने अंडे देता है, वह भाग झुककर वहीं से सड़ जाता है। प्रभावित फल भी सड़ कर नीचे गिर जाते हैं।

रोग (Disease)

एन्छेक्नोज(Encheknoz) मानसूनी फसलों में इस रोग का प्रकोप अधिक होता है। इस रोग में पत्तियों और शाखाओं पर छोटे भूरे धब्बे दिखाई देते हैं। शाखाओं पर नारंगी धब्बे भी दिखाई देते हैं और पत्तियां बहुत जल्दी सूख जाती हैं।

फल सडन(fruit rot) कई कवक फलों के सड़ने का कारण बनते हैं जैसे Dementia, Rhizoctonia, Sclerotium, Macropomina और phytophthora । अनिवार्य रूप से ये सभी कवक मिट्टी से आते हैं। यह रोग मृदा जनित फलों में अधिक होता है। इसलिए पेठा कद्दू के फलों को समय-समय पर किनारे कर देना चाहिए और खेत में जल निकासी की व्यवस्था ठीक से करनी चाहिए।

तुड़ाई, पैदावार और लाभ (Harvesting, Yield and Benefits)

पेठा फलों को दो प्रकार के उपयोग के लिए काटा जाता है। यदि आप फलों को सब्जियों में तोड़ना चाहते हैं, तो आप इसे कच्चा काट सकते हैं, और पके फलों को विभिन्न प्रकार के उत्पाद बनाने के लिए काटा जाता है। फलों की कटाई के बाद उन्हें बाजार में बिक्री के लिए भेजा जाता है। प्रति हेक्टेयर 400 से 500 क्विंटल कृषि भूमि का उत्पादन होता है। पेठा का बाजार भाव भी अच्छा है, जिससे किसान भाई इसकी एक बार खेती करके आसानी से एक से दो लाख तक कमा सकते हैं।

निष्कर्ष

पेठा सेहत के लिए काफी फ़ायदेमंत होता है | इसके प्रयोग से बीमारियो का भी खतरा काम रहता है | पेठे की खेती से किसान भाइयो को भी बहुत फायदा रहता है |

तो दोस्तों हमने धान की खेती (Petha Farming) कैसे करें की सम्पूर्ण जानकारी आपको इस लेख से देने की कोशिश की है उम्मीद है आपको यह लेख पसंद आया होगा अगर आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगी हो तो प्लीज कमेंट सेक्शन में हमें बताएँ और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें। Thanks for reading    

Leave a Comment

Your email address will not be published.