Sagwan Ki Kheti Kaise kare

सागवान की खेती कैसे करें? – Sagwan Ki Kheti Kaise kare

Sagwan Ki Kheti Kaise kare: इसके पौधों का उपयोग औषधि में भी किया जाता है। सागवान की लकड़ी में कई खास गुण होते हैं और बाजार में इसकी हमेशा मांग रहती है। सागवान की लकड़ी हल्की और लंबे समय तक चलने वाली, दीमक से कम प्रवण होती है, साथ ही कम सिकुड़न और polished करने में आसान होती है।

Sagwan Ki Kheti Kaise kare

एक आंकड़े के मुताबिक, देश को प्रति वर्ष लगभग 180 करोड़ cubic फीट सागवान की जरूरत है, लेकिन प्रति वर्ष 90 मिलियन क्यूबिक फीट की पूर्ति होती है। इस प्रकार, वर्तमान में इसकी लकड़ी का केवल 5% ही भरा हुआ है। सा गवां का बाजार अभी भी 95% तक खाली है।  सागवान की खेती के कम जोखिम और उच्च आय के कारण किसान भाई इसकी खेती कर सकते हैं और अधिक लाभ कमा सकते हैं। 

उपयुक्त जलवायु मिट्टी और तापमान

सागवान के पौधों को उगने के लिए किसी विशेष मिट्टी की आवश्यकता नहीं होती है और उनके पौधों को मिट्टी की मिट्टी में आसानी से उगाया जा सकता है। लेकिन इसकी खेती के लिए जलभराव वाली भूमि नहीं होनी चाहिए। यदि पानी रुक जाता है, तो इसके पौधों पर रोग का खतरा बढ़ जाता है।

इसके पौधों को अच्छी तरह विकसित होने के लिए शुष्क और नम मौसम की आवश्यकता होती है। साल में 50 inch से ज्यादा बारिश इसके पौधों के लिए अच्छी होती है। अत्यधिक ठंड इसकी खेती के लिए अनुकूल नहीं होती है। सागवान के पौधे सामान्य तापमान पर अच्छी तरह विकसित होते हैं।

उन्नत किस्में (Improved Varieties)

सागवान की कई उन्नत किस्में हैं जो उगाई जाती हैं और अच्छा लाभ अर्जित करती हैं। ये सभी किस्में उपज की दृष्टि से सामान्य हैं और अलग-अलग जलवायु के अनुसार उगाई जाती हैं। सागौन के कुछ प्रमुख प्रकार हैं: South और मध्य American Teak, West African Teak, Adilabad Teak, Nilambar (Malabar) Teak, Godavari Teak और koi teak । इन सभी प्रकार के वृक्षों की लंबाई भिन्न-भिन्न पाई जाती है।

खेत की तैयारी कैसे करें? (How to prepare the field?)

सागवान के पौधे को खेत में लगाने से पहले उसके खेत को अच्छी तरह से तैयार कर लेना चाहिए। ऐसा करने के लिए खेत की अच्छी तरह जुताई करें और पुरानी फसल के अवशेषों को पूरी तरह नष्ट कर दें। उसके बाद खेत में 8 से 10 फीट की दूरी, दो फीट चौड़ा और डेढ़ फीट गहरा गड्ढा तैयार करना चाहिए। सागवान के पौधों को अधिक उर्वरक की आवश्यकता होती है।  इसलिए रोपण के एक माह पूर्व 500 gm NPKको लगभग 15 किग्रा पुराने गोबर में मिलाकर मिट्टी में छोड़ दें।

इसके पौधों को ठीक से विकसित होने के लिए Phosphorus, Potassium, Calcium और nitrogen के उच्च स्तर की आवश्यकता होती है। Calcium की पूर्ति के लिए compost manure का उपयोग किया जा सकता है। तैयार गड्ढों में इतनी मात्रा में खाद को मिट्टी में मिलाकर बुवाई के समय गड्ढों को भर दें। पौधे लगाने के बाद पानी डालें। इससे मिट्टी ठीक से स्थिर हो सकेगी और पौधों को बेहतर पोषक तत्व मिल सकेंगे। इन गड्ढों को रोपण के एक महीने पहले तैयार कर लेना चाहिए।

रोपाई का सही समय और तरीका क्या है?

सागवान के पौधों को बीज के रूप में पौधों में परिवर्तित करके रोपण किया जाता है। चूंकि दो साल पुराना पौधा अच्छी तरह से विकसित होगा, इसलिए वह जो पौधे रोपने के लिए लाता है वह लगभग दो साल पुराना होना चाहिए। इसके अलावा पौधों को उठाते समय इस बात का भी ध्यान रखना जरूरी है कि पौधे पूरी तरह स्वस्थ हों। गड्ढों में पौधे लगाने से पहले गोमूत्र से उपचार करें। इसके बाद पौधे को गड्ढे में लगाने के बाद मिट्टी से अच्छी तरह दबा दें। उसके बाद इन गड्ढों में पानी डालना चाहिए। सर्दियों में सागवान के पौधे नहीं लगाने चाहिए। रोपण के लिए मई और जून सबसे अच्छे महीने हैं।

पौधों की सिंचाई कैसे करें? (How to irrigate plants?)

सागवान के पौधों को अधिक पानी की आवश्यकता होती है। इसलिए इसके पौधों को रोपते ही सबसे पहले पानी देना चाहिए और एक महीने तक मिट्टी में नमी बनाए रखने के लिए, जबकि सर्दियों में इसके पौधों को 12 से 15 दिनों के अंतराल पर पानी देना चाहिए। इसके अलावा बारिश के मौसम में जरूरत पड़ने पर ही इसके पौधों को पानी दें।

खरपतवार नियंत्रण (Weed Control)

सागवान के पौधों में Weed Control के लिए निराई विधि का ही प्रयोग करना चाहिए। इससे पौधों की जड़ों को सही मात्रा में हवा मिलती है, जिससे पौधे तेजी से बढ़ते हैं। इसके पौधों पर Weed Control के लिए रसायनों का प्रयोग नहीं करना चाहिए।  

रोग एवं उनकी रोकथाम (Diseases and their Prevention)

कीट रोग(insect disease)सागवान के पौधे काले कीड़े और Leafhopper जैसे कीड़ों से प्रभावित होते हैं। यह कृमि रोग पौधों की पत्तियों पर आक्रमण कर उन्हें क्षति पहुँचाता है। इससे पत्तियां जगह-जगह कट जाती हैं। उचित मात्रा में पौधों पर Quinbos का छिड़काव करके रोग को रोका जा सकता है।

जड़ गलन रोग(root rot disease)इस प्रकार की बीमारी सबसे अधिक बार रुके हुए पानी में पाई जाती है। यदि पानी अधिक समय तक खेत में रहेगा तो पौधे मरने लगेंगे। इस रोग की रोकथाम के लिए खेत में रुके हुए पानी की अनुमति नहीं देनी चाहिए और पौधों की जड़ों पर वीरम-45 का छिड़काव करके रोग को रोका जा सकता है।

इस प्रकार का रोग सागवान के पौधों पर फंगस के कारण होता है। रोग लगने पर पौधे की पत्तियों पर सफेद पाउडर जमा हो जाता है। इस अवस्था में पौधे की पत्तियाँ प्रकाश संश्लेषण नहीं कर पाती हैं और पौधे का विकास पूरी तरह से रुक जाता है। 400g M-45 का पौधों पर छिड़काव कर इस रोग से बचा जा सकता है।

कटाई, पैदावार और लाभ (Harvesting, Yield and Benefits)

सागवान के पेड़ों को काटने के लिए सरकार से स्वीकृति पत्र प्राप्त करें। बिना सरकारी अनुमति के पेड़ों को काटना कानून के तहत अपराध है। सागौन के पेड़ों को कटाई के लिए तैयार होने में 10 से 12 साल लगते हैं। एक सागौन के पेड़ से लगभग 10 से 12 घन फीट लकड़ी आसानी से प्राप्त की जा सकती है।

सागवान का बाजार भाव 2,500 रुपये प्रति वर्ग फुट है। इस प्रकार एक पेड़ की कीमत लगभग 30,000 है। एक एकड़ जमीन में 400 से 500 पेड़ आसानी से लगाए जा सकते हैं। इससे किसान भाई एक एकड़ जमीन की कटाई कर आसानी से एक से 1.25 करोड़ रुपए तक कमा सकते हैं।

निष्कर्ष

सागवान की लकड़ी को सबसे मूल्यवान और मजबूत पेड़ों में से एक के रूप में जाना जाता है। सागवान की लकड़ी लगभग 200 से अधिक वर्षों से है। इसके पूर्ण विकसित पेड़ 100 से 140 फीट तक लंबे हो सकते हैं। सागवान के पौधे व्यावसायिक रूप से उगाए जाते हैं और इनका उपयोग plywood, ship, train के डिब्बे और कई अन्य प्रकार के मूल्यवान Furniture बनाने के लिए किया जाता है।   

तो दोस्तों हमने सागवान की खेती (Teak Farming) कैसे करें की सम्पूर्ण जानकारी आपको इस लेख से देने की कोशिश की है उम्मीद है आपको यह लेख पसंद आया होगा अगर आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगी हो तो प्लीज कमेंट सेक्शन में हमें बताएँ और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें। Thanks for reading      

Leave a Comment

Your email address will not be published.