santre ki kheti kaise kare

संतरे की खेती कैसे करें? – Santre Ki Kheti Kaise Kare

Santre Ki Kheti Kaise Kare: संतरा(orange) भारत में केले और आम के बाद तीसरा सबसे बड़ा फल उत्पादक है। भारत में संतरे की खेती Rajasthan, Himachal Pradesh, Punjab, Haryana और Uttar Pradesh में की जाती है।

यदि आप ज़्यादा profits की खेती करना चाहते हैं, तो संतरे की खेती (orange cultivation)आपके लिए बेहतर विकल्प है।

Santre Ki Kheti Kaise Kare

Nagpur, भारत अपने संतरे (Sandra’s Katie) की खेती के लिए प्रसिद्ध है। संतरे का 80 प्रतिशत उत्पादन Maharashtra में होता है। लेकिन कई ऐसी उन्नत किस्में विकसित की गई हैं, जिनकी खेती अन्य राज्यों में संभव है। संतरा उतना ही healthy और उतना ही स्वादिष्ट होता है। संतरे की खेती किसानों के लिए लाभदायक सौदा है।

संतरे के फल में कई medicinal properties होते हैं जो हमारे शरीर को स्वस्थ रखने में काफी मदद करते हैं। संतरा vitamin C से भरपूर फल है। संतरे की खेती से किसानों को कम लागत में अच्छा लाभ मिलता है।

भूमि  कैसी होनी चाहिए?

किसी भी बगीचे के लिए मिट्टी की उर्वरता बहुत महत्वपूर्ण होती है। बाग लगाने से पहले मिट्टी की जांच कर भविष्य में आने वाली समस्याओं से बचा जा सकता है। orange gardening के लिए मिट्टी की ऊपरी और निचली सतह की बनावट और गुणवत्ता पर अधिक ध्यान देने की आवश्यकता होती है। 6.0 से 8.0 के ph वाली हल्की मिट्टी उपयुक्त होती है।

सिंचाई कैसे करें ?

सिंचाई मौसम के अनुसार की जाती है और planting के तुरंत बाद, पौधे को सड़ने से रोकने के लिए पूरे खेत को अच्छी तरह से सिंचित कर देना चाहिए। winter में इसे 25 दिनों में एक बार और summer में इसे 10 दिनों के भीतर पानी देना चाहिए।

जलवायु और तापमान कितना होना चाहिए ?

जलवायु किसी भी किसान के लिए कृषि का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है। मौसम यह दिखाता है। फसल अच्छी होगी या नहीं?  संतरे की खेती के लिए 17 से 20 degree temperature अनुकूल माना जाता है। फसल अधिकतम 40 degree और न्यूनतम तापमान 27 degree झेलने में सक्षम है।

उन्नत किस्में (improved varieties)

भारत में संतरे की कई किस्में उगाई जाती हैं। लेकिन व्यवसाय की दृष्टि से कुछ ही किस्मों और संकरों का ही उपयोग किया जाता है, जो इस प्रकार हैं

नागपुरी- Nagpuri Orange किस्म को पोंकन के नाम से भी जाना जाता है। इसके पेड़ मजबूत और घने होते हैं। इसके फल मध्यम आकार के होते हैं और फल में 10 से 12 ढीले गुच्छे होते हैं। इसके रस में रस की मात्रा अधिक होती है और इसमें 7 से 8 बीज होते हैं। यह संतरे की सबसे महत्वपूर्ण और उत्तम किस्म है। यह पूरी दुनिया में उगाया जाता है। यह January-February में पकती है।

किन्नो- यह एक संकर है जो राजा और विलो पत्ती की किस्मों को मिलाकर बनाया जाता है। इसके पौधे आकार में बढ़े हुए, एक समान होते हैं, इसके पत्ते घने और चौड़े होते हैं। फल मध्यम आकार के, पकने पर orange-yellow, अधिक रसीले फल और 12 से 24 बीज वाले होते हैं।

खासी- इस प्रकार को स्थानीय रूप से Sikkim के नाम से जाना जाता है। यह professional रूप से Assamऔर Meghalaya में उगाया जाता है। इसके पेड़ सामान्य से बड़े होते हैं। इसके पत्ते घने और कांटेदार होते हैं। फल orange, yellow से गहरे Orange color के होते हैं, जिनकी सतह चिकनी होती है, 9 से 25 बीज होते हैं।

कूर्ग- इस प्रकार का वृक्ष सीधा और घना होता है। इसके फल चमकीले Orange, आकार में मध्यम से बड़े, छिलने में आसान, 9 से 11 phalanges के साथ होते हैं। इसमें उच्च रस और 15 से 25 बीज होते हैं। यह February-March में पकती है।

उर्वरक की मात्रा कितनी होनी चाहिए?

nitrogen दो बार March और October में देना चाहिए, हालांकि खाद, Phosphorus और  potash october में यार्ड में डालना चाहिए। Zinc Sulphate (0.5%), Manganese (0.05%), Iron (0.25%), Magnesium (0.5%), Boron (0.1%)और Molybdenum (0.003%)का घोल हर 3 महीने में एक बार नए सिरे से तैयार करें । इसके अलावा, प्रत्येक पेड़ पर हर साल 50 g sulfate zinc, manganese और Iron लगाया जाता है।

खरपतवार नियंत्रण कैसे करें?

बीजपत्री खरपतवारों में मोथा, tobago और कुश तथा Two-lane Road, Fatua, Paul, Congress, घास मुख्य रूप से खरपतवार बनने से पहले पाई जाती है – Dioron 3 kg। जी या 4 किलो सिमागिन। सक्रिय अणु प्रति हेक्टेयर के आधार पर पहले जून के पहले सप्ताह में मिट्टी का छिड़काव करें और सितंबर में 120 दिनों के बाद बगीचे को लगभग 10 महीने तक खरपतवार मुक्त रखा जा सकता है।

निराई के बाद – 4 liters glyphosate या 2 लीटर paraquat 500 से 600 लीटर पानी प्रति हेक्टेयर में मिलाकर लगाएं। यदि संभव हो तो फूल आने से पहले herbicide का प्रयोग करें। महत्वपूर्ण पौधों पर herbicide का उपयोग नहीं किया जाना चाहिए।

रोग एवं कीट प्रबंधन

फाइटोफ्थोरा के लक्षण: phytophthora एक ऐसी बीमारी है जिसमें नर्सरी में पौधे पीले हो जाते हैं, बढ़ना बंद हो जाते हैं और जड़ सड़ जाते हैं। इस फंगस के कारण तने पर जमीन से दो फीट ऊपर तक काले धब्बे दिखाई देते हैं, जिससे छाल सूख जाती है। इन जगहों से गोंद जैसा पदार्थ निकलता है। इस फंगस से पेड़ों की जड़ें भी क्षतिग्रस्त हो जाती हैं। प्रभावित पौधे धीरे-धीरे सूख जाएंगे।

रोग की उत्पत्ति: फंगस phytophthora के रोगजनकों के कारण नम मिट्टी में फफूंदी बढ़ जाती है। बारिश से पहले बीजाणु 25 से 30 °C यस के तापमान पर बढ़ते हैं और एक थैला बनाते हैं, जो पानी में तैरता है और जड़ की नोक और जड़ के घाव के संपर्क में आने से रोग फैलता है।  इन बीजाणुओं से, एक धागे जैसा कवक विकसित होता है, जो तब कोशिकाओं में प्रवेश करता है और कवक को पुन: उत्पन्न करता है। phytophthora कवक नर्सरी और बगीचे की नमी में साल भर सक्रिय रहता है।

पैदावार और लाभ

संतरे की खेती से होने वाली आय (सैंड्रा की गेठी) पौधे के रखरखाव पर निर्भर करती है। पौधों की देखभाल जितनी अच्छी होगी, उपज उतनी ही अधिक होगी। एक पूर्ण विकसित पौधे से 100 से 150 KG उपज की सूचना दी जा सकती है। एक एकड़ के खेत में लगभग 100 पौधे लगाने से 10000 से 15000 Kg उपज प्राप्त हो सकती है।

बाजार में संतरे का थोक भाव 10 रुपये से 30 रुपये प्रति किलो के बीच है। यानी एक commodity पर 1 लाख 50 लाख रुपये से 4 लाख रुपये तक की कमाई की जा सकती है. 5 से 7°C पर 85 से 90 प्रतिशत आर्द्रता पर 3 से 5 सप्ताह तक आराम से संग्रहीत किया जा सकता है।

निष्कर्ष

संतरा भारत में उगाया जाने वाला एक खट्टे फल है। खट्टे फलों में से केवल 50 प्रतिशत संतरे उगाए जाते हैं। भारत में संतरे और Malta की व्यावसायिक रूप से खेती की जाती है। संतरे के फल में कई औषधीय गुण होते हैं, जो हमारे शरीर को स्वस्थ रखने में काफी मदद करते हैं। संतरा Vitamin C से भरपूर फल है। संतरे की खेती से किसानों को कम लागत में अच्छा लाभ मिलता है। किसी भी बगीचे के लिए मिट्टी की उर्वरता बहुत महत्वपूर्ण होती है। बाग लगाने से पहले मिट्टी का निरीक्षण कर भविष्य की समस्याओं से बचा जा सकता है।

जलवायु किसी भी किसान के लिए कृषि का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है। मौसम यह दिखाता है। संतरे की खेती के लिए 17 से 20 डिग्री तापमान अनुकूल माना जाता है। संतरे की खेती से होने वाली आय (सैंड्रा की घी) पौधे के रखरखाव पर निर्भर करती है। पौधों की देखभाल जितनी अच्छी होगी, उपज उतनी ही अधिक होगी। बाजार में संतरे का थोक भाव 10 रुपये से 30 रुपये प्रति किलो के बीच है। यानी एक वस्तु पर 1 लाख 50 लाख रुपये से 4 लाख रुपये तक की कमाई की जा सकती है।

यह भी पढ़े:

Source: Indias Farming

तो दोस्तों हमने संतरे की खेती कैसे करें ( Santre Ki Kheti Kaise Kare) की सम्पूर्ण जानकारी आपको इस लेख से देने की कोशिश की है उम्मीद है आपको यह लेख पसंद आया होगा अगर आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगी हो तो प्लीज कमेंट सेक्शन में हमें बताएँ और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें। Thanks for reading

Leave a Comment

Your email address will not be published.