Sarso Ki Kheti Kaise Kare

सरसों की खेती कैसे करे? – Sarso Ki Kheti Kaise Kare

Sarso Ki Kheti Kaise Kare: Mustard सरसों को एक प्रमुख तिलहन (मूंगफली, सरसों, सोयाबीन) फसल के रूप में उगाया जाता है। सरसों की फसल कम लागत में अधिक लाभदायक है। सरसों की खेती मुख्य रूप से राजस्थान के माधवपुर, भरतपुर, सवाई, कोटा, जयपुर, अलवर और करोली जिलों में की जाती है।

Sarso Ki Kheti Kaise Kare

सरसों का उपयोग इसके दानों से तेल निकालने में किया जाता है। हमारे देश में सरसों के तेल का व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। तेल के अलावा, खली सरसों के बीज से आती है। पशु चारा के रूप में उपयोग किया जाता है।

उपयुक्त जलवायु और भूमि

भारत में सर्दियों में सरसों की खेती की जाती है। इस फसल के लिए 18 से 25 celsius temperature की आवश्यकता होती है। फूल आने के समय सरसों की फसल के लिए वातावरण में बारिश, उच्च आर्द्रता और बादल का मौसम अच्छा नहीं है। यदि इस प्रकार का मौसम होता है, तो फसल के फलने या मुरझाने की संभावना अधिक होती है।

सरसों को रेतीली और भारी मिट्टी वाली मिट्टी में उगाया जा सकता है। लेकिन बलुई दोमट मिट्टी अधिक उपयुक्त होती है। यह फसल हल्की क्षारीयता को सहन करती है। लेकिन मिट्टी अम्लीय नहीं होनी चाहिए।

सरसों की फसल के लिए खेत की तैयारी कैसे करें?

सरसों के बीज को खेत में बोने से पहले उसके खेत को अच्छी तरह से तैयार कर लेना चाहिए ताकि सरसों की अच्छी पैदावार हो। सरसों की खेती के लिए भूनने वाली मिट्टी की आवश्यकता होती है। चूंकि सरसों खरीफ फसल के बाद उगती है, इसलिए खेत की अच्छी तरह से जुताई कर देनी चाहिए ताकि पुरानी फसल के अवशेष पूरी तरह नष्ट हो जाएं।

इसके बाद कुछ दिनों के लिए खेत को खुला छोड़ दें ताकि खेत की मिट्टी पर उचित धूप पड़े। इसके बाद rotavator से खेत की दो-तीन बार जुताई करें। जुताई के बाद इसे पैड से शुरू करें ताकि खेत एक समान रहे और पानी के रुकने जैसी समस्या न हो।

सरसों की उन्नत किस्मे

पूसा बोल्ड(Pusa Bold)

ये पौधे 125 से 140 दिनों में उपज के लिए तैयार हो जाते हैं। पौधे की फली घनी होती है। इसके दानों से केवल 37-38 प्रतिशत तेल ही मिलता है। 20 से 25 क्विंटल प्रति हेक्टेयर उपज देता है।

वसुंधरा (R.H. 9304 vasundhara)

इस प्रकार के पौधे की ऊंचाई 180-190 सेमी होती है। इसमें से जो फलियां निकलती हैं वे सफेद गोल होती हैं और टूटने से बचाती हैं। इसके पौधे 130-135 दिनों में उपज देने के लिए तैयार हो जाते हैं और यह किस्म 25 से 27 क्विंटल प्रति hector उपज देती है।

अरावली (Aravali RN 393)

इस प्रकार की सरसों की फसल को पकने में 135 से 140 दिन लगते हैं। इसके पौधे मध्यम ऊंचाई के होते हैं और 43 प्रतिशत तेल इसके बीजों से प्राप्त होता है। यह एक सफेद रोली प्रतिरोधी पौधा है जो प्रति हेक्टेयर 22 से 25 क्विंटल उपज देता है।

इसके अलावा सरसों की विभिन्न किस्मों की भी खेती की जाती है जैसे जगन्नाथ (PS5), बायो 902 (पूसा जय किसान), D59 (वरुण), RH। 30, आशीर्वाद (RK 3-5), स्वर्ण ज्योति (RH 9802), लक्ष्मी (RH 8812)।

सरसों की बुवाई का सही समय और तरीका क्या है?

सरसों की बिजाई सितंबर से अक्टूबर के बीच करनी चाहिए। इसे अक्टूबर के अंत तक बोया जा सकता है, लेकिन केवल सिंचित क्षेत्रों में। इसकी बुवाई के लिए 25 से 27 degree temperature आदर्श माना जाता है और सरसों को कतारों में बोया जाता है। ऐसा करने के लिए खेत में 30 सेमी के अंतराल पर कतारें तैयार कर लें।

इसके बाद सरसों के दानों को 10 CM. के फासले पर लगाना चाहिए। बीज बोने से पहले, इसे उचित मात्रा में Mancozeb से उपचारित करना चाहिए। इसके बाद मिट्टी की नमी के अनुसार गहराई से बीज बोना चाहिए। प्रति हेक्टेयर 3 से 5 किलो बीज की आवश्यकता होती है। Sarso Ki Kheti Kaise Kare

सरसों के खेत में उवर्रक और खाद की मात्रा

अच्छी फसल उपज के लिए खेत में अच्छी मात्रा में खाद और उर्वरक देना चाहिए। इसके लिए 8 से 10 टन पुराना गोबर प्रति हेक्टेयर खेत की जुताई करते समय डालना चाहिए। इसके बाद tractor को खेत में चलाकर गाय के गोबर को अच्छी तरह मिला लें।30 से 40 किलो Phosphorus, 375 किलो gypsum, 80 किलो Nitogen और 60 किलो sulphur प्रति हेक्टेयर chemical खाद के रूप में डालें। Phosphorus की पूरी मात्रा और आधी नत्रजन जुताई के समय और आधी मात्रा जल्दी सिंचाई के समय डालें। Sarso Ki Kheti Kaise Kare

सरसों के पौधों की सिंचाई कैसे करें?

सरसों के बीजों को अधिक सिंचाई की आवश्यकता नहीं होती है क्योंकि इन्हें सर्दियों में लगाया जाता है। लेकिन समय पर सिंचाई करने से अच्छी उपज प्राप्त की जा सकती है। बुवाई के तुरंत बाद बीजों को पानी देना चाहिए। इसके बाद 60 से 70 दिनों के अंतराल पर दूसरी बार पानी देना चाहिए। यदि खेत में सिंचाई की आवश्यकता हो तो उसमें पानी देना चाहिए।

खरपतवार नियंत्रण (Weed Control)

सरसों के पौधों की अच्छी वृद्धि के लिए खरपतवार नियंत्रण आवश्यक है। इसके लिए खरपतवारों को प्राकृतिक रूप से हटा देना चाहिए। इसकी पहली निराई 25 से 30 दिनों के अंतराल पर करनी चाहिए। इसके बाद समय-समय पर जब खेत में खरपतवार दिखाई दें तो उसकी Mulching कर दें। इसके अलावा सही मात्रा में पानी के साथ floride का छिड़काव करके खरपतवारों को रासायनिक रूप से नियंत्रित किया जा सकता है।

प्रमुख कीट(major pest)

आरा मक्खी(jigsaw fly)– इस कीट का अमृत काले और भूरे रंग का होता है। सरसों की खेती में जब पत्तों को किनारों से काटकर या पत्तों को छेदकर खा लिया जाता है तो पूरा पौधा पर्णपाती हो जाता है।

चित्रित बग(painted bug) इस कीट के बच्चों और वयस्कों में चमकीले काले, नारंगी और लाल धब्बे होते हैं। बच्चे और वयस्क पत्तियों, टहनियों, तनों, फूलों और फलियों से रस चूसते हैं। इससे प्रभावित पत्तियाँ किनारों से सूख कर गिर जाती हैं। प्रभावित फली में दाने कम बनते हैं।

प्रमुख रोग(major disease)

अल्टरनेरिया पत्ती धब्बा(alternaria leaf spot) इस रोग के कारण सरसों की फसल की पत्तियों और फलियों पर गहरे भूरे रंग के धब्बे पड़ जाते हैं। पत्तियाँ गोलाकार वलय के रूप में स्पष्ट रूप से दिखाई देती हैं। गंभीर संक्रमण में, धब्बे आपस में मिल सकते हैं और पूरे पत्ते में जल सकते हैं।

सफेद गेरूई(white ocher) इस रोग में पत्तियों की निचली सतह पर सफेद छाले बन जाते हैं। इससे पत्तियाँ पीली होकर सूख जाती हैं। पुष्पक्रम अक्षीय दौड़; उससे कोई फल नहीं बना।

तुलासिता(tulasita) इस रोग के कारण सरसों की खेती में पुरानी पत्तियों की ऊपरी सतह तथा पत्तियों की निचली सतह पर छोटे-छोटे चूर्णयुक्त फफूंदी उग आते हैं। धीरे-धीरे पूरा पत्ता पीला होकर सूख जाता है।

सरसों के फसल की कटाई, पैदावार और लाभ

सरसों की फसल 125 से 150 दिन में पूरी तरह पक जाती है। उसके बाद आप फसल ले सकते हैं। यदि इसके पौधों की समय से कटाई नहीं की गई तो इसकी फलियाँ फटने लगेंगी। इससे उपज में 7 से 10 प्रतिशत की कमी आएगी।

जब फलियां पीली दिखाई दें तो सरसों के पौधों की कटाई कर लेनी चाहिए। सरसों के पौधे की पैदावार 25 से 30 क्विंटल प्रति हेक्टेयर होती है। किसान सरसों की खेती कर सकते हैं और अच्छी आय प्राप्त कर सकते हैं क्योंकि सरसों का बाजार मूल्य अच्छा है।

निष्कर्ष

सरसों शरीर के वजन को कम करने में मदद करती है। सरसों का तेल विटामिन ई से भरपूर होता है, जो त्वचा के लिए बहुत फायदेमंद होता है।

तो दोस्तों हमने Sarso Ki Kheti Kaise Kare की सम्पूर्ण जानकारी आपको इस लेख से देने की कोशिश की है उम्मीद है आपको यह लेख पसंद आया होगा अगर आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगी हो तो प्लीज कमेंट सेक्शन में हमें बताएँ और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें। Thanks for reading   

Leave a Comment

Your email address will not be published.