Saunf Ki Kheti Kaise Karen

सौंफ की खेती कैसे करें? – Saunf Ki Kheti Kaise Karen

Saunf Ki Kheti Kaise Karen: सौंफ (Fennel) की खेती सुगंधित फसल के रूप में की जाती है। सौंफ के बीज हरे और छोटे होते हैं। सौंफ का सेवन इंसानों के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इसका उपयोग अचार और सब्जियों की सुगंध और स्वाद को बढ़ाने के लिए किया जाता है।

इसके अलावा मीठा खाना खाने के बाद खाना जल्दी पचने के लिए भी सौंफ का इस्तेमाल किया जाता है. सौंफ खाने से पेट से जुड़ी कई बीमारियां दूर होती हैं। वर्तमान में सौंफ का उपयोग mouth freshener के रूप में भी किया जाता है। सौंफ में एक खास तरह का essential oil पाया जाता है। इसका professional रूप से soap और shampoo के निर्माण में उपयोग किया जाता है।

Saunf Ki Kheti Kaise Karenसौंफ की खेती कैसे करें

सौंफ लगभग 3 फीट लंबा होता है। पत्तियाँ छोटी होती हैं। समशीतोष्ण जलवायु में सौंफ अच्छी तरह से बढ़ता है। इसके पौधे को सर्दी और गर्मी दोनों की जरूरत होती है। इसकी खेती के लिए भूमि का ph. मान सामान्य होना चाहिए। भारत में, यह Rajasthan, Gujarat, Haryana, Uttar Pradesh, Karnataka और Punjab में व्यापक रूप से उगाया जाता है।

उपयुक्त मिट्टी(suitable soil)

सौंफ की खेती के लिए उपयुक्त मिट्टी की loam soil अच्छी मानी जाती है। जबकि उच्च Sandy soil में इसकी खेती नहीं की जा सकती है। और इसकी खेती के लिए भूमि में जलभराव नहीं होना चाहिए। जैसे ही पानी रुकेगा, पौधा जल्दी खराब हो जाएगा। इसकी खेती के लिए भूमि का ph. मान 6.5 और 8 के बीच होना चाहिए।

जलवायु और तापमान(climate and temperature)

सौंफ की खेती के लिए शुष्क और ठंडी जलवायु की आवश्यकता होती है। भारत में इसकी खेती सर्दियों में रबी फसलों के साथ की जाती है। लेकिन कड़ाके की सर्दी और जाड़े की पाला इसकी खेती के लिए हानिकारक हो सकता है। सौंफ को सर्दियों में उगाया जा सकता है, लेकिन इसके दानों को पकने के लिए गर्मी की आवश्यकता होती है।

सौंफ के पौधों को ज्यादा बारिश की जरूरत नहीं होती है। सौंफ की खेती के लिए शुरुआती बीज अंकुरण के समय सामान्य तापमान की आवश्यकता होती है। बीज अंकुरित होने के बाद, पौधों को बढ़ने के लिए लगभग 20 डिग्री तापमान की आवश्यकता होती है। उसके बाद फसल के परिपक्व होने पर पौधों को 25 से 30 डिग्री तापमान की आवश्यकता होती है।

खेत की सिंचाई (farm irrigation)

सौंफ के बीज सूखी मिट्टी में लगाए जाते हैं। इसलिए बीज या पौध रोपने के तुरंत बाद खेत में पानी दें। सौंफ के पौधे को अधिक पानी की आवश्यकता होती है। इसके पौधे को परिपक्व होने और तैयार होने के लिए लगभग 10 सिंचाई की आवश्यकता होती है। इसके पौधों को धीमी पानी की पहली सिंचाई देनी चाहिए।

इसका कारण यह है कि जब तेज धाराओं से सिंचाई की जाती है तो बीज धुल जाते हैं और किनारे पर चले जाते हैं। पहली सिंचाई के बाद बची हुई सिंचाई 10 से 12 दिनों के अंतराल पर करनी चाहिए। लेकिन जब पौधे में फूल और दाने विकसित हों तो पानी की कमी न होने दें। ऐसा इसलिए है क्योंकि अगर पानी की सही मात्रा दी जाए तो अनाज ठीक और बड़ी मात्रा में होगा। इस प्रकार उपज भी अधिक होती है।

उर्वरक की मात्रा(amount of fertilizer)

सौंफ की खेती के लिए उर्वरक की आवश्यकता अन्य मसाला फसलों की तरह ही होती है। इसकी खेती के लिए शुरुआत में खेत की तैयारी करते समय पुराने गोबर के 12 से 15 vehicles को हल के साथ खेत में डालकर मिट्टी में अच्छी तरह मिला देना चाहिए। उसके बाद जब आखिरी खेत की जुताई की जाती है तो DAP की एक बोरी लगाई जाती है।

एक एकड़ के आधार पर खेत में छिड़काव करें। इसके अलावा सिंचाई के दौरान जब पौधा बढ़ने लगे तो तीसरी या चौथी सिंचाई के दौरान पौधों को 20 से 25 kg urea देना चाहिए। साथ ही जब पौधा फूलने लगे तो यूरिया की उतनी ही मात्रा पौधों पर सिंचाई के साथ दोबारा छिड़कें। इससे पौधे में पैदा होने वाले दाने अच्छे से बनते हैं।

खरपतवार नियंत्रण(weed control)

सौंफ की खेती खरपतवार नियंत्रण के लिए रासायनिक और प्राकृतिक तरीकों से की जा सकती है। इसकी खेती में रासायनिक खरपतवारों को नियंत्रित करने के लिए जैसे ही बीज नष्ट हो जाता है, पानी में उचित मात्रा में pendimethalin मिलाकर मिट्टी पर spary करें।

जबकि प्राकृतिक रूप से पौधों को फावड़ा कर खरपतवार नियंत्रित किया जाता है। इसके अंकुरों की पहली फावड़ा बीज बोने के 20 दिन बाद बोना चाहिए। पहली निराई हल्की हल्की करनी चाहिए। उसके बाद अन्य सभी फावड़ा पहले 15 दिनों के अंतराल पर करना चाहिए। सौंफ के पौधे के 3 से 4 फावड़े बनाना बेहतर होता है।

पौधों में लगने वाले रोग और उनकी रोकथाम(Plant diseases and their prevention)

सौंफ के पौधों में कम ही रोग लगते हैं. लेकिन कुछ कीट और virus जनित रोग होते हैं जो पौधे को अधिक नुक्सान पहुँचाते हैं.

कॉलर रॉट(collar rot)

रुके हुए पानी से सौंफ के पौधे पर collar rot का असर देखने को मिल रहा है. इस रोग में जमीन के पास पौधों का हिस्सा सड़ने लगता है। इससे पौधे की पत्तियों का रंग पीला पड़ने लगता है। जैसे-जैसे रोग का प्रभाव बढ़ता है, पौधा पूरी तरह से extinct हो जाता है। इस रोग से बचाव के लिए खेत में पानी जमा नहीं होना चाहिए। इसके अतिरिक्त यदि पौधा diseased हो तो जड़ों पर 1.0 % Bordeaux मिश्रण का छिड़काव करना चाहिए।

पाउडरी मिल्ड्यू(powdery mildew)

पाउडर फफूंदी कवक सचिया के रूप में भी जाना जाता है। रोग होने पर पौधे की पत्तियाँ भूरे रंग की दिखाई देती हैं। जैसे-जैसे इसका प्रभाव बढ़ता है, पौधों की वृद्धि रुक ​​जाती है और इसका प्रभाव उपज में दिखाई देता है। पौधों पर रोग का प्रभाव फरवरी और मार्च में देखा जाता है। इस रोग से बचाव के लिए पौधों पर गंधक का उचित मात्रा में छिड़काव करना चाहिए।

झुलसा (Scorched)

सौंफ के पौधों में यह रोग remuleria और alternaria कवक के कारण होता है। रोग की शुरुआत में पौधों पर छोटे भूरे धब्बे दिखाई देते हैं। यह धीरे-धीरे काला हो जाएगा। पौधों में रोग के बढ़ते प्रकोप के कारण फूलों के छत्ते में बीज नहीं बनते और बीज बनने पर बीज का आकार छोटा दिखाई देता है। इन्हें बहुत कम मात्रा में बनाया जाता है। इस रोग से बचाव के लिए mansobek का छिड़काव पौधों पर करना चाहिए।

पैदावार और लाभ(yield and profit)

सौंफ की विभिन्न किस्मों की औसत उपज 15 से 20 क्विंटल प्रति हेक्टेयर है। इसका बाजार भाव 5000 Rs प्रति क्विंटल है। इस हिसाब से किसान भाई एक बार में एक हेक्टेयर से एक लाख तक आसानी से कमा लेता है।

निष्कर्ष

सौंफ की खेती सुगंधित फसल के रूप में की जाती है। सौंफ के बीज हरे और छोटे होते हैं। सौंफ का सेवन इंसानों के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इसका उपयोग अचार और सब्जियों की सुगंध और स्वाद को बढ़ाने के लिए किया जाता है।

इसके अलावा मीठा खाना खाने के बाद खाना जल्दी पचने के लिए भी सौंफ का इस्तेमाल किया जाता है. सौंफ की खेती के लिए उपयुक्त मिट्टी की loam soil अच्छी मानी जाती है। जबकि उच्च Sandy soil में इसकी खेती नहीं की जा सकती है। सौंफ की खेती के लिए शुष्क और ठंडी जलवायु की आवश्यकता होती है। भारत में इसकी खेती सर्दियों में रबी फसलों के साथ की जाती है।

लेकिन कड़ाके की सर्दी और जाड़े की पाला इसकी खेती के लिए हानिकारक हो सकता है। सौंफ को सर्दियों में उगाया जा सकता है, लेकिन इसके दानों को पकने के लिए गर्मी की आवश्यकता होती है। सौंफ के पौधों को ज्यादा बारिश की जरूरत नहीं होती है। सौंफ की विभिन्न किस्मों की औसत उपज 15 से 20 क्विंटल प्रति हेक्टेयर है। इसका बाजार भाव 5000 Rs प्रति क्विंटल है। इस हिसाब से किसान भाई एक बार में एक हेक्टेयर से एक लाख तक आसानी से कमा लेता है।

Source: Agro Darpan

तो दोस्तों हमने सौंफ की खेती (Fennel Farming) कैसे करें की सम्पूर्ण जानकारी आपको इस लेख से देने की कोशिश की है उम्मीद है आपको यह लेख पसंद आया होगा अगर आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगी हो तो प्लीज कमेंट सेक्शन में हमें बताएँ और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें। Thanks for reading     

Leave a Comment

Your email address will not be published.