Strawberry-Ki-Kheti-Kaise-Karen

Strawberry Ki Kheti Kaise Karen

Strawberry Ki Kheti Kaise Karen: किसान अगर खेती से ज्यादा मुनाफा कमा रहे हैं | स्ट्रॉबेरी की खेती (strawberry farming) भी किसानों को अपनी ओर लुभा रही है। पहले ऐसी मान्यता थी कि इसकी पैदावार ठंडे प्रदेशों में ही संभव है, लेकिन अब अपेक्षाकृत गर्म प्रदेशों में भी इसकी पैदावार हो रही है और किसान इससे बंपर मुनाफा कमा रहे हैं। तो आइये जानते हैं स्ट्रॉबेरी की खेती (strawberry farming)  में पाए जाने वाले प्रमुख गुण और इसकी उन्नत खेती की विधि के बारे में |

Strawberry Ki Kheti Kaise Karen

स्ट्रॉबेरी (strawberry)  दुनिया भर में अपने अनोखे स्वाद के लिए जानी जाती है। यह हल्का खट्टा और स्वाद में थोड़ा मीठा होता है। यह दिखने में दिल के आकार का होता है। और इसका रंग चमकीला लाल होता है। यह फल सेहत के साथ-साथ स्वादिष्ट भी होता है। यह जैम, चॉकलेट, आइसक्रीम और मिल्कशेक में व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है।

आपको बता दें कि इसकी खेती में भी अपार ऊर्जा होती है। यदि आप अधिक लाभदायक खेती करना चाहते हैं तो स्ट्रॉबेरी की खेती (strawberry farming) आपके लिए सबसे अच्छा विकल्प है।

स्ट्रॉबेरी की खेती के लिए जलवायु(Climate)

स्ट्रॉबेरी ठंडी जलवायु वाली फसल है। इसे मैदानी इलाकों में भी सफलतापूर्वक उगाया जा सकता है। इसके लिए 20 से 30 degree temperature उपयुक्त होता है। temperature बढ़ने पर पौधे प्रभावित होते हैं और उपज प्रभावित होती है।

उपयुक्त मिट्टी(suitable soil) 

लगभग किसी भी प्रकार की मिट्टी में उगाया जा सकता है। हालांकि, रेतीली दोमट मिट्टी में स्ट्रॉबेरी का उत्पादन अधिक होता है। इसके लिए मिट्टी का ph 5.5 से 6.5 के बीच होना चाहिए। अपने नजदीकी कृषि विज्ञान या कृषि विभाग Agriculture Department में मृदा परीक्षण करवाना चाहिए।

बुवाई का समय (Strawberry Sowing Time)

कोई फर्क नहीं पड़ता कि कौन सी फसल बोई जाती है, बुवाई का एक निश्चित समय होगा, और फिर अच्छी पैदावार प्राप्त होगी तभी हमें उत्पादन अच्छा मिल पाता है तो ऐसे में अब Strawberry को लगाते हैं।तो इसके लिए सबसे अच्छा समय 10 सितंबर से लेकर 15 अक्टूबर तक अच्छा रहता है इसी बीच हम Strawberry लगा सकते हैं क्योंकि इसी समय Temperature सबसे अच्छा रहता है।

निराई-गुड़ाई(Weeding hoeing)

स्ट्रॉबेरी के पौधे लगाने के कुछ देर बाद ही उनके आसपास तरह-तरह के खरपतवार उग आएंगे। वे पोषक तत्वों, स्थान, आर्द्रता और हवा के लिए पौधों के साथ प्रतिस्पर्धा करते हैं। इसके अलावा, वे विभिन्न प्रकार के कीटों और बीमारियों के लिए आश्रय प्रदान करते हैं। अक्टूबर में लगाए गए पौधे नवंबर में फूटने लगेंगे। बुवाई शुरू होने पर खेत में कुदाल से खरपतवारों को हटा देना चाहिए।

सिंचाई और उर्वरक(Irrigation and Fertilizers)

रोपण के बाद ड्रिप या स्प्रेयर से सिंचाई करें। इसके बाद समय-समय पर नमी को ध्यान में रखकर पानी देना जरूरी है। स्ट्रॉबेरी Strawberry से अच्छी उपज प्राप्त करने के लिए उर्वरक आवश्यक है। आप मिट्टी और स्ट्रॉबेरी के प्रकार के आधार पर खाद डाल सकते हैं। इसके लिए आपको कृषि वैज्ञानिकों Agricultural Scientist की सलाह लेनी चाहिए। रोपण के डेढ़ महीने बाद, स्ट्रॉबेरी Strawberry फलने लगती है, और यह प्रक्रिया चार महीने तक चलती है। यदि फल का रंग आधे से अधिक लाल हो तो उसे तोड़ लें।

बेड तैयार करना (bed making)

खेत में आवश्यक खाद डालने के बाद क्यारी बनाने के लिए क्यारी की चौड़ाई चारपाई से ढाई फुट होनी चाहिए। एक बार क्यारी तैयार हो जाए, उसके ऊपर ड्रिप irrigation पाइप लगा दें। रोपण के लिए plastic गीली घास में 20 से 30 सेमी की दूरी पर छेद कर दें। स्ट्रॉबेरी Strawberry के पौधे लगाने का सबसे अच्छा समय 10 सितंबर से 15 अक्टूबर तक है। यदि Temperature ज्यादा हो तो पौधे सितंबर लास्ट तक लगा लें।

खेती का सही समय और तैयारी

स्ट्राबेरी Strawberry की बुवाई सितम्बर से नवम्बर तक की जाती है। सितंबर के पहले सप्ताह में तीन बार खेत की जुताई करें, फिर गाय के गोबर से छिड़कें और मिट्टी में मिला दें। मिट्टी परीक्षण के आधार पर खेत तैयार करते समय potash और Phosphorus को भी मिलाना चाहिए।

स्ट्रॉबेरी की उन्नत किस्में(Strawberry varieties) 

 स्ट्रॉबेरी भारत के बागवानी (gardening)में एक नया फल है। इसकी अधिकांश किस्में दूसरे देशों से आयात की जाती हैं। हमारे देश में Winter Down, Winter Star, Ophra, Camarosa, Chandler, Sweet Charlie, Black Peacock, Elista, Siscafe, Fair Fox जैसी किस्मों की खेती मुख्य रूप से की जाती है।

कीट और रोग(pests and diseases)

स्ट्रॉबेरी की फसल को कई तरह के कीट और रोग नुकसान पहुंचाते हैं। इससे उपज में काफी कमी आती है। स्ट्रॉबेरी की खेती में Thrips, Red spider, Black spot, Gray mold, Chafer, Strawberry, Juice beetle प्रमुख रोग हैं। रोगों से बचाव के लिए नीम की खली को पौधों की जड़ों पर लगाएं। इसके अलावा, समय-समय पर कृषि वैज्ञानिकों से परामर्श कर कीटनाशकों का छिड़काव करें।

स्ट्रॉबेरी की तुड़वाई (Strawberry plucking)

यदि फल का रंग 70 प्रतिशत ओरिजिनल हो जाए तो उसे तोड़ लेना चाहिए। अगर बाजार दूर है, तो इसे थोड़ा और तोड़ना चाहिए। अलग-अलग दिनों में तोड़ा जाना है। स्ट्रॉबेरी फल पसंद नहीं है। प्रति हेक्टेयर औसतन सात से बारह टन फल उपलब्ध होते हैं।

पैकिंग (Strawberry Packaging)

स्ट्रॉबेरी की खेती (strawberry farming)में इसकी बेकिंग बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह एक बहुत ही नाजुक पौधा है और यह एक नाजुक फल है, इसलिए कटाई के बाद इसे पकाना बहुत जरूरी है। इसलिए हम इसके लिए packaging करते हैं। इसके लिए आप plastic की ट्रे का इस्तेमाल कर सकते हैं, इसे लगाना चाहिए। बेक करने से पहले हवादार जगह पर। उसके बाद इसको निश्चित Temperature 5 degree to 0 degree मे इसको रखनी चाहिए जिससे यहां कुछ दिनों तक अच्छा रह सके तो यह ध्यान आपको रखनी पड़ेगी।  

पैदावार और कमाई (production and earnings)

स्ट्रॉबेरी फलों की उपज कई कारकों पर निर्भर करती है। उदाहरण के लिए, उगाई गई किस्म, जलवायु, मिट्टी की स्थिति, पौधों की संख्या, फसल प्रबंधन आदि। यदि फसल का उचित रखरखाव और रखरखाव किया जाए तो यह प्रति एकड़ 80 से 100 क्विंटल फल पैदा कर सकती है। एक पौधे से 800-900 ग्राम फल प्राप्त किया जा सकता है। आमतौर पर एक एकड़ स्ट्रॉबेरी की फसल की कीमत 2-3 लाख रुपये होती है। कटाई के बाद लागत में 5-6 लाख रुपये का लाभ होगा।

Credit: AGRIL CAREER

निष्कर्ष

स्ट्रॉबेरी में विटामिन होने के कारण इनकी मांग काफी बढ़ गई है क्योंकि स्ट्रॉबेरी में विटामिन सी, विटामिन ए और विटामिन के होता है, जो स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होता है। चाहे कोई भी फसल हो, चाहे कोई भी सब्जी हो, अगर कोई किसान उसमें फसल लगाता है, तो उससे एक निश्चित लाभ प्राप्त करना बहुत जरूरी है, इसलिए यदि आप स्ट्रॉबेरी उगाते हैं, तो आपको इतनी मुश्किलें नहीं होंगी।

इसे भी पढ़े:

Strawberry के पौधे लगाने का सही समय 10 सितम्बर से 15 अक्टूबर तक अच्छा होता है। यदि तापमान ज्यादा हो तो पौधे सितम्बर ke आखिरी तक लगा सकते है।

मुझे उम्मीद है कि आपको हमारे द्वारा प्रदान की गई स्ट्रॉबेरी की खेती के बारे में यह जानकारी पसंद आई होगी। अगर आपको पोस्ट अच्छी लगी हो तो हमें कमेंट सेक्शन में बताएं और अपने दोस्तों के साथ शेयर करें।

Leave a Comment

Your email address will not be published.