Tambaku Ki Kheti kaise Kare

तम्बाकू की खेती  कैसे करें? – Tambaku Ki Kheti kaise Kare

Tambaku Ki Kheti kaise Kare: तम्बाकू की खेती एक नकदी फसल है जो किसानों को कम समय में और कम लागत पर अधिक लाभ देती है। यह सोलानेसी परिवार से संबंधित है। इसका वैज्ञानिक नाम Nicotiana Tabacum है और इसका सामान्य नाम कैनी, सुरती, मीठा जहर है।

यदि आप ज़्यादा profits की खेती करना चाहते हैं, तो तम्बाकू की खेती (Tobacco cultivation)आपके लिए बेहतर विकल्प है।

Tambaku Ki Kheti kaise Kare

तम्बाकू को एक औषधि के रूप में जाना जाता है। इसकी खेती कम लागत और अधिक बचत पर की जाती है। तंबाकू का सेवन सेहत के लिए बहुत हानिकारक होता है। तंबाकू को सुखाकर धूम्रपान और धूम्रपान न करने वाली दवाओं में इस्तेमाल किया जाता है। तम्बाकू का उपयोग सिगरेट, बीड़ी, सिगार, पान मसाला, जर्दा और कैनी बनाने में किया जाता है। इन सभी का उपयोग आज के युग में अधिक से अधिक होने लगा है।

भूमि  कैसी होनी चाहिए?

Red मिट्टी और हल्की Loam मिट्टी तंबाकू की खेती के लिए बहुत उपयुक्त होती है। इसकी खेती के लिए मिट्टी में जलभराव नहीं होना चाहिए। रुके हुए पानी से इसके पौधे खराब हो जाएंगे। इस प्रकार उपज में अंतर होता है। इसकी खेती के लिए पीएच 6 से 8 के बीच होता है।

सिंचाई कैसे करें ?

तंबाकू के पौधों की पहली सिंचाई रोपण के तुरंत बाद की जानी चाहिए। पहली सिंचाई के बाद इसके पौधों को 15 दिन में एक बार हल्की पानी देना चाहिए। इससे पौधे का विकास अच्छा होता है। एक बार जब इसका पौधा कटाई के लिए तैयार हो जाता है, तो लगभग 15 से 20 दिन पहले इसकी पानी देना बंद कर देना चाहिए।

जलवायु और तापमान कितना होना चाहिए ?

तंबाकू की खेती के लिए ठंडी और शुष्क जलवायु की आवश्यकता होती है। इसकी खेती के लिए अधिकतम 100 cm वर्षा पर्याप्त होती है। इसके पौधे को विकास के लिए अधिक ठंडक की आवश्यकता होती है। जबकि पौधे के पकने पर तेज धूप की जरूरत होती है। समुद्र तल से लगभग 1800 mtr की ऊंचाई पर खेती की जाती है।

इसके पौधे को अंकुरित होने के लिए लगभग 15 डिग्री तापमान की आवश्यकता होती है। और वृद्धि के लिए लगभग 20 डिग्री तापमान की आवश्यकता होती है। लेकिन जब पौधे की पत्तियां पक जाती हैं तो उसे उस समय उच्च तापमान और तेज धूप की जरूरत होती है।

उन्नत किस्में (improved varieties)

वर्तमान में तंबाकू के कई प्रकार हैं। वे मुख्य रूप से दो प्रकारों में विभाजित हैं। सिगरेट, सिगार और हुक्का तंबाकू में पाए जाने वाले nicotine की मात्रा के आधार पर बनाया जाता है।

निकोटिना टुवैकम(Nicotina Tuvakam)

इस प्रजाति की अधिकांश किस्में भारत में ही पैदा की जाती हैं। इस जीनस के पौधों में लम्बे और चौड़े पत्ते होते हैं। पौधों पर फूलों का रंग गुलाबी होता है। उपज अधिक है। इस प्रजाति के प्रकार आमतौर पर सिगरेट, सिगार, हुक्का और बीट्स के निर्माण में उपयोग किए जाते हैं।

MP 220, Type 23, Type 49, Type 238, Patuwa, Farrukhabad Local, Motihari, Calcutta, PN 28, NPS 219, Patiali, C 302 Lakra, Dhandayi, Kanakaprabha, CTRI, NPS, Chasanthan, Special, GSH 2131 स्पेशल, वर्जीनिया सहित सोना, जशरी जैसे कई प्रकार के होते हैं।

निकोटीन रस्टिका(nicotine rustica)

इस किस्म के पौधे छोटे और पत्ते सूखे और भारी होते हैं। इस प्रजाति की किस्में अत्यधिक सुगंधित होती हैं। सूखने के बाद इनका रंग काला दिखाई देगा। इस प्रजाति की किस्मों को ठंडा करने की अत्यधिक मांग है। इस प्रजाति के प्रकारों का उपयोग खाने और सूंघने के लिए किया जाता है।  इसके अलावा इन्हें हुक्का पर भी इस्तेमाल किया जा सकता है। इनमें PD76, हरि पांडी, कोइनी, सुमित्रा, कंदक पहाड़, BN70, NP35, प्रभात, रंगपुर, हयात वार्ले, भाग्य लक्ष्मी, सोना और DG3 शामिल हैं।

उर्वरक की मात्रा कितनी होनी चाहिए?

तम्बाकू के पौधे को मध्यम उर्वरक की आवश्यकता होती है। प्रारंभ में खेत की जुताई करते समय पुराने गोबर से लगभग 10 गाड़ियां प्रति एकड़ की दर से compost खाद बनानी चाहिए। इसके अलावा रासायनिक खाद डालने के लिए 80 kg/हेक्टेयर powder, phosphate 150 kg /हेक्टेयर, potash 45 kg /हेक्टेयर और calcium 86 kg /हेक्टेयर अंतिम जुताई से पहले खेत में छिड़काव करें। Tambaku Ki Kheti kaise Kare

खरपतवार नियंत्रण कैसे करें?

तंबाकू की खेती में पौधे शुरुआत में बिना खरपतवार के अच्छी तरह विकसित होते हैं। इसलिए तंबाकू की खेती में खरपतवार नियंत्रण के लिए पौध लगाने के बाद दो से तीन बार निराई-गुड़ाई करनी चाहिए। इसकी पहली निराई बुवाई के 20 से 25 दिन बाद करनी चाहिए। फिर बची हुई गुड़ाई 15 से 20 दिनों के अंतराल पर करें।

रोग एवं कीट प्रबंधन

तंबाकू का पौधा कई तरह की बीमारियों से ग्रस्त होता है। इससे इसकी पत्तियों को नुकसान होगा। इससे इसकी उपज प्रभावित होती है।

पर्ण चित्ती(leaf spot)

तंबाकू के पौधों में leaf spot रोग अक्सर सर्दियों में भीषण ठंड और शीत लहर के कारण होता है। रोग लगने पर पौधे की पत्तियों पर भूरे धब्बे दिखाई देने लगते हैं। कुछ दिनों के बाद उनके बीच छेद बनने लगते हैं। जिससे उपज कम हो जाती है। इस रोग से बचाव के लिए पौधों पर 50 वाट फेनोमिल लगाएं। बी की उचित मात्रा का छिड़काव करें।

ठोकरा परपोषी(stub host)

एक प्रकार का मेजबान खरपतवार। लेकिन इससे इसके पौधों को ज्यादा नुकसान होता है। जिससे पौधे का विकास रुक जाता है। जैसे-जैसे यह आगे पकने की तैयारी करता है, पौधे का वजन कम होता जाता है। इससे बचने के लिए एक बार खेत की धूल उड़ जाए तो उसे उखाड़कर खेत के बाहर गाड़ देना चाहिए।

तना छेदक(stem borer)

तम्बाकू के पौधों में तना छेदक रोग किट द्वारा फैलता है। इसके सेट के लार्वा पौधे के तनों को अंदर से खा जाते हैं और गड्ढों में बदल देते हैं। इससे पौधा जल्दी सूख जाता है और मर जाता है। रोग की शुरुआत में पौधा सड़ने लगता है। और पत्तियाँ पीली पड़ने लगती हैं। रोग से बचाव के लिए पौधे पर Profenophos या Carbine का छिड़काव करना चाहिए।

सुंडी रोग(caterpillar disease)

सुंडी को इल्ली और गिटार भी कहा जाता है। इस रोग के लार्वा पौधे के नाजुक भागों को खा जाते हैं और उपज को कम कर देते हैं। इसका रंग लाल, हरा, काला आदि है। जिसकी लंबाई एक cm के आसपास पाई जाती है। रोग को रोकने के लिए उचित मात्रा में पौधों पर propanophos या pyrifos का छिड़काव करना चाहिए।

पैदावार और लाभ

तंबाकू उत्पादों को बेचने में ज्यादा दिक्कत नहीं होती है। क्योंकि इसकी फसल खेतों से बिकती है। बड़े व्यापारी तैयार होते ही खरीद लेते हैं। व्यापारी एक एकड़ तंबाकू 1.5 से 2 lakh Rs में खरीदते हैं। इससे किसान भाई 3 से 4 महीने में प्रति एकड़ एक से 1.5 lakh की शुद्ध आय अर्जित करते हैं।

निष्कर्ष

तम्बाकू की खेती एक नकदी फसल है जो किसानों को कम समय और कम लागत में अधिक लाभ देती है। यह सोलानेसी परिवार से संबंधित है। इसका वैज्ञानिक नाम Nicotiana Tabacum है और इसका सामान्य नाम कनी, सुरती, मीठा जहर है। तम्बाकू का उपयोग सिगरेट, बीड़ी, सिगार, पान मसाला, जर्दा और बेंत बनाने के लिए किया जाता है। Tambaku Ki Kheti kaise Kare

इन सभी का आज व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। Red मिट्टी और हल्की Loam मिट्टी तंबाकू की खेती के लिए बहुत उपयुक्त होती है। तंबाकू की खेती के लिए ठंडी और शुष्क जलवायु की आवश्यकता होती है। इसकी खेती के लिए अधिकतम 100 cm वर्षा पर्याप्त होती है। तम्बाकू के पौधे को मध्यम उर्वरक की आवश्यकता होती है। तंबाकू की खेती में, पौधे शुरू में बिना खरपतवार के अच्छी तरह विकसित होते हैं।

 इसलिए तंबाकू की खेती में खरपतवारों को नियंत्रित करने के लिए रोपण के बाद दो से तीन बार निराई-गुड़ाई करनी चाहिए। व्यापारी एक एकड़ तंबाकू 1.5 से 2 lakh Rs में खरीदते हैं। इससे किसान भाई 3 से 4 महीने में एक से 1.5 lakh प्रति एकड़ की शुद्ध कमाई कर लेते हैं।

यह भी पढ़े:

Source: Smart Kisan

तो दोस्तों हमने तम्बाकू की खेती कैसे करें (Tambaku Ki Kheti kaise Kare) की सम्पूर्ण जानकारी आपको इस लेख से देने की कोशिश की है उम्मीद है आपको यह लेख पसंद आया होगा अगर आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगी हो तो प्लीज कमेंट सेक्शन में हमें बताएँ और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें।

Thanks for reading

Leave a Comment

Your email address will not be published.